सचिन जो मिले, दिल खिले, सीएम गहलोत बोले, अपने तो अपने होते हैं...

सचिन जो मिले, दिल खिले, सीएम गहलोत बोले, अपने तो अपने होते हैं...
Courtesy- ANI
पीबी ब्यूरो ,   Aug 13, 2020

राजस्थान में लगभग एक महीने तक चली सियासी खींचतान और बयानबाजी के बाद पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट की गुरुवार शाम मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से हुई मुलाकात ने कांग्रेस के गलियारे में रौनकें बढ़ा दी है. 

जयपुर स्थित मुख्यमंत्री के निवास पर काग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले दोनों नेताओं के बीच यह मुलाकात हुई. 

मुख्यमंत्री निवास में इस बैठक में गहलोत व पायलट के साथ कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, पार्टी के प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे व पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा भी मौजूद थे.

इसके बाद कांग्रेस विधायकों की इकट्ठे बैठक हुई. बैठक में पायलट के समर्थक विधायक भी मौजूद है. 

एनडीटीवी के मुताबिक बैठक को संबोधित करते हुए सीएम अशोक गहलोत ने विधायकों से बीती बातें भूलने को कहा.

इसे भी पढ़ें: वकील प्रशांत भूषण अवमानना के मामले में दोषी करार, सजा पर सुनवाई 20 अगस्त को

सीएम ने बैठक में कहा, 'जो बातें हुई उन्हें अब भूल जाओ हम इन 19 विधायकों के बिना भी बहुमत साबित कर देते लेकिन फिर वह खुशी नहीं मिलती क्योंकि अपने तो अपने होते हैं.' 

सीएम ने कहा, हम खुद विधानसभा में विश्‍वास प्रस्‍ताव लाएंगे. सीएम ने कहा कि जिन विधायकों को कोई समस्या है. जो रूठे हैं वो मुझसे अकेले आकर मिल सकते हैं. इसके पीछे गहलोत का संदेश बीतों बातों यानी कड़वाहट को भुलाकर आगे को ओर देखने का रहा.

सियासी खींचतान के बाद

गौरतलब है कि राजस्‍थान विधानसभा का विशेष सत्र 14 अगस्‍त से शुरू हो रहा है. पिछले एक महीने से राजस्थान में जारी सियासी संकट के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से उनकी यह पहली मुलाकात है. इस मुलाकात के दौरान दोनों नेताओं ने प्रेस के सामने मुलाकात के दौरान पहले मुस्कुराए और फिर एक-दूसरे के साथ हाथ मिलाया.

सचिन पायलट एवं कांग्रेस के 18 अन्य विधायक मुख्यमंत्री गहलोत के नेतृत्व से कथित तौर पर नाराज थे. इससे कांग्रेस की सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे थे. लेकिन वक्त के साथ गहलोत और कांग्रेस इसे थाम लेने की रणनीति पर सफलत होती दिख रही है. 

सोमवार (10 अगस्त) को नई दिल्ली में कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से मुलाकात के लगभग एक महीने बाद सचिन जयपुर लौटे हैं.

सरकार तोड़ने की साजिश

इससे पहले गुरुवार को ही गहलोत ने ट्वीट किया, ''मैं उम्मीद करता हूं कि भूल जाओ और माफ करो की भावना के साथ 'लोकतंत्र की रक्षा करना' हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए. देश में चुनी हुई सरकारों को एक-एक करके तोड़ने की जो साजिश चल रही है, कर्नाटक, मध्यप्रदेश, अरुणाचल प्रदेश आदि राज्यों में सरकारें जिस तरह गिराई जा रही हैं, ईडी, सीबीआई, आयकर, न्यायपालिका का जो दुरुपयोग हो रहा है, वह लोकतंत्र को कमजोर करने का बहुत खतरनाक खेल है."

खबरों के मुताबिक विधानसभा सत्र के पहले दिन यानी कल बीजेपी ने अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का ऐलान किया है. नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने कहा, हम अपने सहयोगी दलों के साथ कल विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव ला रहे हैं.

इस बीच बैठक खत्म होने के बाद कांग्रेस के महासचिव केसी वेणुगोपाल ने कहा है कि सब ठीक है. शुक्रवार को विधानसभा में कांग्रेस पूरी तरह एकजुट दिखेगी. 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

सुप्रीम कोर्ट का सिविल सेवा परीक्षा 2020 स्थगित करने से इंकार
सुप्रीम कोर्ट का सिविल सेवा परीक्षा 2020 स्थगित करने से इंकार
हाथरस गैंग रेप और पीड़िता की मौतः पीएम मोदी ने की मुख्यमंत्री से बात, योगी ने एसआईटी बैठाई
हाथरस गैंग रेप और पीड़िता की मौतः पीएम मोदी ने की मुख्यमंत्री से बात, योगी ने एसआईटी बैठाई
तारीखों में जानिएः अयोध्या में बाबरी मस्जिद विध्वंस से संबंधित पूरा घटनाक्रम
तारीखों में जानिएः अयोध्या में बाबरी मस्जिद विध्वंस से संबंधित पूरा घटनाक्रम
हाथरस गैंगरेपः अक्षय कुमार बोले, इतनी क्रूरता, दोषियों को फांसी पर लटका देना चाहिए
हाथरस गैंगरेपः अक्षय कुमार बोले, इतनी क्रूरता, दोषियों को फांसी पर लटका देना चाहिए
विपक्ष का एक ही काम, जाने-समझे बिना किसी भी मसले पर विरोध करो: पीएम मोदी
विपक्ष का एक ही काम, जाने-समझे बिना किसी भी मसले पर विरोध करो: पीएम मोदी
कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
क्या विधायक प्रदीप यादव की धार खत्म कर रही है कांग्रेस?
क्या विधायक प्रदीप यादव की धार खत्म कर रही है कांग्रेस?

Stay Connected

Facebook Google twitter