वीडियोः काफिले के साथ रांची आए तेजप्रताप, केली बंगले में मिले लालू से, उठे सवाल, लॉकडाउन की उड़ाई धज्जियां

वीडियोः काफिले के साथ रांची आए तेजप्रताप, केली बंगले में मिले लालू से, उठे सवाल, लॉकडाउन की उड़ाई धज्जियां
Publicbol
पीबी ब्यूरो ,   Aug 27, 2020

चारा घोटाले में सजायाफ्ता राजद प्रमुख लालू यादव से आज उनके बड़े बेटे और बिहार में विधायक तेजप्रताप यादव ने मुलाकात की. लालू अभी रिम्स में निदेशक के खाली बंगले में हैं. इसे केली बंगले के नाम से जाना जाता है. 

इससे पहले बुधवार की देर रात तेजप्रताप यादव बिहार से पूरे लाव- लश्कर के साथ सड़क मार्ग होते हुए रांची पहुंचे. 

गौरतलब है कि कोरोना के खतरे को देखते हुए लालू को रिम्स के पेइंग वार्ड से केली बंगले में शिफ्ट किया गया है.

मुलाकात से पहले तेजप्रताप यादव का रिम्स में कोरोना की जांच की गई. जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद वे पिता से मिलने दिन के करीब डेढ़ बजे बंगले के अंदर गए. 

वे करीब एक घंटे तक पिता के साथ रहे. तब तक तेजप्रताप के साथ बिहार से आए कार्यकर्ता, समर्थक और झारखंड के राजद कार्यकर्ता बंगले के बाहर रहे. 

इसे भी पढ़ें: पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह को झारखंड हाईकोर्ट से राहत नहीं, उम्र कैद की सजा बरकरार

रिम्स परिसर में तेजप्रताप के साथ गाड़ियों का काफिला और राजद के कार्यकर्ता, समर्थक भी बड़ी संख्या में पहुंचे थे.

पिता से मिलकर बाहर निकले तेजप्रताप ने मीडिया के सवालों का जवाब भी दिया. उन्होंने इस बात से इनकार किया कि पार्टी के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह नाराज हैं. 

तेजप्रताप ने कहा कि यह सब मीडिया का कामधाम है, जो कुछ का कुछ दिखाता और बताता रहता है. रघुवंश प्रसाद सिंह को उन्होंंने अपना चाचा बताया. साथ ही दावा किया कि जदयू के कई विधाायक राजद के संपर्क में हैं और वे जल्दी ही पाला बदल कर इधर आएंगे. 

पिता से क्या बातें हुई, इस सवाल पर तेजप्रताप ने कहा, हमने उनका हालचाल जाना. वे ठीक हैं. बहुत दिनों से मिले नहीं थे. इसलिए आए. तेज ने झारखंड में गठबंधन की सरकार के कामकाज को सराहा. साथ ही मीडिया वालों से कहा कि हेमंत सरकार के अच्छे काम को बताइए.

बिहार चुनाव के सवाल पर तेज ने कहा, "तेजस्वी यादव जी और लालू प्रसाद जी मिलकर रणनीति तय करेगे. समीक्षा जारी है. कोरोना और बाढ़ को लेकर बिहार बेहाल है. चुनाव का यह वक्त नहीं है. फिर भी अगर चुनाव होगा, तो हमलोग भी कूदेंगे". 

उन्होंने नीतीश कुमार की सरकार को बाढ़ और कोरोना की मुश्किलों से निपटने में पूरी तरह से विफल बताया. 

रिम्स परिसर में समर्थकों का हंगामा

तेजप्रताप के रिम्स पहुंचने के बाद सड़क जाम को लेकर बिहार से आए उनके समर्थकों की एक करार वाले से तीखी नोंकझोंक हो गई. 

इसके बाद रांची के राजद कार्यकर्ताओं ने भी कार वालों को घेर लिया. और जमकर  डांट-फटकार की. 

दरअसल, कार सवार युवक सड़क पर गाड़ियों की कतार और जाम हटवाने के लिए कार से डंडा निकालने लगा. और आम लोगों ने भी रोड जाम का विरोध किया. इस दौरान राजद के समर्थक एकजुट होकर कार सवार से भिड़ गए.

कार सवार भी कुछ देर तक सड़क जाम करने के विरोध में अड़ा रहा, लेकिन चारों तरफ से घिर जाने के बाद हाथ जोड़कर भीड़ से निकल लिया. राजद के एक नेता ने आरोप लगाया कि कार वाला युवक बीजेपी का समर्थक था. राजद नेता ने यह भी कहा कि बीजेपी वालों का पता है कि बिहार में भी उनकी सत्ता जाने वाली है.  

