ये झारखंड हैः प्रसव पीड़ा से तड़पती आदिवासी महिला डीएमसीएच से रेफर, पेट में बच्चा मरा

ये झारखंड हैः प्रसव पीड़ा से तड़पती आदिवासी महिला डीएमसीएच से रेफर, पेट में बच्चा मरा
Publicbol
पीबी ब्यूरो ,   May 31, 2020

प्रसव के लिए दुमका मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल पहुंची गरीब आदिवासी महिला कालीदासी मरांडी को घर से निकलते वक्त रत्ती भर का अहसास नहीं था कि उन्हें कुछ ही घंटों में उस हादसा का सामना करना होगा, जो ताउम्र टीस देता रहेगा. 

उन्हे यह भी पता नहीं था कि बड़े सरकारी अस्पताल से उसे रेफर किया जाएगा.

इस अस्पताल से रेफर के बाद कालीदासी को स्थानीय उर्सला नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया. डॉक्टरों के अथक प्रयास से प्रसूता की जान तो बच गई, पर बच्चा पेट में ही मर गया.

झारखंड के सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य व्यवस्था बेपटरी होने की यह बानगी भर है. कोई दिन खाली नहीं जाता, जब राज्य के किसी हिस्से से इस तरह की दर्दनाक घटना सामने नहीं आती हो. 

डीएमसीएच पूरे संतालपरगना का सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल है.

इसे भी पढ़ें: चक्रधरपुरः सर्च ऑपरेशन के दौरान नक्सली हमले में एसडीपीओ का बॉडीगार्ड शहीद, एक एसपीओ की भी मौत

राज्य में स्वास्थ्य व्यवस्था को दुरूस्त करने और लोगों की मुकम्मल इलाज को लेकर ही सरकार ने हजारीबाग, पलामू और दुमका में मेडिकल कॉलेज बनाया है. 

दुमका सदर अस्पताल को अपग्रेड कर मेडिकल कॉलेज बना दिया गया, पर अब यह अस्पताल रेफर करने वाला अस्पताल के तौर पर जाना जाता है. हालांकि अस्पताल के महिला और प्रसूति विभाग में नौ डॉक्टर हैं. 

कालीदासी मरांडी की स्थिति के बारे में डीएमसीएच के अधीक्षक डॉ रवींद्र कुमार ने कहा है कि महिला को खून की कमी थी और इस अस्पताल में कोई बढ़िया एनेथेसिस्ट नहीं है. बड़े ऑपरेशन के लिए विशेषज्ञ की जरूरत थी. इसलिए कालीदासी को रेफर किया गया. 

28 साल की यह आदिवासी महिला मसलिया की रहने वाली हैं. शुक्रवार की शाम 5.32 बजे उन्हें डीएमसीएच में डॉ श्वेता के वार्ड भर्ती कराया गया था.

रात आठ बजे जब उसे रेफर किया जा रहा था, तो वह प्रसव पीड़ा से कराह रही थी.रक्त स्त्राव भी हो रहा था. हायर सेंटर रेफर का कारण ऑब्सट्रक्टेड लेबर बताया गया. 

कालीदासी के साथ घर से आईं एक महिला तीमारदार के दोनों हाथों में स्लाइन का बोतल था. उसी से पानी चढ़ता रहा. वे जतन से स्लाइन के बोतल को संभाले हुई थीं. बीच- बीच में कालीदासी को सहारा देने की कोशिशें करती रही. 

एक सामाजिक कार्यकर्ता मृणाल मिश्रा ने एंबुलेंस के लिए पहल की. तुरंत उपलब्ध नहीं हो सका, तो वे मशक्कत करते रहे. इसके बाद उर्सला नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया. 

नर्सिंग होम के डॉक्टरों और नर्सों ने तुरंत इलाज शुरू की. लेकिन उनका कहना था कि बच्चादानी फट गया था. गर्भ में ही शिशु की जान चली गई. हालांकि कालीदासी को बचा लिया गया है. 

