'नगाड़ा बनाने घर से निकला था बेटा, वो उग्रवादी नहीं था, पर पुलिस ने गोली मार दी'

'नगाड़ा बनाने घर से निकला था बेटा, वो उग्रवादी नहीं था, पर पुलिस ने गोली मार दी'
Publicbol (बाएं रोशन होरो की मां अपनी बहू और बच्चों के साथ)
पीबी ब्यूरो ,   Mar 21, 2020

मेरा बेटा अपराधी नहीं था और न ही उग्रवादी. घर पर ही रहकर खेती-बारी का काम करता था. गांव के लोग इसका सबूत देंगे. वो तो खाल लेकर (जानवरों की) नगाड़ा बनाने निकला था. नगाड़ा शादी समारोह में बजाया जाना था. लेकिन पुलिस ने गोली मार दी. अब उसके बच्चों को कौन संभालेगा. पुलिस के पास बंदूक है, इसका मतलब यह नहीं कि सीधा-साधा आदमी को गोली मार दे. 

रानीमय होरो जब यह कह रही थीं, तो उनका गला रूंधा सा था. आंखों में गम साफ झलकता रहा. वो अपनी बहू और पोतियों को लेकर ऑटो से खूंटी शहर के लिए निकली थीं, जहां उनके बेटे रोशन होरो के शव को पोस्टमार्टम के लिए लाया गया था. पोस्टमार्टम के बाद वो गांव लौट आईं हैं.

इधर पोस्टमार्टम के बाद रोशन होरो की की लाश थाना में रखी पड़ी है.  

उनका कहना है कि गांव के लोग तय करेंगे कि किन हालात में बेटे की लाश लाएंगे. पुलिस वालों को बताना होगा कि रोशन होरो को क्यों मारा और इस मौत पर इंसाफ कौन करेगा. 

इसे भी पढ़ें: कोरोना संकट : योगी आदित्यनाथ की घोषणा, 35 लाख से ज्यादा मजदूरों को 1000 रुपए मिलेंगे

झारखंड के नक्सल प्रभावित खूंटी जिले के मुरहू थाना अंतर्गत कुम्हारडीह गांव में आज सुबह से गांव वाले बैठक कर रहे हैं. इसमें आसपास के लोग भी जुटे हैं. 

इसी गांव के रोशन होरो को उग्रवादी होने के शक में पुलिस ने गोली मार दी है. यह घटना शुक्रवार सुबह की है. रूमुतकेल पंचायत के उत्क्रमित मध्य विद्यालय एदेलबेड़ा के पास यह घटना हुई है.  

इस बीच खूंटी के एसपी आशुतोष चतुर्वेदी ने बताया है कि शुक्रवार की सुबह सीआरपीएफ 94 बटालियन और मुरहू थाना की पुलिस उग्रवादियों की तलाशी में अभियान पर निकली थी. इससे पहले गुरुवार की रात पीएलएफआइ के साथ पुलिस और सीआरपीएफ की संयुक्त टीम की मुठभेड़ हुई थी.  

रूमुतकेल पंचायत के उत्क्रमित मध्य विद्यालय एदेलबेड़ा के  कोयंगसार गांव स्थित उत्क्रमित मध्य विद्यालय के पास मोटरसाइकिल से संदिग्ध स्थिति में जाता हुए देखा गया. पुलिस ने उसे रूकने का इशारा किया, लेकिन वह भागने लगे. जवानों ने समझा कोई उग्रवादी है. 

पुलिस ने रोशन होरो के पास से करीब दल किलो जानवरों की खाल बरामद की है. घटना स्थल पर खून के धब्बे भी मिले हैं. 

36 वर्षीय रोशन होरो की तीन बेटियां हैं. उनका छोटा भाई जुनास फौज में है. जबकि गांव में पिता के साथ रोशन खेती करते थे.

 रोशन होरो की पत्नी जोसफिना होरो अपनी तीनों बेटियों को गोद में समेटे शुक्रवार को खूंटी पहुंची थीं. घटना की खबर मिलने के बाद से उनके घर में चूल्हा नहीं जला है. 