इसे भी पढ़ें: JEE-NEET की परीक्षा के लिए छात्रों को मजबूर नहीं किया जाना चाहिएः सोनू सूद

बीजेपी के आरोप 

इस बीच बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने एक ट्वीट कर कहा है कि एक सजायाफ्ता कैदी को एक एकड़ के बंगले में रखा जा रहा है और वहांं रोज दरबार भी लग रहे हैं. कोरोनाकाल में इनके पुत्र सैंकड़ों लोगों के साथ बिहार से रांची पहुंचते हैं और झारखंड की सरकार मूकदर्शक बनी है. नियम और कानून सिर्फ जनता के लिए है. 

इससे पहले  बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने एक वीडियो ट्वीट पर साझा कर सवाल खड़ा किया है कि लॉकडाउन में कैसे तेजप्रताप नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं. 
गौरतलब है कि लालू को अस्पताल से केली बंगले में शिफ्ट किए जाने पर बीजेपी ने पहले भी आरोप लगाया था कि रिमोट से बिहार चुनाव की तैयारी करने के लिए लालू को ये छूट दी गई है. 

बिहार में अक्तूबर- नवंबर महीने में चुनाव हो सकते हैं. हाल ही में पार्टी के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह के खिलाफ तेजप्रताप ने तल्ख टिप्पणी की थी. राजद के सूत्रों के अनुसार लालू प्रसाद ने तेज प्रताव से स्पष्ट तौर पर कहा कि बिहार चुनाव के समय कोई भी बयान देने में वह सावधानी बरतें. ज्ञातव्य है कि लोजपा के टिकट पर वैशाली से 2014 का लोकसभा चुनाव जीतने वाले रामा किशोर सिंह को राजद में शामिल किये जाने की तैयारी को देखते हुए रघुवंश प्रसाद सिंह ने राजद के उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था. इधर तेज के ससुर चंद्रिका राय समेत तीन विधायक जदयू में चले गए हैं. तेजप्रताप ने ससुर पर भी निशाना साधा था. 

लिहाजा पिता लालू से तेजप्रताप की इस मुलाकात के मायने निकाले जा रहे हैं. राजद के लोग बताते हैं कि लालू ने बातचीत के दौरान तेजप्रताप को समझाया भी है कि चुनाव में कैसे चलना है. 

बुधवार की रात हरनौत से रांची के लिए रवाना होते समय तेजप्रताप यादव ने कहा था कि पिता जी को देखने जा रहा हूं. बहुत दिनों से नहीं गया था. उनके स्वास्थ्य का हालचाल लेना है. चुनाव का भी माहौल है. पार्टी की रणनीति क्या होगी, इस संबंध में तेजस्वी यादव के साथ चर्चा हो रही है. 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
जेडीयू के दफ्तर में सीएम नीतीश से मिले गुप्तेश्वर पांडेय, 'सुशासन' की तारीफ की
जेडीयू के दफ्तर में सीएम नीतीश से मिले गुप्तेश्वर पांडेय, 'सुशासन' की तारीफ की
 मनमोहन सिंह की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत: राहुल
मनमोहन सिंह की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत: राहुल
झारखंडः सरना कोड की मांग पर गोलबंद होते आदिवासी संगठन, 15 अक्तूबर को राज्य व्यापी चक्का जाम करेंगे
झारखंडः सरना कोड की मांग पर गोलबंद होते आदिवासी संगठन, 15 अक्तूबर को राज्य व्यापी चक्का जाम करेंगे
पता नहीं, पीएम मोदी देश को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं, कृषि विधेयक सबसे बड़ा प्रहारः हेमंत सोरेन
पता नहीं, पीएम मोदी देश को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं, कृषि विधेयक सबसे बड़ा प्रहारः हेमंत सोरेन
गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का निधन, मखमली आवाज से प्रशंसकों के दिलों पर दशकों तक राज किए
गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का निधन, मखमली आवाज से प्रशंसकों के दिलों पर दशकों तक राज किए
बिहार विधानसभा चुनाव का बिगुल बजाः 28 अक्तूबर से तीन चरणों में मतदान, 10 नवंबर को नतीजे
बिहार विधानसभा चुनाव का बिगुल बजाः 28 अक्तूबर से तीन चरणों में मतदान, 10 नवंबर को नतीजे

Stay Connected

Facebook Google twitter