रांची में चमकीं राजस्थान की भावना जाट, राष्ट्रीय रिकॉर्ड के साथ ओलिंपिक का टिकट मिला

रांची में चमकीं राजस्थान की भावना जाट, राष्ट्रीय रिकॉर्ड के साथ ओलिंपिक का टिकट मिला
Twitter - Athletics Fedration
पीबी ब्यूरो ,   Feb 16, 2020

पैदल चाल चैंपियनशिप में राजस्थान की भावना जाट ने रांची की धरती पर राष्ट्रीय रिकॉर्ड कायम कर ओलंपिक के लिए क्वालिफाई कर गई हैं.

शनिवार को रांची स्थित मोराबादी में हुए अंतर्राष्ट्रीय पैदल चाल चैंपिनयनशिप में भावना ने महिलाओं की 20 किलोमीटर प्रतियोगिता में एक घंटा 29.54 मिनट के साथ स्वर्ण पदक जीता. 

इसके साथ ही भावना ने 2018 में बेबी सौम्या के 1 घंटे 31.29 मिनट के रिकॉर्ड को लगभग 2 मिनट के अंतर से ध्वस्त किया. ओलिंपिक कोटा हासिल करने के बाद भावना ने कहा कि ''रांची ने मुझे सबसे बड़ी खुशी दी है, सभी झारखंडवासियों का शुक्रिया. ओलिंपिक में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने का पूर्ण प्रयास करूंगी. ये पल मेरे लिए गौरव का है और रांची मुझे हमेशा याद रहेगी''.

to

24 साल की इस एथलीट भावना जाट ने कहा, ''हालांकि मेरा लक्ष्य एक घंटा 29.54 मिनट से कम था. पिछले तीन महीनों में प्रशिक्षण में बहुत मेहनत की है मेरी मां और पिता जी का हमेशा साथ देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद और साथ में मेरे विभाग इंडियन रेलवे को भी धन्यवाद'.' 

पिछले साल अक्टूबर में सेट किए गए 1 घंटे 38 मिनट 30 सेकंड के व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन में भावना जाट के प्रयास में खासा सुधार हुआ है.

इसे भी पढ़ें: वाराणसी दौरे पर पीएम मोदी, कहा, देश सिर्फ सरकार से नहीं हर नागरिक के संस्कार से बनता है

2020 ओलंपिक का आयोजन इस साल 24 जुलाई से 9 अगस्त तक टोक्यो में होगा.

प्रियंका को रजत पदक 

तीसरी अंतरराष्ट्रीय पैदल चाल प्रतियोगिता के 20 किलोमीटर इवेंट में भावना ने जहां ओलिंपिक का टिकट कटाया वहीं उत्तर प्रदेश के मेरठ की रहने वाली प्रियंका गोस्वामी ने 1 घंटा 31.36 मिनट के साथ रजत पदक अपने नाम किया.

लेकिन ओलिंपिक क्वालिफाइ करने से वो महज चंद सेकेंड से चूक गईं. वहीं पंजाब की करमजीत कौर ने 1 घंटा 33.41 मिनट समय के साथ कांस्य पदक जीता.
 
संदीप ने जीता स्वर्ण, ओलिंपिक से चूके

पुरुष वर्ग के 20 किलोमीटर पैदल चाल में हरियाणा के संदीप कुमार ने ने 1 घंटा 21.34 मिनट समय के साथ स्वर्ण पदक जीता, लेकिन वे ओलिंपिक क्वालिफाइ करने से महज 34 सेकेंड से चूक गये. ओलिंपिक क्वालिफाइ का समय 1 घंटा 21 मिनट है. 
 
जिसमें संदीप कुमार 34 सेकेंड पीछे रह गये. वहीं हरियाणा के ही राहुल कुमार ने इस इवेंट में 1 घंटा 21.59 मिटन के साथ रजत पदक जीता, जबकि दिल्ली के विकास कुमार ने 1 घंटा 22.27 मिनट के साथ कांस्य पदक अपने नाम किया.

रांची की तारीफ

मोरहाबादी मैदान में रेड क्रास सोसाइटी के साथ वाली सड़क पर राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय पैदल वॉक चैंपियनशिप के लिए ट्रैक बनाया गया था. रेड क्रास सोसाइटी के सामने स्टार्ट और इंड लाइन थी. 6.30 बजे पुरुष वर्ग की प्रतियोगिता शुरू की गयी वहीं 10 मिनट बाद 6.40 बजे महिलाओं का इवेंट शुरू किया गया. 
 
