विधायकों की खरीद-फरोख्त के पुख्ता सबूत हैं : अशोक गहलोत

विधायकों की खरीद-फरोख्त के पुख्ता सबूत हैं : अशोक गहलोत
पीबी ब्यूरो ,   Jul 15, 2020

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को कहा कि उनकी सरकार को गिराने के लिए विधायकों की खरीद-फरोख्त (हार्स ट्रेडिंग) के प्रयास हो रहे थे और उनके पास इसके सबूत हैं.

इसके साथ ही गहलोत ने सचिन पायलट का नाम लिये बिना बुधवार को दावा किया कि वह सीधे तौर पर भाजपा के साथ विधायकों की खरीद-फरोख्त में शामिल थे.

पायलट के खिलाफ हमलावर होते हुए गहलोत ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘सफाई कौन दे रहे थे...सफाई वही नेता दे रहे थे जो खुद षडयंत्र में शामिल थे ...षडयंत्र का हिस्सा थे. हमारे यहां पर उपमुख्यमंत्री हो, पीसीसी अध्यक्ष हो वो खुद ही अगर डील करें ... वो सफाई दे रहे है कि हमारे यहां कोई हार्स ट्रेडिंग नहीं हो रही थी.. अरे तुम तो खुद षडयंत्र में शामिल थे..तुम क्या सफाई दे रहे हो ऐसी स्थिति में देश चल रहा है.’’

उल्लेखनीय है कि 19 जून को राज्यसभा की तीन सीटों के लिए चुनाव से पहले विधायकों को कथित तौर पर प्रलोभन दिए जाने को लेकर कांग्रेस और भाजपा में काफी बयानबाजी हुई थी.

मुख्यमंत्री गहलोत ने आरोप लगाया था कि भाजपा कुछ विधायकों को प्रलोभन दे रही है.

इसे भी पढ़ें: दूसरे राज्यों की नजरें झारखंडी मजदूरों पर, कंपनियां भेज रही बसें, कई पकड़ी गई

गहलोत ने राष्ट्रीय मीडिया पर भी निशाना साधते हुए कहा कि राष्ट्रीय मीडिया भी उन लोगों का समर्थन कर रही है जो लोग लोकतंत्र की हत्या और हार्स ट्रेडिंग में शामिल हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘राष्ट्रीय मीडिया उन तत्वों का समर्थन कर रहा है जो कि भाजपा के बंधक हैं, ... हॉर्स ट्रेडिंग की गई है, हमारे पास सबूत हैं, हमारे पास प्रूफ है कि उनके दलाल लोग थे जिन्होंने यह काम किया। पैसे की पेशकश कर रहे थे. कई लोगों ने पैसा लिया नहीं है ये सबूत मेरे पास में है. मेरे पास बैठे हुए लोग हैं जिन्होंने मना कर दिया.’’

उन्होंने कहा, ‘‘हम तो तीसरी बार मुख्यमंत्री बने और चालीस साल से ज्यादा राजनीति करते हो गए. नई पीढी जो आई है, हम उनको प्यार करते है और आने वाला कल उनका है.’’

गहलोत ने कहा कि मीडिया में अच्छी बाइट देना ही कुछ नहीं होता, आपकी प्रतिबद्धता मायने रखती है. उन्होंने कहा, ‘‘मीडिया को दिखता नहीं है क्या ये बात? किसकी बात कर रहे हैं? कोई अच्छा इंग्लिश-हिंदी बोल लेता है, अच्छी बाइट देना वो सब कुछ ही नहीं होता है, अच्छी हेंडसम पर्सनेलिटी से ही सब कुछ नहीं होता है, आपके दिल में क्या है देश के लिए, आपकी प्रतिबद्धता क्या है, आपकी विचारधारा-नीतियां-कार्यक्रम जो हैं आपकी पार्टी के, उनके लिए कितनी बड़ी प्रतिबद्धता है आपकी, ये सब देखा जाता है.’’


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

आईपीएल 2020 के रंग में धौनी, साथियों के साथ चेन्नई पहुंचे
आईपीएल 2020 के रंग में धौनी, साथियों के साथ चेन्नई पहुंचे
वैक्सीन पर उठते सवालों के बीच रूस का दावा, दो सालों तक छू नहीं सकेगा वायरस
वैक्सीन पर उठते सवालों के बीच रूस का दावा, दो सालों तक छू नहीं सकेगा वायरस
राजस्थान विधानसभा में बोले सचिन पायलट, मैं जब तक बैठा हूं, सरकार सुरक्षित है
राजस्थान विधानसभा में बोले सचिन पायलट, मैं जब तक बैठा हूं, सरकार सुरक्षित है
वकील प्रशांत भूषण अवमानना के मामले में दोषी करार, सजा पर सुनवाई 20 अगस्त को
वकील प्रशांत भूषण अवमानना के मामले में दोषी करार, सजा पर सुनवाई 20 अगस्त को
तेजस्वी ने नीतीश और उनके मंत्री को घेरा, कोरोना के आंकड़ों पर पूछा- कौन सच्चा कौन झूठा?
तेजस्वी ने नीतीश और उनके मंत्री को घेरा, कोरोना के आंकड़ों पर पूछा- कौन सच्चा कौन झूठा?
झारखंडः पीटीआई के ब्यूरो चीफ पीवी रामानुजम ने खुदकुशी कर ली
झारखंडः पीटीआई के ब्यूरो चीफ पीवी रामानुजम ने खुदकुशी कर ली
 जीडीपी में गिरावट की नारायणमूर्ति की आंशका पर राहुल का तंज: ‘मोदी है तो मुमकिन है’
जीडीपी में गिरावट की नारायणमूर्ति की आंशका पर राहुल का तंज: ‘मोदी है तो मुमकिन है’
जानिए क्यों मिला खूंटी के दारोगा पुष्पराज को केंद्रीय गृह मंत्री पदक सम्मान
जानिए क्यों मिला खूंटी के दारोगा पुष्पराज को केंद्रीय गृह मंत्री पदक सम्मान
अलीगढ़ः बीजेपी विधायक का आरोप, पुलिस ने पीटा, कार्यकर्ताओं ने थाना घेरा, तनाव
अलीगढ़ः बीजेपी विधायक का आरोप, पुलिस ने पीटा, कार्यकर्ताओं ने थाना घेरा, तनाव
रूस की कोरोना वैक्सीन के बारे जानकारों की अलग-अलग राय?
रूस की कोरोना वैक्सीन के बारे जानकारों की अलग-अलग राय?

Stay Connected

Facebook Google twitter