रांचीः जमीन विवाद में वकील की हुई थी हत्या, 7 गिरफ्तार, 7 लाख रुपए की सुपारी पर मारी थी गोली

रांचीः जमीन विवाद में वकील की हुई थी हत्या, 7 गिरफ्तार, 7 लाख रुपए की सुपारी पर मारी थी गोली
Imran
पीबी ब्यूरो ,   Dec 15, 2019

झारखंड की राजधानी रांची स्थित सिविल कोर्ट के अधिवक्ता रामप्रवेश सिंह हत्याकांड का खुलासा करते हुए पुलिस ने सात लोगों को गिरफ्तार किया है. रांची के ग्रामीण एसपी ऋषभ कुमार झा और डीएसपी नीरज कुमार ने आज प्रेस कांफ्रेस कर इस हत्याकांड का खुलासा किया. 

नौ दिसंबर की शाम अधिवक्ता राम प्रवेश सिंह कांके के सर्वोदय नगर स्थित अपने आवास पर पहुंचे थे. तभी एक अपराधी ने बिल्कुल नजदीक से उन्हें गोली मार दी थी. इस घटना के बाद रांची बार एसोसिएशन के वकीलों ने विरोध प्रदर्शन किया था और कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए थे. वकील के पुत्र अभिषेक सिंह के बयान पर 14 नामजद के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. 

हमलावरों की गिरफ्तारी के लिए रांची के एसएसपी अनीष गुप्ता ने ग्रामीण एसपी के नेतृत्व में एक विशेष दल का गठन किया था. राम प्रवेश सिंह को गोली मारे जाने की घटना सीसीटीवी में कैद हुई थी. सीसीटीवी के फुटेज निकालने के बाद पुलिस ने तेजी से तफ्तीश शुरू की. 

ग्रामीण एसपी ने बताया कि रामप्रवेश सिंह वकालत के अलावा जमीन के व्यवसाय से भी जुड़े थे. सर्वोदय नगर में स्थित एक 96 डिसमील की एक भूखंड को लेकर वकील का राम पाहन और बिरसा उरांव के बीच पुराना विवाद था. 

राम पाहन इस आधार पर उस भूखंड पर दावा करता था कि उसे पहनई में जमीन मिली है. बाद में राम प्रवेश सिंह ने बिरसा उरांव से उक्त भूखंड को अपने सहयोगी सीमा तिर्की और नारायण भगत के नाम पर एग्रीमेंट करा लिया और प्लॉटिंग कर बेचने लगे. 

इसे भी पढ़ें: नागिकता कानूनः जामिया और एएमयू के बाद अब लखनऊ में टकराव, बंगाल में प्रदर्शन जारी

इससे राम पाहन से वकील की अदावत और बढ़ती गई. पुलिस के मुताबिक वकील ने राम पाहन को जान से मारने की धमकी भी दी. इससे खफा होकर राम पाहन ने वकील की ही हत्या कराने का मन बना लिया. इसके लिए उसने सतीश मुंडा एवं शिवम कुमार से संपर्क साधा. दोनों ने राम पाहन से वकील की हत्या के लिए सात लाख रुपए की सुपारी मांगी. इसके बाद सतीश और शिवम ने कुछ और दोस्तों से संपर्क साधा. सभी पैसे के बदले वकील की हत्या के लिए रजामंद हो गए. इसके बाद इस घटना को अंजाम दिया गया. 

पुलिस ने जिन सात लोगों को गिरफ्तार किया है उनमें राम पाहन, सतीश मुंडा, शिवम कुमार, सतीश कुमार पाठक, रोहित तुरी, राजा साव और संकर राम शामिल हैं. राम पाहन रांची के ही कांके थाना क्षेत्र अंतर्गत चंदवे का रहने वाला है. सतीश मुंडा और शिवम पथलगोंदा रांची के रहने वाले हैं. 

जबकि रोहित तुरी बड़कागांव हजारीबाग, राजा साव गोमिया शंकर राम चरही हजारीबाग का रहने वाले हैं. लेकिन तीनों रांची में ही किराये का मकान लेकर रह रहे थे. पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त पिस्टल, बाइक भी बरामद किया है. साथ ही सभी लोगों के मोबाइल जब्त किए गए हैं.  


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

सुप्रीम कोर्ट का सिविल सेवा परीक्षा 2020 स्थगित करने से इंकार
सुप्रीम कोर्ट का सिविल सेवा परीक्षा 2020 स्थगित करने से इंकार
हाथरस गैंग रेप और पीड़िता की मौतः पीएम मोदी ने की मुख्यमंत्री से बात, योगी ने एसआईटी बैठाई
हाथरस गैंग रेप और पीड़िता की मौतः पीएम मोदी ने की मुख्यमंत्री से बात, योगी ने एसआईटी बैठाई
तारीखों में जानिएः अयोध्या में बाबरी मस्जिद विध्वंस से संबंधित पूरा घटनाक्रम
तारीखों में जानिएः अयोध्या में बाबरी मस्जिद विध्वंस से संबंधित पूरा घटनाक्रम
हाथरस गैंगरेपः अक्षय कुमार बोले, इतनी क्रूरता, दोषियों को फांसी पर लटका देना चाहिए
हाथरस गैंगरेपः अक्षय कुमार बोले, इतनी क्रूरता, दोषियों को फांसी पर लटका देना चाहिए
विपक्ष का एक ही काम, जाने-समझे बिना किसी भी मसले पर विरोध करो: पीएम मोदी
विपक्ष का एक ही काम, जाने-समझे बिना किसी भी मसले पर विरोध करो: पीएम मोदी
कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
क्या विधायक प्रदीप यादव की धार खत्म कर रही है कांग्रेस?
क्या विधायक प्रदीप यादव की धार खत्म कर रही है कांग्रेस?

Stay Connected

Facebook Google twitter