मन की बातः 'जब प्रधानमंत्री के चिठिया पढ़के सुनैलिये, तो गांवां के लोगन बड़ी उत्साहित भेलथीं'

मन की बातः 'जब प्रधानमंत्री के चिठिया पढ़के सुनैलिये, तो गांवां के लोगन बड़ी उत्साहित भेलथीं'
Twitter - BJP
पीबी ब्यूरो ,   Jun 30, 2019

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’कार्यक्रम में कहा, ‘मेरा पहला अनुरोध है, जैसे देशवासियों ने स्वच्छता को एक जन आंदोलन का रूप दे दिया. आइए, वैसे ही जल संरक्षण के लिए एक जन आंदोलन की शुरुआत करें.’प्रधानमंत्री के दूसरे कार्यकाल का आकाशवाणी पर यह पहला कार्यक्रम था. मन की बात में पीएम मोदी ने हजारीबाग जिले के कटकमसांडी प्रखंड के लुपुंग पंचायत के मुखिया  देवकुमार रविदास के मन की भी बात सुनाई. 

इसके साथ ही पीएम मोदी ने यह भी कहा, ''बिरसा मुंडी की धरती झारखंड में प्रकृति के साथ तालमेल बनाकर रहना संस्कृति का हिस्सा है. वहां के लोग जल संरक्षण के लिए सक्रिय भूमिका निभाने के लिए तैयार हैं. सभी ग्राम प्रधानों को इस सक्रियता के लिए शुभकामनाएं. 

हजारीबाग का लुपुंग पंचायत

पीएम मोदी की मन की बात में देवकुमार दास गंवई भाषा में कहते हुए सुनाई पड़ रहे हैं, ''हमर नाम देवकुमार रविदास हेकय, पानी बचावे ले जब प्रधानमंत्री हमनी के चिट्ठी लिखलथीं, तो हमनी के विश्वास न होवे लगल. जब हमनी 22 तारीख के गांवां के लोगन के इकट्ठा करके प्रधानमंत्री के चिट्ठिया पढ़के सुनलिये, तो गांवा के लोग बड़ी उत्साहित भेलथीं. और पानी के बचावे खातिर तैयार बेलथीं. ये अच्छा रहलय कि प्रधानमंत्री हमनी के आगाह कर देलथीं.'' ( मेरा नाम देवकुमार रविदास है. पानी बचाने के लिए प्रधानमंत्री की चिट्ठी आई, तो हमसभी को विश्वास ही नहीं हुआ. पर जब गांव के लोगों को जमा कर चिट्ठी पढ़कर सुनाई, तो सभी लोग उत्साहित हो गए. सभी लोग श्रमदान करके तालाब की सफाई और निर्माण करेंगे. ताकिक पानी बचाया जा सके. अच्छा हुआ कि प्रधानमंत्री जी ने पहले ही आगाह करा दिया.) 

बड़ी चुनौती

इसे भी पढ़ें: रेलवे की नई समय सारिणी आज से लागू, उत्तरी रेलवे ने 267 ट्रेनों के समय बदले

इससे पहले प्रधानमंत्री ने मन की बात में देश में पानी की समस्या से जुड़ी चुनौतियों की विस्तार से चर्चा की. उन्होंने कहा कि दूसरा अनुरोध यह है कि देश में पानी के संरक्षण के लिए जो पारंपरिक तौर-तरीके सदियों से उपयोग में लाए जा रहे हैं, उन्हें साझा करें. प्रधानमंत्री ने लोगों से अपील की कि जल संरक्षण की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले व्यक्तियों का, स्वयं सेवी संस्थाओं का और इस क्षेत्र में काम करने वाले हर किसी की जानकारी को #जलशक्ति 4 जलशक्ति के साथ शेयर करें ताकि उनका एक डाटाबेस बनाया जा सके.

जल शक्ति मंत्रालय

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘मैं विशेष रूप से अलग अलग क्षेत्र की हस्तियों को जल संरक्षण के क्षेत्र में नवोन्मेषी अभियान चलाने का आग्रह करता हूं. फिल्म जगत, खेल जगत, मीडिया के साथी हों, सामाजिक एवं सांस्कृति क्षेत्र के लोगों से जुड़े लोग हों या कथा कीर्तन करने वाले लोग... हर कोई अपने अपने तरीके से इस आंदोलन का नेतृत्व करे.’ मोदी ने कहा कि उन्होंने ग्राम प्रधानों को पानी के संरक्षण के संबंध में पत्र भी लिखा है. नरेंद्र मोदी ने कहा कि जल की महत्ता को सर्वोपरि रखते हुए देश में नया जल शक्ति मंत्रालय बनाया गया है और इससे पानी से संबंधित सभी विषयों पर तेज़ी से फैसले लिए जा सकेंगे.

