ट्रैक्टर रैली पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, यह कानून व्यवस्था का मामला, इसे पुलिस देखे

 ट्रैक्टर रैली पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, यह कानून व्यवस्था का मामला, इसे पुलिस देखे
पीबी ब्यूरो ,   Jan 18, 2021

उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को केंद्र सरकार से कहा कि 26 जनवरी को किसानों की प्रस्तावित ट्रैक्टर रैली कानून-व्यवस्था से जुड़ा मामला है और यह फैसला करने का पहला अधिकार पुलिस को है कि राष्ट्रीय राजधानी में किसे प्रवेश की अनुमति दी जानी चाहिए.

प्रस्तावित ट्रैक्टर या ट्रॉली रैली अथवा गणतंत्र दिवस पर समारोहों एवं सभाओं को बाधित करने की कोशिश करने अन्य प्रकार के प्रदर्शनों पर रोक लगाने के लिये केंद्र की याचिका पर सुनवाई के दौरान शीर्ष अदालत ने कहा कि पुलिस के पास इस मामले से निपटने का पूरा अधिकार हैं.

प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव और न्यायमूर्ति विनीत सरन की पीठ ने इस मामले पर सुनवाई के दौरान केन्द्र से कहा , ‘‘क्या उच्चतम न्यायालय यह बताएगा कि पुलिस की क्या शक्तियां हैं और वह इनका इस्तेमाल कैसे करेगी? हम आपको यह नहीं बताने जा रहे कि आपको क्या करना चाहिए.’’

पीठ ने अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल से कहा कि वह इस मामले में 20 जनवरी को आगे सुनवाई करेगी.

पीठ ने कहा, ‘‘दिल्ली में प्रवेश का मामला कानून व्यवस्था से जुड़ा है और पुलिस इस पर फैसला करेगी.’’

इसे भी पढ़ें: गृह मंत्री अमित शाह से मिले झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन

पीठ ने कहा, ‘‘अटॉर्नी जनरल, हम इस मामले की सुनवाई स्थगित कर रहे हैं और आपके पास इस मामले से निपटने का पूरा अधिकार है.’’

केंद्र ने दिल्ली पुलिस के जरिए दायर याचिका में कहा है कि गणतंत्र दिवस समारोहों को बाधित करने की कोशिश करने वाली कोई भी प्रस्तावित रैली या प्रदर्शन ‘‘देश के लिए शर्मिंदगी’’ का कारण बनेगा.

वीडियो कांफ्रेंस के जरिए हुई सुनवाई के दौरान पीठ ने कहा कि दिल्ली में प्रवेश की अनुमति देने और नहीं देने के बारे में पुलिस को ही करना है क्योंकि न्यायालय प्रथम प्राधिकारी नहीं है.

पीठ ने वेणुगोपाल से कहा कि शीर्ष अदालत कृषि कानूनों के मामले की सुनवाई कर रही है और ‘‘हमने पुलिस की शक्तियों के बारे में कुछ नहीं कहा है’’.

(भाषा से इनपुट) 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल के साथ कांग्रेस विधायकों ने की हाथापाई, पांच विधायक निलंबित
हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल के साथ कांग्रेस विधायकों ने की हाथापाई, पांच विधायक निलंबित
पश्चिम बंगाल में 27 मार्च से आठ चरणों में होगा चुनाव, तमिलनाडु, केरल, पुडुचेरी में 6 अप्रैल को मतदान
पश्चिम बंगाल में 27 मार्च से आठ चरणों में होगा चुनाव, तमिलनाडु, केरल, पुडुचेरी में 6 अप्रैल को मतदान
पलामू में पुलिस के साथ मुठभेड़, जेजेएमपी का एरिया कमांडर मारा गया
पलामू में पुलिस के साथ मुठभेड़, जेजेएमपी का एरिया कमांडर मारा गया
पलामू में पुलिस के साथ मुठभेड़, जेजेएमपी का एरिया कमांडर मारा गया
पलामू में पुलिस के साथ मुठभेड़, जेजेएमपी का एरिया कमांडर मारा गया
केजरीवाल गुजरात में करेंगे रोड शो, निकाय चुनाव में आप की इंट्री से गदगद
केजरीवाल गुजरात में करेंगे रोड शो, निकाय चुनाव में आप की इंट्री से गदगद
टूलकिट केस: दिशा रवि को मिली जमानत, कोर्ट ने कहा- हानिरहित टूलकिट का संपादन गुनाह नहीं
टूलकिट केस: दिशा रवि को मिली जमानत, कोर्ट ने कहा- हानिरहित टूलकिट का संपादन गुनाह नहीं
 कोयला चोरी मामला: ममता बनर्जी की बहू रूजिरा से सीबीआई ने की लंबी पूछताछ
कोयला चोरी मामला: ममता बनर्जी की बहू रूजिरा से सीबीआई ने की लंबी पूछताछ
हजारीबाग में हाथियों का कहर, दो लोगों को पटक कर मार डाला
हजारीबाग में हाथियों का कहर, दो लोगों को पटक कर मार डाला
चीन ने पहली दफा माना, गलवान घाटी में हुए संघर्ष में उसके पांच सैनिक मारे गए थे
चीन ने पहली दफा माना, गलवान घाटी में हुए संघर्ष में उसके पांच सैनिक मारे गए थे
झारखंड: कोल कंपनी को बड़कागांव के रैयतों की 57 एकड़ जमीन वापस‌ करने का आदेश
झारखंड: कोल कंपनी को बड़कागांव के रैयतों की 57 एकड़ जमीन वापस‌ करने का आदेश

Stay Connected

Facebook Google twitter