गुजरात से लौट रहे आदिवासी प्रवासी की रास्ते में मौत, लाश के साथ दुमका पहुंचे साथी मजदूर

गुजरात से लौट रहे आदिवासी प्रवासी की रास्ते में मौत, लाश के साथ दुमका पहुंचे साथी मजदूर
Photo- Niraj Kumar Singh
पीबी ब्यूरो ,   May 24, 2020

झारखंड में प्रवासी मजदूरों की अलग- अलग हादसे और वजहों से मौत का सिलसिला जारी है. ताजा घटना दुमका जिले की है. गुजरात से बस पर लौट रहे एक मजदूर शिवलाल किस्कू ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया. 

सुबह अन्य मजदूर साथी शिवलाल की लाश के साथ बस से उतरे. जबकि कुछ मजदूर घबराकर दुमका पहुंचने से पहले ही बस से उतर कर फरार हो गए. 

जबकि नौ लोग प्रवासी मजदूर की लाश के साथ दुमका पहुंचे, जिन्हें आवश्यक जांच के बाद आइसोलेशन वार्ड में भेजा गया है. 

30 साल के शिवलाल किस्कू रामगढ़ प्रखंड के गुड्ढाचापड़ गाव के रहने वाले थे. 

इधर घर वालों को मौत की खबर मिली, तो मातम पसर गया.  शिवलाल की पत्नी बिटी मरांडी, भाई लखीराम किस्कू, भाभी महारानी टुडू एवं दो छोटे बच्चे अस्पताल पहुंचे. सभी का रो-रोकर बुरा हाल है.

इसे भी पढ़ें: ओरैया में हुए सड़क हादसे में बोकारो के एक और घायल मजदूर की मौत

घटना के बारे में प्रवासी मजदूर के साथी दिनू मुर्मू ने बताया कि सभी लोग अपने बूते भाड़ा देकर शुक्रवार को गुजरात से चले थे. प्रति व्यक्ति  6 हजार रूपये किराया देना पड़ा. कई लोगों ने घर से पैसे मंगाए थे. 

35 मजदूरों का कुल 2 लाख 10 हजार चुकता किया गया था. सभी लोग दुमका के अलग- अलग गांवों के रहने वाले थे. 

शिवलाल तीन वर्षो से गुजरात में पाईप फैक्ट्री में काम करते थे. बीते सोहराय पर्व मनाकर गांव से वापस गुजरात काम पर लौटे था.

इस बीच लॉकडाउन के चलते काम बंद हो गया. जैसे- तैसे सभी मजदूर दिन गुजारते रहे. वापसी की कहीं से कोई मदद नहीं मिलने के बाद अपने पैसे से लौटने की सबने सहमति बनाई. 

दिनू बताते हैं कि करीब दो माह से शिवलाल की तबीयत खराब रह रही थी. उसे पीलिया था. लॉकडाउन में उसकी तबीयत बिगड़ती रहती थी.

हालांकि लौटने के क्रम में तबीयत ठीक थी और उसे तसल्ली थी कि सब लोग वापस गांव लौट रहे हैं.

रात में सभी मजदूर सफर में सोए हुए थे. शिवलाल भी नींद में थे. अहले सुबह दुमका पहंचने से पहले पारसनाथ के करीब जगाने पर शिवलाल की आंखें नहीं खुली तो साथियों ने हिलाकर उठाया. लेकिन शिवलाल फिर नहीं उठ सके. 

इस बीच 25 मजदूर बस से उतरकर फरार हो गए. 

दुमका के सिविल सर्जन अनंत झा ने बताया कि सभी शेष 9 मजदूरों को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है. 

इसे भी पढ़ें: 70 हजार भाड़ा देकर मुंबई से लौटे 7 मजदूर, बाबूलाल बोले, 'हेमंत जी, अफसर आपको सच बताते नहीं'

मृतक मजदूर सहित सभी मजदूरों का सेंपल जांच के लिए लिया गया है. जांच रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के कारणों का पता चल सकेगा.  


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कोरोना, नोटबंदी और जीसटी को हार्वर्ड में असफलता पर केस स्टडीज की तरह पढ़ाया जाएगा : राहुल गांधी
कोरोना, नोटबंदी और जीसटी को हार्वर्ड में असफलता पर केस स्टडीज की तरह पढ़ाया जाएगा : राहुल गांधी
दिल्ली के 106 वर्षीय बुजुर्ग कोविड-19 संक्रमण से ठीक हुए, 102 साल पहले स्पेनिश फ्लू को भी दी थी मात
दिल्ली के 106 वर्षीय बुजुर्ग कोविड-19 संक्रमण से ठीक हुए, 102 साल पहले स्पेनिश फ्लू को भी दी थी मात
दुनिया में कोरोना से तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना भारत, रूस को पीछे छोड़ा
दुनिया में कोरोना से तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना भारत, रूस को पीछे छोड़ा
अब जेएमएम ने दिखाया कच्चा-चिट्ठाः रघुवर राज में 1450 एकड़ जमीन गलत तरीके से बेची गई
अब जेएमएम ने दिखाया कच्चा-चिट्ठाः रघुवर राज में 1450 एकड़ जमीन गलत तरीके से बेची गई
चुनौतियों का स्थायी समाधान भगवान बुद्ध के आदर्शों से मिल सकता है : पीएम मोदी
चुनौतियों का स्थायी समाधान भगवान बुद्ध के आदर्शों से मिल सकता है : पीएम मोदी
चीनी घुसपैठ पर लद्दाखवासियों की बात नजरअंदाज नहीं करे सरकार: राहुल गांधी
चीनी घुसपैठ पर लद्दाखवासियों की बात नजरअंदाज नहीं करे सरकार: राहुल गांधी
जब कोरोना से बचने के लिए बनवा लिए सोने का मास्क, पैसे लगे तीन लाख
जब कोरोना से बचने के लिए बनवा लिए सोने का मास्क, पैसे लगे तीन लाख
नीट और जेईई मेन परीक्षाएं स्थगित, मिली सितंबर में नई तारीख
नीट और जेईई मेन परीक्षाएं स्थगित, मिली सितंबर में नई तारीख
'15 साल में हमसे कोई भूल हुई थी तो उसके लिए माफी मांगते हैं'
'15 साल में हमसे कोई भूल हुई थी तो उसके लिए माफी मांगते हैं'
कानपुरः छापा मारने गई पुलिस पर अपराधियों की फायरिंग, डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों की मौत
कानपुरः छापा मारने गई पुलिस पर अपराधियों की फायरिंग, डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों की मौत

Stay Connected

Facebook Google twitter