अस्पतालों में बेड का इंतजार करना अधिक मौत की वजह हो सकती है-रणदीप गुलेरिया

अस्पतालों में बेड का इंतजार करना अधिक मौत की वजह हो सकती है-रणदीप गुलेरिया
AIIMS
पीबी ब्यूरो ,   May 01, 2021

देश के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि कोरोना महामारी के कारण देश की स्वास्थ्य व्यवस्था पर पड़ रहे जबर्दस्त दबाव के चलते मरीजों के लिए अस्पताल में बेड का इंतजार करना देश में अधिक मौतों की एक वजह हो सकती है.

इंडियन एक्सप्रेसको दिए एक साक्षात्कार में रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि देश में बीते नौ दिनों से लगातार संक्रमण के तीन लाख से अधिक मामले दर्ज किए जा रहे हैं.

उन्होंने कहा कि "अगर मौतों की संख्या अधिक है और मौतों का प्रतिशत कम है तो स्थिति को समझने के लिए हमें और आँकड़ों की जरूरत होगी. दूसरा ये कि हाल में आए कुछ आँकड़े ये इशारा कर रहे हैं कि शायद वायरस के ब्रिटिश वेरिएंट के कारण अधिक संख्या में मौतें हो रही हैं. ये संभव है कि ये वेरिएंट अधिक संक्रामक होने के साथ-साथ अधिक मौतों के लिए भी जिम्मेदार हों."

उन्होंने य  भी बताया कि "संक्रमण के मामलों में तेज़ी से आए उछाल के कारण स्वास्थ्य व्यवस्था पर दबाव पड़ा है. एसे में कई मरीज़ों को बेड नहीं मिल रहा और वो घरों में इलाज करा रहे हैं. ये मरीज जब तक अस्पताल पहुंचते हैं उनकी हालत गंभीर हो चुकी होती है. इस कारण भी मौतों के आँकड़े बढ़ सकते हैं."

ट्राइगेजिंग रणनीति 

इसे भी पढ़ें: मंत्री हाफिजुल ने मधुपुर सीट पर लहराया जीत का पताका, झामुमो में जश्न, कांटे की टक्कर में भाजपा के गंगा हारे

उन्होंने कहा, "स्थिति से निपटने के लिए हम ट्राइगेजिंग नाम की एक रणनीति पर काम कर रहे हैं. जैसे कि अगर किसी मरीज़ की स्थिति बेहतर है और उसे ऑक्सीजन सिलिंडर की ज़रूरत नहीं है तो उसे बिना ऑक्सीजन वाले बेड में शिफ्ट किया जाए और उसे निगरानी में रखा जाए. अस्पताल को दो हिस्सों में बाँटा जाए, पहला उन मरीज़ों के लिए जिन्हें अधिक मात्रा में ऑक्सीजन की ज़रूरत है और दूसरा उन मरीज़ों के लिए जिन्हें कम ऑक्सीजन की ज़रूरत है."

उन्होंने कहा, "आज से पहले ट्राइगेजिंग जैसी रणनीति की ज़रूरत नहीं पड़ी लेकिन अब ये अहम होता जा रहा है. महामारी की पहली लहर में संक्रमितों की संख्या में धीरे-धीरे इज़ाफा हुआ लेकिन दूसरी लहर में जैसे संक्रमितों की संख्या में रॉकेट की तेज़ी से उछाल आया है. इस कारण स्वास्थ्य व्यवस्था पर इसका जबर्दस्त दवाब पड़ा रहा है. तेज़ी से मामले बढ़ रहे हैं जिस कारण संसाधनों की कमी हो रही है."

अब तक की मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि कोरोना वायरस के भारतीय वेरिएंट के कारण देश में अधिक मौतें हो रही हैं. हालांकि अब तक विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारतीय वेरिएंट के अधिक घातक होने की पुष्टि नहीं की है.


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

निर्वाचन आयोग ने खुद को कलंकित किया, इसे भंग किया जाए, इसके सदस्यों की जांच हो: आनंद शर्मा
निर्वाचन आयोग ने खुद को कलंकित किया, इसे भंग किया जाए, इसके सदस्यों की जांच हो: आनंद शर्मा
ममता बनर्जी 5 मई को लेंगी मुख्यमंत्री पद की शपथ, लगातार तीसरा मौका
ममता बनर्जी 5 मई को लेंगी मुख्यमंत्री पद की शपथ, लगातार तीसरा मौका
हल्के लक्षण होने पर सीटी-स्कैन कराने का कोई लाभ नहीं- डॉ. रणदीप गुलेरिया
हल्के लक्षण होने पर सीटी-स्कैन कराने का कोई लाभ नहीं- डॉ. रणदीप गुलेरिया
शराब नहीं मिलने पर सैनिटाइजर पीने से दो की मौत, दो अन्य बीमार
शराब नहीं मिलने पर सैनिटाइजर पीने से दो की मौत, दो अन्य बीमार
अस्पतालों में बेड का इंतजार करना अधिक मौत की वजह हो सकती है-रणदीप गुलेरिया
अस्पतालों में बेड का इंतजार करना अधिक मौत की वजह हो सकती है-रणदीप गुलेरिया
गुजरात के भरूच में एक अस्पताल में आग लगने से 14 कोरोना मरीज समेत 16 की मौत
गुजरात के भरूच में एक अस्पताल में आग लगने से 14 कोरोना मरीज समेत 16 की मौत
भाजपा पश्चिम बंगाल में आराम से और पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाएगीः भूपेंद्र यादव
भाजपा पश्चिम बंगाल में आराम से और पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाएगीः भूपेंद्र यादव
वैक्सीन को लेकर हेमंत सरकार केंद्र पर दोष मत मढ़े,  राज्य के पास 6.44 लाख टीका उपलब्धः दीपक प्रकाश
वैक्सीन को लेकर हेमंत सरकार केंद्र पर दोष मत मढ़े, राज्य के पास 6.44 लाख टीका उपलब्धः दीपक प्रकाश
अमेरिका से चिकित्सा एवं राहत सामग्री की पहली खेप भारत पहुंची, कहा- कोविड से मिलकर लड़ेंगे
अमेरिका से चिकित्सा एवं राहत सामग्री की पहली खेप भारत पहुंची, कहा- कोविड से मिलकर लड़ेंगे
हेमंत सोरेन ने लगवाया कोरोना का टीका, बोले-अफवाहों पर ना दें ध्यान, वैक्सीन है जरूरी
हेमंत सोरेन ने लगवाया कोरोना का टीका, बोले-अफवाहों पर ना दें ध्यान, वैक्सीन है जरूरी

Stay Connected

Facebook Google twitter