हिंदपीढ़ी से बैरिकेडिंग हटाने के लिए धरना प्रदर्शन पर उतरे लोग, भाषण का दौर जारी

हिंदपीढ़ी से बैरिकेडिंग हटाने के लिए धरना प्रदर्शन पर उतरे लोग, भाषण का दौर जारी
पीबी ब्यूरो ,   May 27, 2020

झारखंड की राजधानी रांची स्थित हिंदपीढ़ी के लोग आज बड़ी तादाद में घरों से निकल गए. सभी लोग गुरुनानक स्कूल के पासस पहुंचे हैं. हिंदपीढ़ी के लोग एक साथ पूरे इलाके को कंटेनमेंट जोन से मुक्त करने और सील हटाने (बैरिकेडिंग हटाने) के लिए अड़े हैं. 

हिंदपीढ़ी के लौग सड़कों पर बैठ गए हैं और भाषण का दौर जारी है. उन्हें समझाने के लिए रांची के पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी भी पहुंचे हैं. वार्ता जारी है. लेकिन स्थानीय निवासी अपनी बात पर अड़े हैं.

भीड़ में कम से कम दो हजार लोग शामिल हो सकते हैं. 

झारखंड कांग्रेस के प्रवक्ता शमशेर आलम समेत कुछ और लोगों का वीडियो भी वायरल हो रहा, जिसमें वे भाषण करते दिखाई दे रहे हैं.

धरना प्रदर्शन कर रहे लोग कोरोना के खतरे को लेकर सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं कर रहे हैं. 

इसे भी पढ़ें: कोडरमाः 24 प्रवासी पर प्राथमिकी दर्ज, मुंबई से लौटे थे, क्वारंटाइन में रहने के बदले घर चले गए

लिहाजा पुलिस और प्रशासन के लोग उन्हें समझाने बुझाने में जुटे हैं. 

गुरुनानक स्कूल में ही कोविड-19 को लेकर कमांड एंड कंट्रोल रूम बनाया गया है.  यहीं पर लोग पहुंच गए हैं. 

शमशेर आलम का कहना है कि हिंदपीढ़ी के लोगों की मांग जायज है. जब यहां के सभी कोरोना मरीज ठीक हो गए हैं. और पिछले कई दिनों से कोरोना का कोई संक्रमण नहीं मिला है, तो कब तक हिंदपीढ़ी को सील रखा जाएगा. 

जानकारी के मुताबिक आज ही हिंदपीढ़ी इलाके में एक युवक की मौत हुई है. उसकी तबयीत खराब चल रही थी. युवक के परिजनों और स्थानीय लोगों का आरोप है कि मुकम्मल इलाज की व्यवस्था नहीं होने से युवक की जान चली गई. उसे लेकर कई अस्पताल परिजन गए, पर कोरोना के डर से इलाज नहीं किया गया. 

इससे पहले कोरोना को लेकर हिंदपीढ़ी को डेढ़ महीने से ज्यादा वक्त तक सील रखा गया. शहर के दूसरे इलाके में भी कोरोना के मरीज मिले. साथ ही पूरे क्षेत्र में मेडिकल स्क्रीनिंग का कार्य भी पूरा कर लिया गया है, लेकिन उन इलाकों को सील नहीं किया गया. फिर हिंदपीढ़ी के साथ यह रवैया क्यों अपनाया जा रहा है. 

सीआरपीएफ की तैनाती

गौरतलब है कि हिंदपीढ़ी में लॉकडाउन का लगातार उल्लंघन होते और कंटेनमेंट जोन से निकल लोगों के बाहर चले जाने के बाद प्रशासन से हिंदपीढ़ी के सभी प्रमुख मार्गों पर सीआरपीएफ की तैनाती की थी. 

पिछले दिनों सीआरपीएफ के जवानों के साथ स्थानीय लोगों की झड़प भी हुई. पथराव में कई पुलिस वालों को चोट लगी थी. 

इसके बाद हिंदपीढ़ी के ही इलाके में बैरिकेडिंग हटाने को लेकर हाल ही में स्थानीय लोगों की पुलिस से तीखी झ़ड़प के बाद बड़ी तादाद में लोग जुट गए थे. 

हिंदपीढ़ी में कोरोना की स्थित पर निंयत्रण करने और लॉकडाउन का उल्लंघन नहीं करने देने के लिए प्रशासन लगभग दो महीने से कड़ी मशक्कत के दौर से गुजरता रहा है. 

इसे भी पढ़ें: अब उत्तर प्रदेश का मजदूर दुनिया में जहां भी होगा सरकार उसके साथ खड़ी रहेगी : योगी आदित्यनाथ

इस बीच झारखंड प्रदेश बीजेपी के प्रवक्ता प्तुल शाहेदव ने इस भीड़ पर सवाल उठाया है. उन्होंने कहा है कि कंटेनमेंट जोन में इस तरह की भड़ी जुटी और सत्तारूढ़ दल के नेता प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में वहां भाषण देते रहे. 

