नीतीश कटारा हत्याकांड: सुप्रीम कोर्ट ने विकास यादव की पैरोल याचिका खारिज की

नीतीश कटारा हत्याकांड: सुप्रीम कोर्ट ने विकास यादव की पैरोल याचिका खारिज की
पीबी ब्यूरो ,   Nov 04, 2019

उच्चतम न्यायालय ने नीतीश कटारा हत्याकांड में 25 साल का कारावास काट रहे विकास यादव को पैरोल देने से इंकार करते हुये सोमवार की उसकी याचिका खारिज कर दी. 

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अगुवाई वाली पीठ ने कहा कि दोषी को 25 साल कैद की सजा सुनाई गई थी और यह कोई राहत दिए बिना पूरी की जानी है.

पीटीआई के मुताबिक पीठ ने चार सप्ताह का पैरोल मांगने वाली याचिका को खारिज करते हुए यादव से कहा, ‘‘आपको 25 साल कैद की सजा सुनाई गई है, इसे पूरी करें.’’

इस बीच, पीठ ने यादव की उस याचिका को भी खारिज कर दिया जिसमें उसने बिना किसी राहत के 25 साल कैद की सजा सुनाने के दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश की संवैधानिक वैधता को चुनौती दी थी.

विकास यादव और उसके चचेरे भाई विशाल यादव को कटारा के अपहरण और हत्या के मामले में सजा सुनाई गई थी.

इसे भी पढ़ें: हुसैनाबाद के बसपा विधायक शिवपूजन मेहता आजसू में शामिल, कहा, यहां छोड़ कहीं जाना नहीं

वर्ष 2002 में 16 और 17 फरवरी की दरम्यानी रात अपहरण के बाद कटारा की हत्या कर दी गई थी.

इस घटना को विकास की बहन भारती से कटारा के कथित प्रेम संबंधों के चलते अंजाम दिया गया था जो अलग-अलग जाति से थे.

इस हत्याकांड के तीसरे दोषी सुखदेव पहलवान को 20 साल के कारावास की सजा सुनाई गई थी.

विकास यादव ने मामले में विभिन्न आधारों पर पैरोल मांगा था और कहा था कि मामले में वह पहले ही 17 साल से अधिक समय जेल में गुजार चुका है.


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

पंचतत्व में विलीन हुए बेरमो विधायक और मजदूरों के नेता राजेंद्र बाबू
पंचतत्व में विलीन हुए बेरमो विधायक और मजदूरों के नेता राजेंद्र बाबू
लॉकडाउन विफल रहा, अब आगे की रणनीति बताएं पीएम मोदीः राहुल गांधी
लॉकडाउन विफल रहा, अब आगे की रणनीति बताएं पीएम मोदीः राहुल गांधी
 अब उत्तर प्रदेश का मजदूर दुनिया में जहां भी होगा सरकार उसके साथ खड़ी रहेगी : योगी आदित्यनाथ
अब उत्तर प्रदेश का मजदूर दुनिया में जहां भी होगा सरकार उसके साथ खड़ी रहेगी : योगी आदित्यनाथ
कोरोना का कहरः दुनिया के टॉप 10 देशों में भारत भी शामिल
कोरोना का कहरः दुनिया के टॉप 10 देशों में भारत भी शामिल
चाईबासा के प्रवासी आदिवासी की मौत, लाश पड़ी है वर्धा अस्पताल में, गम में डूबे हैं 15 मजदूर साथी
चाईबासा के प्रवासी आदिवासी की मौत, लाश पड़ी है वर्धा अस्पताल में, गम में डूबे हैं 15 मजदूर साथी
'अचानक लॉकडाउन लागू करना गलत था, हम इसे तुरंत समाप्त नहीं कर सकते'
'अचानक लॉकडाउन लागू करना गलत था, हम इसे तुरंत समाप्त नहीं कर सकते'
देश में 4 करोड़ प्रवासी मजदूर, अब तक 75 लाख घर लौटें हैं :गृह मंत्रालय
देश में 4 करोड़ प्रवासी मजदूर, अब तक 75 लाख घर लौटें हैं :गृह मंत्रालय
लॉकडाउन में किसानों की क्या मदद की गई और कर्जमाफी से क्यों मुंह मोड़ रही सरकारः सुदेश
लॉकडाउन में किसानों की क्या मदद की गई और कर्जमाफी से क्यों मुंह मोड़ रही सरकारः सुदेश
बोकारोः गांव की महिलाओं ने एक महिला को बेरहमी से पीटा, बाल काटे, खींचकर कपड़े खोले, 11 गिरफ्तार
बोकारोः गांव की महिलाओं ने एक महिला को बेरहमी से पीटा, बाल काटे, खींचकर कपड़े खोले, 11 गिरफ्तार
70 हजार भाड़ा देकर मुंबई से लौटे 7 मजदूर, बाबूलाल बोले, 'हेमंत जी, अफसर आपको सच बताते नहीं'
70 हजार भाड़ा देकर मुंबई से लौटे 7 मजदूर, बाबूलाल बोले, 'हेमंत जी, अफसर आपको सच बताते नहीं'

Stay Connected

Facebook Google twitter