वारंटी को हिरासत से छुड़ाने के मामले में विधायक ढुल्लू महतो को डेढ़ साल की सजा, बच गई सदस्यता

वारंटी को हिरासत से छुड़ाने के मामले में  विधायक ढुल्लू महतो को डेढ़ साल की सजा, बच गई सदस्यता
Publicbol
पीबी ब्यूरो ,   Oct 09, 2019

झारखंड में बाघमारा से बीजेपी विधायक ढुल्लू महतो को धनबाद की एक अदालत ने डेढ़ साल की सजा सुनाई है. दो साल से कम की सजा के साथ ही ढुल्लू की विधायकी बच गई है. सजा सुनाए जाने के बाद कोर्ट से उन्हें जमानत मिल गई है.

जाहिर है वे चुनाव लड़ सकेंगे. लेकिन सजायाफ्ता जरूर कहलाएंगे. अगर दो साल की सजा होती, तो उनकी सदस्यता भी समाप्त होती और वे चुनाव नहीं लड़ पाते. लिहाजा इस मामले में सबकी निगाहे कोर्ट के फैसले पर टिकी थी. 

बीजेपी विधायक ढुल्लू महतो पर वारंटी को पुलिस हिरासत से छुड़ाने, पुलिस अधिकारी की वर्दी फाड़ने और सरकारी काम में बाधा पहुंचाने का आरोप है. 

इसी मामले में धनबाद  धनबाद स्थित अनुमंडल न्यायिक दंडाधिकारी शिखा अग्रवाल की अदालत ने यह सजा सुनाई है. सजा के वक्त ढुल्लू कोर्ट में मौजूद थे. डेढ़ साल की सजा मिलने पर उन्हें जमानत भी दी गई. 

अदालत द्वारा सजा सुनाए जाने के बाद भाजपा विधायक ढुलू महतो ने मीडिया से बातचीत में कहा कि उन्हें न्यायिक व्यवस्था पर पूरा भरोसा है. निचली अदालत की इस सजा को ऊपरी अदालत में अपील करेंगे. उन्हें बदनाम करने के लिए विरोधियों ने साजिश रची. वह गरीबों की लड़ाई लड़ते हैं, इस कारण उन्हें फंसाया गया है.

इसे भी पढ़ें: चतरा के सांसद सुनील सिंह लोकसभा की विशेषाधिकार समिति के सभापति बने

इस मामले में ढुल्लू महतो के अलावा राजेश गुप्ता, चुनचुन गुप्ता, रामेश्वर महतो और गंगा गुप्ता को दोषी करार देते हुए 18 महीने की सजा दी गई है.

जबकि बसंत शर्मा को बरी कर दिया गया है. राजेश गुप्ता को ही पुलिस की हिरासत से छुड़ाने के आरोप में यह मुकदमा दर्ज किया गया था. 

साल 2013 की घटना

यह घटना 12 मई साल 2013 की है. आरोप है कि ढुल्लू महतो ने एक वारंटी राजेश गुप्ता को पुलिस की हिरासत से छुड़ा लिया था. इस दौरान उन्होंने पुलिस की वर्दियां फाड़ दी और सरकारी काम में बाधा पहुंचाया. राजेश गुप्ता, ढुल्लू महतो के समर्थक हैं. 

12 मई 2013 को बरोरा थानेदार आरएन चौधरी ने कतरास थाना में ढुल्लू महतो सहित अन्य आरोपियों पर सरकारी कार्य में बाधा डालने, गिरफ्तार आरोपी को छुड़ाने, पुलिस का हथियार छीनने का प्रयास करने, धक्का-मुक्की कर वर्दी फाड़ने का आरोप लगाया था.

केस दर्ज होने के बाद ढुल्लू महतो ने कोर्ट में सरेंडर किया था. तब वे नौ जुलाई 2013 से 23 जून 2014 तक धनबाद जेल में रहे थे.

इसी मामले में धनबाद स्थित अनुमंडल न्यायिक दंडाधिकारी शिखा अग्रवाल की अदालत में सजा सुनाई है. इससे पहले 21 सितंबर को ढुल्लू महतो की ओर से इस मामले में बहस पूरी की गई.

विधायक की ओर से सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता ललन ओझा पैरवी करने आए थे. जबकि उनका सहयोग अधिवक्ता ललन किशोर प्रसाद और एनके सबिता ने किया था. 

इस बीच इसी मामले में बियाडा के पूर्व अध्यक्ष विजय कुमार झा ने हाईकोर्ट में पीआईएल दाखिल की है. हालांकि इस पर सुनवाई होना बाकी है.

