झारखंड बीजेपी के लिए बेहद अहम है फरवरी का महीना, 17 से बदलेगा तेवर

झारखंड बीजेपी के लिए बेहद अहम है फरवरी का महीना, 17 से बदलेगा तेवर
Publicbol (File Photo)
पीबी ब्यूरो ,   Feb 13, 2020

विधानसभा चुनाव में करारी हार और सत्ता गंवाने के बाद झारखंड बीजेपी के लिए अगले कुछ दिन बेहद अहम हैं. 17 फरवरी को बाबूलाल मरांडी की घर वापसी है. 

इसके साथ ही झारखंड विकास मोर्चा का बीजेपी में विलय होगा. बीजेपी में नया प्रदेश अध्यक्ष कौन होगा, इसका फैसला भी बहुत जल्दी में लिया जाना है. साथ ही नेता प्रतिपक्ष का नाम भी तय किया जाना है. 

बाबूलाल मरांडी के बीजेपी में जाने के बाद उनकी भी हैसियत पार्टी तय करेगी. साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास की भूमिका क्या होगी, यह तस्वीर भी साफ होती रहेगी. अभी बीजेपी ने विधानसभा के लिए नेता प्रतिपक्ष भी तय नहीं किया है. 

नेतृत्व ने नेता प्रतिपक्ष और प्रदेश अध्यक्ष पद को लेकर झारखंड के सभी जिम्मेदार नेताओं से फीडबैक ले लिया है. अध्यक्ष पद के लिेए दीपक प्रकाश, सांसद सुनील सिंह, राकेश प्रसाद का नाम भी नेतृत्व के सामने हैं. 

इस स्थिति में संभावना प्रबल है कि बीजेपी यह जिम्मेदारी बाबूलाल मरांडी को दे सकती है. वैसे बाबूलाल मरांडी सांगठनिक काम संभालने में दिलचस्पी बता रहे हैं. 

इसे भी पढ़ें: लालू यादव के समधी चंद्रिका राय राजद छोडने को तैयार, थाम सकते हैं नीतीश का हाथ

2006 में बाबूलाल मरांडी ने पार्टी छोड़ दी थी. इसके बाद अपनी पार्टी बनाकर राजनीति करते रहे. जाहिर है 14 साल बाद बीजेपी में वापसी को लेकर राज्य की नजर टिकी है. 

हालांकि 11 फरवरी को बीजेपी में विलय की घोषणा के साथ उन्होंने पार्टी में अपनी भूमिका को लेकर कहा है कि यह नेतृत्व को तय करना है. उन्हें झाड़ू लगाने का काम भी मिलेगा, तो बखूबी निभाएंगे. 

लेकिन बातें इससे इतर है. विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के डेढ़ महीने से ज्यादा वक्त हो गए हैं, बीजेपी ने विधायक दल के नेता (नेता प्रतिपक्ष) के लिए नाम नहीं तय किया जा रहा है.

समझा जा रहा है कि बाबूलाल मरांडी की वापसी को लेकर ही इस पऱ फैसला रोक कर रखा गया है. अब 17 फरवरी को बाबूलाल विधिवत तौर पर बीजेपी में शामिल हो जाएंगे, तो सब कुछ साफ भी हो सकेगा. 

विपक्ष के तेवर 

झारखंड में बीजेपी ने 25 सीटों पर जीत हासिल की है. और उसके 11 सांसद हैं. नतीजे आने के बाद और हेमंत सोरेन की अगुवाई में जेएमएम- कांग्रेस की सरकार बनने के बाद कुछ दिनों तक हताश-निराश बीजेपी में तल्खियां भरने की कवायद अब दिखने लगी है. 

चार दिनों पहले 9 फरवरी को पार्टी के केंद्रीय महासचिव अरूण सिंह ने रांची में प्रेस कांफ्रेस करके हेमंत सरकार को कानून व्यवस्था के सवाल पर घेरा था और बताया था कि झारखंड पर बीजेपी की नजर है और इसे हमलोग छोड़ने नहीं जा रहे हैं. 

पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव कहते हैं कि पार्टी की सीधी नजर हेमंत सरकार के कामकाज और जनता से किए वादे पर है. राज्य का हित बीजेपी के लिए सर्वोपरि है. और पार्टी झारखंड में मजबूत विपक्ष के साथ जनता के बीच अपनी मौजूदगी कायम रखेगी. 

वैसे भी चाईबासा नरसंहार को लेकर बीजेपी ने हेमंत सरकार को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. रांची से चाईबासा और दिल्ली तक बीजेपी ने आवाज मुखर की है.

बाबूलाल मरांडी के आने के बाद राज्य में राजनीतिक तस्वीर बदलेगी, इससे इंकार नहीं किया जा सकता. इस महीने की 28 तारीख से झारखंड में बजट सत्र होना है.

इसे भी पढ़ें: चाईबासा नरसंहारः राज्यपाल से पीड़ित परिवारों ने किया दर्द साझा, फिर हत्या की धमकी दे रहे पत्थलगड़ी समर्थक

अगर बाबूलाल मरांडी नेता प्रतिपक्ष बने, तो विधानसभा में भी सरकार की घेराबंदी करने के लिए बीजेपी के पास बड़ा चेहरा होगा. 

