मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार पर संकट के नए बादल, ज्योतिरादित्य खेमे के विधायक बेंगलुरू गए

मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार पर संकट के नए बादल, ज्योतिरादित्य खेमे के विधायक बेंगलुरू गए
Facebook
पीबी ब्यूरो ,   Mar 09, 2020

मध्यप्रदेश में होली के बीच कमलनाथ की सरकार हलकान नजर आ रही है. संकट से घिरती सरकार की आशंका के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सभी मंत्रियों को अपने निवास पर बुला लिया है. जबकि कांग्रेस के कई विधायक बेंगलुरु चले गए हैं.

इन विधायकों की संख्‍या 15 से 17 बताई जा रही हैएनडीटीवीने सूत्रों के हवाले से बताया है कि 17 में छह विधायक मंत्री हैं और ये सभी पूर्व सांसद ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया के समर्थक हैं.

ये विधायक ज्योतिरादित्य सिंधिया के खेमे के बताये जा रहे है. इससे पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सोनिया गांधी से दिल्ली में मुलाक़ात की थी. इसके बाद फौरन वो भोपाल वापस हो गए.

हालांकि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ये दावा जरूर किया कि पार्टी के अंदर विवाद की कोई स्थिति नहीं है.

कमलनाथ का कहना था, ‘बैठक में राज्य के सियासी संकट और राज्यसभा चुनाव पर चर्चा हुई. मंत्रिमंडल में विस्तार पर भी चर्चा हुई. राज्यसभा उम्मीदवारों पर भी बातचीत हुई है.’ हालांकि कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की नाराजगी और उनके कई करीबियों के संपर्क में नहीं होने के सवाल पर कमलनाथ ने कोई जवाब नहीं दिया था.

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेशः कांग्रेस विधायकों के इस्तीफा का सिलसिला जारी, होली में बीजेपी की बांछे खिली

खबरों के मुताबिक कांग्रेस के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने पार्टी के अंदर किसी भी किस्म के विवाद से इनकार किया है. मुख्यमंत्री निवास पर चल रही बैठक को लेकर उन्होंने कहा, "बजट सत्र और राज्यसभा के चुनाव है इसलिये इन सब चीज़ों पर चर्चा की जानी है."

मध्य प्रदेश में राजनीतिक संकट पिछले एक हफ्ते से भी ज्यादा से चल रहा है. पहले कुछ विधायक गुड़गांव चले गए थे जिन्हें वापस भोपाल लाया गया था लेकिन उसके बाद कांग्रेस के चार विधायक बेंगलुरु चले गए थे. उनमें से दो विधायक वापस लौट आए हैं लेकिन दो का अभी तक पता नही है. सभी की मांग मंत्री बनने की है.

इन विधायकों के गुड़गाँव आने पर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया था कि बीजेपी उनके विधायकों को रिश्वत के ज़रिए ख़रीदने की कोशिश कर रही है.

यह भी बताया जा रहा है कि कभी गांधी परिवार के करीबी रहे ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया फिलहाल दिल्‍ली में हैं और कांग्रेस उनसे एक समझौते पर बातचीत करने की कोशिश कर रही है. जल्द ही सिंधिया को या तो उपमुख्यमंत्री बनाया जा सकता है या फिर उन्हें मध्यप्रदेश कांग्रेस की कमान सौंपी जा सकती है. 

49 वर्षीय सिंधिया दिसंबर 2018 में मुख्‍यमंत्री पद की दौड़ में तब पिछड़ गए थे जब उन्‍हें केवल 23 विधायकों का ही समर्थन मिल सका था जबकि मध्‍यप्रदेश में कांग्रेस की जीत में उन्‍होंने बड़ा योगदान दिया था. कमलनाथ मुख्‍यमंत्री बने थे पार्टी की राज्‍य इकाई पर भी उनका ही नियंत्रण रहा.

तब सिंधिया को पिछले साल के लोकसभा चुनावों के लिए प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ उत्तर प्रदेश का प्रभारी बना कर शांत करने की कोशिश की गई लेकिन वहां कांग्रेस को बुरी तरह हार का मुंह देखना पड़ा.

सियासत के गलियारे में ये खबरे भी छन कर निकल रही है कि सिंधिया की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात हो सकती है. 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कोरोना के बीच क्यों सुर्खियों में हैं डॉक्टर सुधीर डेहरिया
कोरोना के बीच क्यों सुर्खियों में हैं डॉक्टर सुधीर डेहरिया
उत्तर प्रदेश में 25 साल के युवक की मौत, देश भर में मरने वालों का आंकड़ा 35 तक पहुंचा
उत्तर प्रदेश में 25 साल के युवक की मौत, देश भर में मरने वालों का आंकड़ा 35 तक पहुंचा
बीजेपी बोली, झारखंड के धार्मिक स्थलों में ठहरे विदेशियों ने संक्रमण लाया और सरकार देखती रही
बीजेपी बोली, झारखंड के धार्मिक स्थलों में ठहरे विदेशियों ने संक्रमण लाया और सरकार देखती रही
निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन के बाद मेरठ और मुज्जफरनगर अलर्ट पर
निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन के बाद मेरठ और मुज्जफरनगर अलर्ट पर
कोरोना संकट के बीच तबलीगी जमात में अनुमानित 1700 लोग शामिल हुए थे,सख्त कार्रवाई होनी चाहिएः मंत्री
कोरोना संकट के बीच तबलीगी जमात में अनुमानित 1700 लोग शामिल हुए थे,सख्त कार्रवाई होनी चाहिएः मंत्री
प्रशांत किशोर ने कहा, नीतीश कुमार गद्दी छोड़ दें, जदयू का पलटवार, ट्वीट पर घटिया राजनीति मत करें
प्रशांत किशोर ने कहा, नीतीश कुमार गद्दी छोड़ दें, जदयू का पलटवार, ट्वीट पर घटिया राजनीति मत करें
सोशल मीडिया पर आपातकाल लगाने के संदेश फर्जी: सेना
सोशल मीडिया पर आपातकाल लगाने के संदेश फर्जी: सेना
 नजाकत समझें और संभलें, भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 32 हुई
नजाकत समझें और संभलें, भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 32 हुई
स्पाइसजेट का पायलट कोरोना वायरस से संक्रमित, चालक दल हुए होम क्वारंटाइन
स्पाइसजेट का पायलट कोरोना वायरस से संक्रमित, चालक दल हुए होम क्वारंटाइन
'मन की बात' में बोले पीएम मोदी, असुविधा के लिए क्षमा, पर इसके बिना कोई रास्ता नहीं था
'मन की बात' में बोले पीएम मोदी, असुविधा के लिए क्षमा, पर इसके बिना कोई रास्ता नहीं था

Stay Connected

Facebook Google twitter