याचिकाकर्ता के अधिवक्ता राजीव कुमार के मुताबिक याचिका में बताया गया है कि ढुलू महतो पैसे, पैरवी और पावर के दम पर वारंटी को हिरासत से छुड़ाने के मामले में बच रहे हैं. अब हाईकोर्ट में सुनवाई बाकी है. 

इसे भी पढ़ें: भारत के ‘हिंदू राष्ट्र’ होने को लेकर संघ अडिगः मोहन भागवत

यौन शोषण का एफआईआर

तीन दिनों पहले छह अक्तूबर को विधायक के खिलाफ कतरास थाना में यौन शोषण के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गई है. हालांकि यह केस 11 महीने बाद दर्ज हुआ है. बीजेपी की एक महिला कार्यकर्ता कमला कुमारी ने विधायक पर यौन शोषण का आरोप लगाया है.

महिला ने प्राथमिकी दर्ज किए जाने के लिए लिखित और ऑनलाइन आवेदन दिया था. लेकिन पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज नहीं की थी. इसके बाद पीड़िता ने हाईकोर्ट में क्रिमिनल रिट याचिका दायर की थी. हाईकोर्ट ने इस मामले में राज्य के पुलिस महानिदेशक और धनबाद के एसएसपी से जवाब देने को कहा था. 

विधायक ढुल्लू के खौफ और दबंगई के और भी किस्से हैं. साथ ही उन पर कई मामले दर्ज हैं. हाल ही में एक मजदूर परिवार ने धनबाद कलेक्ट्रेट के सामने सपरिवार आत्मदाह का प्रयास किया था.

अख्तर हवारी नामक मजदूर का आरोप है कि विधायक के आतंक की वजह से उसका काम छूट गया और आगे कोई काम पर रख नहीं रहा. हालांकि इस आरोप को ढुल्लू ने सिरे से खारिज करते हुए कहा है कि वे अख्तर हवारी को जानते तक नहीं. 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

लाल किले से पीएम मोदी के भाषण की ये 10 बड़ी और अहम बातें जानिए
लाल किले से पीएम मोदी के भाषण की ये 10 बड़ी और अहम बातें जानिए
आईपीएल 2020 के रंग में धौनी, साथियों के साथ चेन्नई पहुंचे
आईपीएल 2020 के रंग में धौनी, साथियों के साथ चेन्नई पहुंचे
शहरी क्षेत्रो में 'सीएम श्रमिक योजना', हेमंत बोले, निबंधन के 15 दिनों में रोजगार अन्यथा बेरोजगारी भत्ता
शहरी क्षेत्रो में 'सीएम श्रमिक योजना', हेमंत बोले, निबंधन के 15 दिनों में रोजगार अन्यथा बेरोजगारी भत्ता
वैक्सीन पर उठते सवालों के बीच रूस का दावा, दो सालों तक छू नहीं सकेगा वायरस
वैक्सीन पर उठते सवालों के बीच रूस का दावा, दो सालों तक छू नहीं सकेगा वायरस
राजस्थान विधानसभा में बोले सचिन पायलट, मैं जब तक बैठा हूं, सरकार सुरक्षित है
राजस्थान विधानसभा में बोले सचिन पायलट, मैं जब तक बैठा हूं, सरकार सुरक्षित है
वकील प्रशांत भूषण अवमानना के मामले में दोषी करार, सजा पर सुनवाई 20 अगस्त को
वकील प्रशांत भूषण अवमानना के मामले में दोषी करार, सजा पर सुनवाई 20 अगस्त को
हेमंत बोले, झारखंड की स्थानीय नीति सवालों के घेरे में, हम देख रहे हैं कि क्या बदलाव किया जाए
हेमंत बोले, झारखंड की स्थानीय नीति सवालों के घेरे में, हम देख रहे हैं कि क्या बदलाव किया जाए
तेजस्वी ने नीतीश और उनके मंत्री को घेरा, कोरोना के आंकड़ों पर पूछा- कौन सच्चा कौन झूठा?
तेजस्वी ने नीतीश और उनके मंत्री को घेरा, कोरोना के आंकड़ों पर पूछा- कौन सच्चा कौन झूठा?
झारखंडः पीटीआई के ब्यूरो चीफ पीवी रामानुजम ने खुदकुशी कर ली
झारखंडः पीटीआई के ब्यूरो चीफ पीवी रामानुजम ने खुदकुशी कर ली
 जीडीपी में गिरावट की नारायणमूर्ति की आंशका पर राहुल का तंज: ‘मोदी है तो मुमकिन है’
जीडीपी में गिरावट की नारायणमूर्ति की आंशका पर राहुल का तंज: ‘मोदी है तो मुमकिन है’

Stay Connected

Facebook Google twitter