सामाजिक कार्यकर्ता मृणाल मिश्रा बताते हैं कि सुदूर गांव से उपराजधानी के सबसे बड़े अस्पताल में पहुंची आदिवासी महिला की बेबसी की यह दास्तां सरकारी अव्यवस्था को उजागर करने के लिए काफी है.

गनीमत यह रही कि जच्चा की जान बचाई जा सकी. अभी वो ठीक स्थिति में है. लेकिन पूरा परिवार बेहद आहत है. 

हाल ही में हजारीबाग मेडकिल कॉलेज हॉस्पिटल में इलाज के लिए लाए गए इचाक के एक प्रवासी मजदूर को डॉक्टरों ने हाथ तक नहीं लगाया. उसे दूसरे अस्पताल में जाने को कहा गया. वहां भी उसे भर्ती नहीं लिया गया. बाद में उसकी मौत हो गई. 

इसे भी पढ़ें: गिरिडीह डाकघर से 11 करोड़ की फर्जी निकासी, जांच सीबीआई करेगी

इस घटना के बाद हजारीबाग मेडकिल कॉलेज के अधीक्षक तथा सिविल सार्जन का तबादला कर दिया गया था. साथ ही उपायुक्त ने जांच बैठाई थी. 

 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

आईपीएल 2020 के रंग में धौनी, साथियों के साथ चेन्नई पहुंचे
आईपीएल 2020 के रंग में धौनी, साथियों के साथ चेन्नई पहुंचे
वैक्सीन पर उठते सवालों के बीच रूस का दावा, दो सालों तक छू नहीं सकेगा वायरस
वैक्सीन पर उठते सवालों के बीच रूस का दावा, दो सालों तक छू नहीं सकेगा वायरस
राजस्थान विधानसभा में बोले सचिन पायलट, मैं जब तक बैठा हूं, सरकार सुरक्षित है
राजस्थान विधानसभा में बोले सचिन पायलट, मैं जब तक बैठा हूं, सरकार सुरक्षित है
वकील प्रशांत भूषण अवमानना के मामले में दोषी करार, सजा पर सुनवाई 20 अगस्त को
वकील प्रशांत भूषण अवमानना के मामले में दोषी करार, सजा पर सुनवाई 20 अगस्त को
तेजस्वी ने नीतीश और उनके मंत्री को घेरा, कोरोना के आंकड़ों पर पूछा- कौन सच्चा कौन झूठा?
तेजस्वी ने नीतीश और उनके मंत्री को घेरा, कोरोना के आंकड़ों पर पूछा- कौन सच्चा कौन झूठा?
झारखंडः पीटीआई के ब्यूरो चीफ पीवी रामानुजम ने खुदकुशी कर ली
झारखंडः पीटीआई के ब्यूरो चीफ पीवी रामानुजम ने खुदकुशी कर ली
 जीडीपी में गिरावट की नारायणमूर्ति की आंशका पर राहुल का तंज: ‘मोदी है तो मुमकिन है’
जीडीपी में गिरावट की नारायणमूर्ति की आंशका पर राहुल का तंज: ‘मोदी है तो मुमकिन है’
जानिए क्यों मिला खूंटी के दारोगा पुष्पराज को केंद्रीय गृह मंत्री पदक सम्मान
जानिए क्यों मिला खूंटी के दारोगा पुष्पराज को केंद्रीय गृह मंत्री पदक सम्मान
अलीगढ़ः बीजेपी विधायक का आरोप, पुलिस ने पीटा, कार्यकर्ताओं ने थाना घेरा, तनाव
अलीगढ़ः बीजेपी विधायक का आरोप, पुलिस ने पीटा, कार्यकर्ताओं ने थाना घेरा, तनाव
रूस की कोरोना वैक्सीन के बारे जानकारों की अलग-अलग राय?
रूस की कोरोना वैक्सीन के बारे जानकारों की अलग-अलग राय?

Stay Connected

Facebook Google twitter