मंगलवार को रिव्यू 

इससे पहले मंगलवार को कमांड एंड कंट्रोल रूम में अनुमंडल पदाधिकारी लोकेश मिश्रा की अध्यक्षता में एक बैठक हुई थी. इसमें कम्युनिटी लीडर्स के साथ कंटेननेमेंट क्षेत्र में बदलाव क लेकतर चर्चा की गई थी. 

इस बैठक में सिटी एसपी श्री सौरभ सहित डीएसपी कोतवाली एवं संबंधित थाना प्रभारी उपस्थित थे. बैठक में पूरे हिन्दपीढ़ी क्षेत्र से कॉन्टेनमेन्ट ज़ोन को हटा कर माइक्रो कॉन्टेनेमेंट ज़ोन मार्क करने के विषय पर विचार विमर्श किया गया था. 

बैठक के बाद लोकेश हिन्दपीढ़ी का क्षेत्र विस्तार बड़ा होने के मद्देनजर वैसे इलाके जहां से संक्रमित मरीज लंबे अरसे से नहीं मिले हैं उन इलाकों में ढील देने एवं कंटेंनमेंट ज़ोन को छोटा कर माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाने की तैयारी चल रही है. इसके लिए आमजनों का भरोसा एवं सहयोग दोनों ही जरूरी है. 

रिव्यू के बाद हिंदपीढ़ी के लेकरोड, पुरानी रांची निजाम नगर, नूर नगर, छोटा तालाब, बंगालीपाड़ा और आसपास के इलाके से सील हटाने का निर्णय लिया गया. 

हाईकोर्ट ने पूछा है

मंगलवार को ही हाईकोर्ट ने कोरोना को लेकर संवतः संज्ञान से दर्ज जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस डॉ रविरंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की खंडपीठ ने मौखिक तौर पर राज्य सरकार से जवाब दायर करने का निर्देश दिया है. साथ ही खंडपीठ ने जानना चाहा है कि हिंदपीढ़ी इलाके में सील किए गए कंटेनमेंट जोन में कितने लोग रहते हैं और उनमें से अब तक कितने लोगों की जांच की गई है. 

 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी का निधन, पार्टी स्तब्ध
कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी का निधन, पार्टी स्तब्ध
अलीगढ़ः बीजेपी विधायक का आरोप, पुलिस ने पीटा, कार्यकर्ताओं ने थाना घेरा, तनाव
अलीगढ़ः बीजेपी विधायक का आरोप, पुलिस ने पीटा, कार्यकर्ताओं ने थाना घेरा, तनाव
रूस की कोरोना वैक्सीन के बारे जानकारों की अलग-अलग राय?
रूस की कोरोना वैक्सीन के बारे जानकारों की अलग-अलग राय?
फेसबुक पोस्ट को लेकर बेंगलुरु में भड़की हिंसा, पुलिस फायरिंग में तीन की मौत
फेसबुक पोस्ट को लेकर बेंगलुरु में भड़की हिंसा, पुलिस फायरिंग में तीन की मौत
मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन, कोरोना वायरस से संक्रमित थे
मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन, कोरोना वायरस से संक्रमित थे
कितना भी मैं किसी का विरोध करूं, भाषा की मर्यादा कभी नहीं तोड़ताः सचिन
कितना भी मैं किसी का विरोध करूं, भाषा की मर्यादा कभी नहीं तोड़ताः सचिन
रांची के निकट ओरमांझी में ट्रक पर जा रहे 35 लाख रुपए की अफीम और डोडा बरामद
रांची के निकट ओरमांझी में ट्रक पर जा रहे 35 लाख रुपए की अफीम और डोडा बरामद
दस राज्यों में कोरोना को हरा देते हैं, तो देश भी जीत जाएगाः पीएम मोदी
दस राज्यों में कोरोना को हरा देते हैं, तो देश भी जीत जाएगाः पीएम मोदी
राजस्थानः कांग्रेस में बंवडर थमने की उम्मीद, सचिन की बात सुनने के लिए तीन सदस्यीय कमेटी
राजस्थानः कांग्रेस में बंवडर थमने की उम्मीद, सचिन की बात सुनने के लिए तीन सदस्यीय कमेटी
झारखंड में बेरोजगारी बड़ी चुनौती, हम इससे निपटेंगेः हेमंत सोरेन
झारखंड में बेरोजगारी बड़ी चुनौती, हम इससे निपटेंगेः हेमंत सोरेन

Stay Connected

Facebook Google twitter