जोसफिना स्थानीय भाषा में कहती हैं, '' मेरा पति उग्रवादी नहीं था, लेकिन पुलिस ने पकड़ कर मार दिया. वे बोल कर निकले थे कि सांडी गांव नगाड़ा बनाने जा रहे हैं. सांडी गांव के में नगाड़ा बनाने वालों ने मेरे पति से कहा था कि खाल लाकर देने से बना देंगे.''

इधर शुक्रवार को पुलिस ने दंडाधिकारी की मौजूदगी में रोशन होरों का पोस्टमार्टम कराया है. पुलिस अधीक्षक का कहना है कि मानवाधिकार आयोग के गाइडलाइन के तहत पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी कराई गई है. 

इसे भी पढ़ें: बैद्यनाथ मंदिर देवघर, छिन्न मस्तिका रजरप्पा और दिउड़ी श्रद्धालुओं के लिए बंद

पुलिस ने यह भी कहा है कि पुलिस और प्रशासन की सहानुभूति मृतक के परिवार के साथ है और उनके परिजनों को यथासंभव मदद की जाएगी. घटना की विस्तृत जांच की जा रही है. 

उधर कुम्हारडीह गांव के लोग दोषियों की गिरफ्तारी की मांग पर चर्चा कर रहे हैं. साथ ही पीड़ित परिवार को तत्काल मुआवजा दिलाना चाहते हैं. 

इधर प्रमुख विपक्षी दल बीजेपी ने इस घटना के लिए सीधे तौर पर सरकार को जिम्मेदार ठहराया है. 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

राहुल गांधी की बात कांग्रेस के मुख्यमंत्री भी नहीं सुनतेः रविशंकर प्रसाद
राहुल गांधी की बात कांग्रेस के मुख्यमंत्री भी नहीं सुनतेः रविशंकर प्रसाद
कोरोना तेरे कारणः 124 वर्षों में पहली बार रद्द की गई बोस्टन मैराथन
कोरोना तेरे कारणः 124 वर्षों में पहली बार रद्द की गई बोस्टन मैराथन
मोदी सरकार 2.0 के एक साल पूरे: देश के नाम चिट्ठी में पीएम बोले- हमें अपने पैरों पर खड़ा होना होगा
मोदी सरकार 2.0 के एक साल पूरे: देश के नाम चिट्ठी में पीएम बोले- हमें अपने पैरों पर खड़ा होना होगा
झारखंडः 3 लाख 58 हजार लोग अब तक वापस लौटे, प्रवासी मजदूरों का डेटाबेस तैयार करा रही सरकार
झारखंडः 3 लाख 58 हजार लोग अब तक वापस लौटे, प्रवासी मजदूरों का डेटाबेस तैयार करा रही सरकार
ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में दी मंदिर-मस्जिद खोलने की इजाजत
ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में दी मंदिर-मस्जिद खोलने की इजाजत
छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन
छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन
चीन के साथ ताजा सीमा विवाद को लेकर नरेंद्र मोदी का मूड अच्छा नहीं है : डोनाल्ड ट्रंप
चीन के साथ ताजा सीमा विवाद को लेकर नरेंद्र मोदी का मूड अच्छा नहीं है : डोनाल्ड ट्रंप
लॉकडाउन के बाद गेंदबाजों के लिए लय हासिल करना मुश्किल होगा : ब्रेट ली
लॉकडाउन के बाद गेंदबाजों के लिए लय हासिल करना मुश्किल होगा : ब्रेट ली
शिक्षा मंत्री पहले अपने काम और कद को समझें, बाहर कुछ कहते हैं अंदर कुछः चंद्रप्रकाश चौधरी
शिक्षा मंत्री पहले अपने काम और कद को समझें, बाहर कुछ कहते हैं अंदर कुछः चंद्रप्रकाश चौधरी
रांचीः क्वारंटाइन में रहने के बाद गांधीनगर अस्पताल के डॉक्टर, नर्स ने फिर संभाला मोर्चा
रांचीः क्वारंटाइन में रहने के बाद गांधीनगर अस्पताल के डॉक्टर, नर्स ने फिर संभाला मोर्चा

Stay Connected

Facebook Google twitter