बेबसी की इंतिहाः वृद्धा पेंशन को तरसता लातेहार का आदिवासी दंपती, बोले, 'जीते जी नसीब नहीं होगा'

बेबसी की इंतिहाः वृद्धा पेंशन को तरसता लातेहार का आदिवासी दंपती, बोले, 'जीते जी नसीब नहीं होगा'
Photo- Sanjay Ram
पीबी ब्यूरो ,   May 29, 2020

पेंशन के लिए कागज तो कई दफा भरा. पर वह जाता कहां है पता नहीं चलता. अब सरकारी बाबू से जाकर रोज- रोज पूछने की हिम्मत नहीं. लॉकडाउन की बेबसी सामने है. चार महीने से से पति खाट पर पड़े हैं. हाथ में पैसे नहीं. साधन नहीं. सुविधा नहीं. कहां जाएं. किससे कहें. इलाज के लिए पैसे भी तो चाहिए. राशन मिलता है, तो किसी तरह नून- भात पर जिंदगी टिकी है. 

गंवई लहजे में यह कहते हुए गंदरी देवी का गला रूंध जाता है. उनकी निगाहें खाट पर पड़े बीमार पति नागो उरांव पर जा टिकती है. मानो बेबसी की इंतिहा में पल- पल उनका दुखों के पहाड़ तले दबा हो. 

नागो उरांव बहुत बोल नहीं पाते. चार महीने से बीमारी ने देह की अस्थि-पंजर हिला कर रख दिया है.

पहले मजदूरी करते थे. अब काया साथ नहीं देता. गरीबी की चादर ओढ़ें या बिछाएं समझ नहीं पाते. लिहाजा मौत और जिंदगी के बीच जारी जंग में 

झारखंड में लातेहार जिले के बरियातू प्रखंड के सुदूर पुराना सिबला गांव के इस आदिवासी दंपती की कसक भी है- ' लगता है जीते जी पेंशन नसीब नहीं होगा'. जबकि वृद्धा पेंशन पाने को वे सीधे हकदार हैं. 

इसे भी पढ़ें: झारखंडः 3 लाख 58 हजार लोग अब तक वापस लौटे, प्रवासी मजदूरों का डेटाबेस तैयार करा रही सरकार

आदिवासी दलित बहुल इस गांव में कई परिवारों के सामने बेबसी है, पर नागो उरांव की जिंदगी बेहद मुश्किलों में पड़ी है. पत्नी जब तब रोती हैं. कभी वह पति की नब्ज टटोलती हैं और कभी पेट. रातों में नींद नहीं आती.

बेटा लखन उरांव दिहाड़ी मजदूर है. वो खुद अपनी जिंदगी की उलझनों में फंसा है. 

नागो उरांव और गंदरी को दिन तारीख याद नहीं, पर इतना जरूर जानते हैं कि पांच वर्षों से वृद्धा पेंशन पाने की कोशिश करते रहे हैं. तीन साल पहने नागो उरांव ने कर्ज लेकर ग्रामीण बैंक में खाता भी खुलवाए. आस लगी रही कि पेंशन के पैसे मिलेंगे, लेकिन खाता खाली रहा.  

बरियातू प्रखंड के स्थानीय पत्रकार संजय राम गुरुवार को इस आदिवासी परिवार का हाल जानने पहुंचे थे. संजय राम बताते हैं कि नागो उरांव ने पेंशन के लिए कागज भरे थे. बैंक में खाता खुलवाने में खुद उन्होंने मदद की थी. लेकिन नागो उरांव की आस धरी रह गई. संजय बताते हैं कि इस परिवार की बेबसी से प्रखंड के अधिकारियों को भी उन्होंने वाकिफ कराया है. और मदद की गुजारिश की है. 

मुखिया मुनिया देवी कहती हैं कि पीडीएस से राशन दिलाकर मदद कर सकते हैं. आगे यह पता करेंगे कि किन वजहों से पेंशन नहीं मिल रहा.  

 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

निर्वाचन आयोग ने खुद को कलंकित किया, इसे भंग किया जाए, इसके सदस्यों की जांच हो: आनंद शर्मा
निर्वाचन आयोग ने खुद को कलंकित किया, इसे भंग किया जाए, इसके सदस्यों की जांच हो: आनंद शर्मा
ममता बनर्जी 5 मई को लेंगी मुख्यमंत्री पद की शपथ, लगातार तीसरा मौका
ममता बनर्जी 5 मई को लेंगी मुख्यमंत्री पद की शपथ, लगातार तीसरा मौका
हल्के लक्षण होने पर सीटी-स्कैन कराने का कोई लाभ नहीं- डॉ. रणदीप गुलेरिया
हल्के लक्षण होने पर सीटी-स्कैन कराने का कोई लाभ नहीं- डॉ. रणदीप गुलेरिया
शराब नहीं मिलने पर सैनिटाइजर पीने से दो की मौत, दो अन्य बीमार
शराब नहीं मिलने पर सैनिटाइजर पीने से दो की मौत, दो अन्य बीमार
अस्पतालों में बेड का इंतजार करना अधिक मौत की वजह हो सकती है-रणदीप गुलेरिया
अस्पतालों में बेड का इंतजार करना अधिक मौत की वजह हो सकती है-रणदीप गुलेरिया
गुजरात के भरूच में एक अस्पताल में आग लगने से 14 कोरोना मरीज समेत 16 की मौत
गुजरात के भरूच में एक अस्पताल में आग लगने से 14 कोरोना मरीज समेत 16 की मौत
भाजपा पश्चिम बंगाल में आराम से और पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाएगीः भूपेंद्र यादव
भाजपा पश्चिम बंगाल में आराम से और पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाएगीः भूपेंद्र यादव
वैक्सीन को लेकर हेमंत सरकार केंद्र पर दोष मत मढ़े,  राज्य के पास 6.44 लाख टीका उपलब्धः दीपक प्रकाश
वैक्सीन को लेकर हेमंत सरकार केंद्र पर दोष मत मढ़े, राज्य के पास 6.44 लाख टीका उपलब्धः दीपक प्रकाश
अमेरिका से चिकित्सा एवं राहत सामग्री की पहली खेप भारत पहुंची, कहा- कोविड से मिलकर लड़ेंगे
अमेरिका से चिकित्सा एवं राहत सामग्री की पहली खेप भारत पहुंची, कहा- कोविड से मिलकर लड़ेंगे
हेमंत सोरेन ने लगवाया कोरोना का टीका, बोले-अफवाहों पर ना दें ध्यान, वैक्सीन है जरूरी
हेमंत सोरेन ने लगवाया कोरोना का टीका, बोले-अफवाहों पर ना दें ध्यान, वैक्सीन है जरूरी

Stay Connected

Facebook Google twitter