सुबह से ही इस प्रतियोगिता को देखने के लिए भीड़ जुट गयी थी. वहीं तकनीकी पदाधिकारियों और विदेशी कोच ने कहा कि यहां का इनवायरमेंट बहुत अच्छा है. इसके साथ ही यहां पैदल वाक के लिए जिस जगह का चयन किया गया है वो काफी लाजवाब है. अगर कोई खिलाड़ी यहां ओलिंपिक क्वालिफाई नहीं कर सकता है तो फिर कहीं भी नहीं कर सकता है.

कांस्य पदक विजेता विकास झारखंड से

पुरुष वर्ग के 20 किलोमीटर इवेंट में कांस्य पदक जीत चुके विकास कुमार ने दिल्ली से हिस्सा लिया था. लेकिन वो मूल रूप से रहने वाले झारखंड के हैं. ये दिल्ली में रहते हैं और सर्विसेज की ओर से अभ्यास करते हैं. 
 
रामगढ़ के रहने वाले विकास कुमार ने 2015 में जूनियर नेशनल में रांची में स्वर्ण पदक जीता था. वहीं इसके बाद इसी प्रतियोगिता में रजत, सीनियर नेशनल में चौथे व जापान में आयोजित एशियन चैंपियनशिप में भी चौथे स्थान पर रहे.

वहीं 2019 में एशियन रेस वॉक चैंपियनशिप में विकास ने कांस्य पदक अपनी झोली में डाला.
 
केटी इमरान की झलक

इस प्रतियोगिता में देश के स्टार ओलिंपिक क्वालिफायर खिलाड़ी केटी इमरान पर सबकी नजरें थी. शनिवार को इमरान मोरहाबादी पहुंचे और सभी को अपनी झलक दिखाई. लेकिन 20 किलोमीटर इवेंट में शामिल नहीं हुए. इमरान एक दिन पहले ही रांची पहुंच गये थे वार्मअप भी कर रहे थे.

इसे भी पढ़ें: बुधवार की रात दो बेटियों की हत्या करने वाले ने झारखंड के तेनुघाट जेल में अपना गला काट लिया


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

चाईबासाः नैहर में थी आदिवासी महिला, पति बीमार पड़े, तो साइकिल से नाप ली 50 किमी दूरी
चाईबासाः नैहर में थी आदिवासी महिला, पति बीमार पड़े, तो साइकिल से नाप ली 50 किमी दूरी
अच्छी पहलः ओडिशा ने 500 एमबीबीएस छात्रों को कोरोना मरीजों के इलाज के लिए प्रशिक्षित किया
अच्छी पहलः ओडिशा ने 500 एमबीबीएस छात्रों को कोरोना मरीजों के इलाज के लिए प्रशिक्षित किया
कोरोना रोका जा सके, इसके लिए छत्तीसगढ़ के जेलों से छोड़े गए 584 कैदी
कोरोना रोका जा सके, इसके लिए छत्तीसगढ़ के जेलों से छोड़े गए 584 कैदी
कोरोना का कहर, देश में संक्रमण के 2,902 मामले, मरने वालों की संख्या 68 हुई
कोरोना का कहर, देश में संक्रमण के 2,902 मामले, मरने वालों की संख्या 68 हुई
2 दिन में तबलीगी जमात के 647 लोग कोरोना पॉजिटिव निकले जबकि 24 घंटों में 12 मरीजों की मौत
2 दिन में तबलीगी जमात के 647 लोग कोरोना पॉजिटिव निकले जबकि 24 घंटों में 12 मरीजों की मौत
नर्सों से अभद्रता करने वाले तबलीगी जमात के लोगों पर लगेगा रासुका, छोड़ेंगे नहींः योगी आदित्यनाथ
नर्सों से अभद्रता करने वाले तबलीगी जमात के लोगों पर लगेगा रासुका, छोड़ेंगे नहींः योगी आदित्यनाथ
पीएम मोदी ने राज्यों से कहा, अगले कुछ हफ्तों में टेस्टिंग, ट्रेसिंग और क्वारंटाइन पर रहे जोर
पीएम मोदी ने राज्यों से कहा, अगले कुछ हफ्तों में टेस्टिंग, ट्रेसिंग और क्वारंटाइन पर रहे जोर
 धार्मिक स्थानों पर जमा होकर अव्यवस्था पैदा करने का यह वक्त नहीं है : ए आर रहमान
धार्मिक स्थानों पर जमा होकर अव्यवस्था पैदा करने का यह वक्त नहीं है : ए आर रहमान
देश में पांव पसारता कोरोना, संक्रमण के 1965 मामले, मरने वालों की संख्या 50
देश में पांव पसारता कोरोना, संक्रमण के 1965 मामले, मरने वालों की संख्या 50
कोरोना के बीच क्यों सुर्खियों में हैं डॉक्टर सुधीर डेहरिया
कोरोना के बीच क्यों सुर्खियों में हैं डॉक्टर सुधीर डेहरिया

Stay Connected

Facebook Google twitter