जेपी नड्डा, अमित शाह 

विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह, चुनाव प्रभारी ओम प्रकाश माथुर पहली बार 17 फरवरी को बाबूलाल मरांडी की घर वापसी कार्यक्रम में आ रहे हैं. बाबूलाल मरांडी की बीजेपी में वापसी का तानाबाना शीर्ष स्तर पर ही बुना गया है. 

बीजेपी नेतृत्व को इसका अहसास है कि पांच साल तक बहुमत की सरकार रहने और चुनाव में हर स्तर पर तैयारियां और प्रयास के बाद भी बीजेपी को बड़ी हार का सामना करना पड़ा है. जबकि आदिवासियों के लिए सुरक्षित 28 में से 26 सीटों पर बीजेपी की हार हुई है. 

जाहिर है अमित शाह, जेपी नड्डा 17 फरवरी को झारखंड बीजेपी को नए सिरे से लामबंद करने के लिए मंत्र फूंकेगे. 

यादगार बनाने की तैयारी

इधर जेवीएम का बीजेपी में विलय कार्यक्रम को यादगार बनाने की तैयारियां दोनों दलों में जारी है. दोनों दलों में बैठकों का दौर जारी है. आज बीजेपी कार्यालय में तैयारियों की समीक्षा की गई. 

संगठन महामंत्री धर्मपाल ने कहा है कि इस मिलन समारोह में पूरे प्रदेश से भाजपा के हजारों कार्यकर्ता शामिल होंगे. प्रदेश पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि अपने स्तर से मिलन समारोह को सफल बनाने हेतु सक्रिय भूमिका निभाएं.

उन्होंने कहा कि बैठक में संगठन के कार्यों की समीक्षा भी हुआ. मंडल अध्यक्षों के चयन हेतु चल रही प्रक्रिया की भी समीक्षा की गई एवं मंडल अध्यक्ष के मनोनयन हेतु अति शीघ्र 3 नामों के पैनल को प्रदेश को जमा करने का निर्देश दिया गया. 

बैठक में मुख्य रूप से प्रदेश उपाध्यक्ष आदित्य साहू, प्रिया सिंह प्रदेश महामंत्री दीपक प्रकाश, प्रदेश मंत्री मनोज सिंह ,सुबोध सिंह गुड्डू, प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव, प्रदेश कार्यालय प्रभारी हेमंत दास समेत कई पदाधिकारी मौजूद थे. 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

लाल किले से पीएम मोदी के भाषण की ये 10 बड़ी और अहम बातें जानिए
लाल किले से पीएम मोदी के भाषण की ये 10 बड़ी और अहम बातें जानिए
आईपीएल 2020 के रंग में धौनी, साथियों के साथ चेन्नई पहुंचे
आईपीएल 2020 के रंग में धौनी, साथियों के साथ चेन्नई पहुंचे
शहरी क्षेत्रो में 'सीएम श्रमिक योजना', हेमंत बोले, निबंधन के 15 दिनों में रोजगार अन्यथा बेरोजगारी भत्ता
शहरी क्षेत्रो में 'सीएम श्रमिक योजना', हेमंत बोले, निबंधन के 15 दिनों में रोजगार अन्यथा बेरोजगारी भत्ता
वैक्सीन पर उठते सवालों के बीच रूस का दावा, दो सालों तक छू नहीं सकेगा वायरस
वैक्सीन पर उठते सवालों के बीच रूस का दावा, दो सालों तक छू नहीं सकेगा वायरस
राजस्थान विधानसभा में बोले सचिन पायलट, मैं जब तक बैठा हूं, सरकार सुरक्षित है
राजस्थान विधानसभा में बोले सचिन पायलट, मैं जब तक बैठा हूं, सरकार सुरक्षित है
वकील प्रशांत भूषण अवमानना के मामले में दोषी करार, सजा पर सुनवाई 20 अगस्त को
वकील प्रशांत भूषण अवमानना के मामले में दोषी करार, सजा पर सुनवाई 20 अगस्त को
हेमंत बोले, झारखंड की स्थानीय नीति सवालों के घेरे में, हम देख रहे हैं कि क्या बदलाव किया जाए
हेमंत बोले, झारखंड की स्थानीय नीति सवालों के घेरे में, हम देख रहे हैं कि क्या बदलाव किया जाए
तेजस्वी ने नीतीश और उनके मंत्री को घेरा, कोरोना के आंकड़ों पर पूछा- कौन सच्चा कौन झूठा?
तेजस्वी ने नीतीश और उनके मंत्री को घेरा, कोरोना के आंकड़ों पर पूछा- कौन सच्चा कौन झूठा?
झारखंडः पीटीआई के ब्यूरो चीफ पीवी रामानुजम ने खुदकुशी कर ली
झारखंडः पीटीआई के ब्यूरो चीफ पीवी रामानुजम ने खुदकुशी कर ली
 जीडीपी में गिरावट की नारायणमूर्ति की आंशका पर राहुल का तंज: ‘मोदी है तो मुमकिन है’
जीडीपी में गिरावट की नारायणमूर्ति की आंशका पर राहुल का तंज: ‘मोदी है तो मुमकिन है’

Stay Connected

Facebook Google twitter