पीएम मोदी के मन की बात सुनते रांची में सीएम रघुवर दास और बीजेपी के नेता

देश भर में पत्र भेजा

प्रधानमंत्री ने बताया कि पिछले दिनों मैंने देश भर के ग्राम प्रधानों के पत्र लिखा कि ग्राम सभा की बैठक में ग्रामीणों के साथ जलसंचय पर चर्चा जरूर करें. इस कार्य में उत्साह दिखाते हुए बीती 22 जून को हजारों पंचायतों मे करोड़ों लोगों ने श्रमदान किया. उन्होंने कहा कि जो भी पोरबंदर के कीर्ति मंदिर जाएं, वो उस पानी के टांके को जरुर देखें. 200 साल पुराने उस टांके में आज भी पानी है और बरसात के पानी को रोकने की व्यवस्था है, ऐसे कई प्रकार के प्रयोग हर जगह पर होंगे.

योग दिवस की चर्चा 

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में 21 जून को देश दुनिया में उल्लास के साथ योग दिवस मनाये जाने का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि शायद ही कोई जगह ऐसी होगी, जहाँ इंसान हो और योग के साथ जुड़ा हुआ न हो, इतना बड़ा, योग ने रूप ले लिया है.

मोदी ने कहा कि योग के क्षेत्र में योगदान के लिए प्रधानमंत्री पुरस्कार की घोषणा, अपने आप में मेरे लिए एक बड़े संतोष की बात थी. यह पुरस्कार दुनिया भर के कई संगठनों को दिया गया है.

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘जब मैं पढ़ता हूं, सुनता हूं कि लोग मन की बात को मिस कर रहे हैं तब अपनापन महसूस करता हूं. मुझे लगता है कि ये मेरी स्व में समष्टि की यात्रा है. ये मेरी अहम से वयम की यात्रा है.’’


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

नीतीश कुमार एक थाना या ब्लॉक का नाम बता दें, जहां बिना 'चढ़ावा' काम होता होः तेजस्वी यादव
नीतीश कुमार एक थाना या ब्लॉक का नाम बता दें, जहां बिना 'चढ़ावा' काम होता होः तेजस्वी यादव
अभिनेत्री पायल घोष ने फिल्मकार अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया
अभिनेत्री पायल घोष ने फिल्मकार अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया
कृषि विधेयक किसानों के रक्षा कवच, विरोध करने वाले दे रहे बिचौलियों का साथ: पीएम मोदी
कृषि विधेयक किसानों के रक्षा कवच, विरोध करने वाले दे रहे बिचौलियों का साथ: पीएम मोदी
नक्सलियों और अपराधियों के आगे पस्त हेमंत सरकार निहत्थे सहायक पुलिसकर्मियों पर लाठियां चला रहीः रघुवर दास
नक्सलियों और अपराधियों के आगे पस्त हेमंत सरकार निहत्थे सहायक पुलिसकर्मियों पर लाठियां चला रहीः रघुवर दास
गढ़वा: जलावन के लिए लकड़ी चुनने गए पति-पत्नी पर मधुमक्खियों का हमला, दोनों की मौत
गढ़वा: जलावन के लिए लकड़ी चुनने गए पति-पत्नी पर मधुमक्खियों का हमला, दोनों की मौत
'राजपूत नहीं थे सुशांत', राजद विधायक के विवादित बयान पर बिहार में बीजेपी भड़की
'राजपूत नहीं थे सुशांत', राजद विधायक के विवादित बयान पर बिहार में बीजेपी भड़की
गृह मंत्री अमित शाह को एम्स से छुट्टी मिली
गृह मंत्री अमित शाह को एम्स से छुट्टी मिली
संसद में संजय राउत का तंज, क्या भाभीजी का पापड़ खाकर इतने लोग कोरोना से हुए ठीक?
संसद में संजय राउत का तंज, क्या भाभीजी का पापड़ खाकर इतने लोग कोरोना से हुए ठीक?
भारत-चीन तनावः राज्यसभा में बोले रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, देश का मस्तक नहीं झुकने देंगे
भारत-चीन तनावः राज्यसभा में बोले रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, देश का मस्तक नहीं झुकने देंगे
हेमंत दुमका से लौटे अब बाबूलाल के पहुंचने की तैयारी, उपचुनाव में लड़ाई होगी भारी
हेमंत दुमका से लौटे अब बाबूलाल के पहुंचने की तैयारी, उपचुनाव में लड़ाई होगी भारी

Stay Connected

Facebook Google twitter