टूटे दफ्तर का जायजा लेने पहुंची कंगना की तल्खियां बरकरार, शिवसेना को सोनिया सेना बताया

टूटे दफ्तर का जायजा लेने पहुंची कंगना की तल्खियां बरकरार, शिवसेना को सोनिया सेना बताया
पीबी ब्यूरो ,   Sep 10, 2020

अभिनेत्री कंगना रनौत गुरुवार को मुंबई के पाली हिल्स इलाके में स्थित अपने दफ़्तर को देखने पहुँची जिसके कुछ हिस्से बुधवार को बीएमसी ने तोड़ दिए थे. इधर, कंगना रनौत की तल्खियां कम होती नहीं दिखती.

उन्होंने अपनी बात कहने के लिए एक बार फिर सोशल मीडिया पर मोर्चा खोला है और शिवसेना को सोनिया सेना बताया है.

ट्विटर पर उन्होंने लिखा, "जिस विचारधारा पर श्री बाला साहेब ठाकरे ने शिवसेना का निर्माण किया था आज वो सत्ता के लिए उसी विचारधारा को बेच कर शिवसेना से सोनिया सेना बन चुके हैं, जिन गुंडों ने मेरे पीछे से मेरा घर तोड़ा उनको सिविक बॉडी मत बोलो, संविधान का इतना बड़ा अपमान मत करो."

इसके बाद एक और ट्वीट कर कंगना ने लिखा कि "महाराष्ट्र में चुनाव हारने के बाद शिवसेना ने बेशर्मी से मिलावट सरकार बनाई और इसे सोनिया सेना बना दिया."

इसे भी पढ़ें: चारा घोटालाः सजायाफ्ता लालू की जमानत पर अगली सुनवाई 9 अक्तूबर को

दफ्तर का जायजा लेने गईं कंगना के साथ उनकी बहन रंगोली भी थीं. स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट्स के अनुसार, कंगना वहाँ करीब 10 मिनट रुकीं और इस दौरान उन्होंने पूरी जगह का जायज़ा लिया.

कंगना बुधवार को ही हिमाचल प्रदेश से मुंबई पहुँची थीं और उनके मुंबई पहुँचने से पहले ही बीएमसी ने उनके दफ़्तर 'मणिकर्णिका फ़िल्म्स' में कथित अवैध निर्माण हटाने की कार्रवाई शुरू कर दी थी.

बीएमसी द्वारा की गई कार्रवाई के ख़िलाफ़ कंगना ने बॉम्बे हाईकोर्ट में अपील की है. बॉम्बे हाई कोर्ट ने कंगना रनौत का बंगला (दफ़्तर) तोड़े जाने के मामले में बीएमसी की कड़ी आलोचना करते हुए, मामले पर स्टे लगा दिया है.

अदालत ने कहा है कि 'बीएमसी की यह कार्रवाई उचित नहीं, बल्कि दुर्भावनापूर्ण लगती है. अदालन ने गुरुवार को मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि 'अगर बीएमसी बाकी अनाधिकृत निर्माण मामलों में इतनी ही तेज़ी से कार्रवाई करती तो मुंबई शहर रहने के लिए एक बिल्कुल अलग और बेहतरीन शहर होता.'

वहीं, बीएमसी के वकील जोएल कार्लोस ने अपनी दलील ने कहा कि 'कंगना ख़ुद मानती हैं कि उनका बंगला रिहायशी इलाक़े में है, लेकिन उन्होंने बंगले में ही अपना दफ़्तर बना रखा है.'

इस पर अदालत ने कहा कि फ़िलहाल यथास्थिति बरक़रार रहेगी. इस दौरान बीएमसी ना वहाँ कोई कार्रवाई करेगी और ना ही कंगना की ओर से टूटी हुई पाइपलाइन और अन्य चीज़ों की मरम्मत कराई जाएगी.

हाईकोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 22 सितंबर की तारीख़ तय की है.

बुधवार को मुंबई महानगरपालिका ने बांद्रा पाली हिल्स में मौजूद उनके दफ्तर पर कार्रवाई की थी. इसके बाद बताया ये जा रहा है कि महानगरपालिका अवैध निर्माण कार्य को हटाने का लिए अब उनके फ्लैट में भी तोड़फोड़ कर सकती है.

ये मामला बुधवार को मुंबई हाईकोर्ट पहुंचा था जहां कोर्ट ने कंगना की संपत्ति पर महानगरपालिका की कार्रवाई पर रोक लगा दी थी. अभिनेत्री कंगना रनौत गुरुवार को मुंबई के पाली हिल्स इलाके में स्थित अपने दफ़्तर को देखने पहुँची जिसके कुछ हिस्से बुधवार को बीएमसी ने तोड़ दिए थे.

कंगना बुधवार को ही हिमाचल प्रदेश से मुंबई पहुँची थीं और उनके मुंबई पहुँचने से पहले ही बीएमसी ने उनके दफ़्तर 'मणिकर्णिका फ़िल्म्स' में कथित अवैध निर्माण हटाने की कार्रवाई शुरू कर दी थी.

बीएमसी द्वारा की गई कार्रवाई के ख़िलाफ़ कंगना ने बॉम्बे हाईकोर्ट में अपील की है.

इसे भी पढ़ें: अचानक लगा लॉकडाउन असंगठित वर्ग के लिए मृत्युदंड साबित हुआः राहुल गांधी

बॉम्बे हाई कोर्ट ने कंगना रनौत का बंगला (दफ़्तर) तोड़े जाने के मामले में बीएमसी की कड़ी आलोचना करते हुए, मामले पर स्टे लगा दिया है.

अदालत ने कहा है कि 'बीएमसी की यह कार्रवाई उचित नहीं, बल्कि दुर्भावनापूर्ण लगती है. अदालन ने गुरुवार को मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि 'अगर बीएमसी बाकी अनाधिकृत निर्माण मामलों में इतनी ही तेज़ी से कार्रवाई करती तो मुंबई शहर रहने के लिए एक बिल्कुल अलग और बेहतरीन शहर होता.' वहीं, बीएमसी के वकील जोएल कार्लोस ने अपनी दलील ने कहा कि 'कंगना ख़ुद मानती हैं कि उनका बंगला रिहायशी इलाक़े में है, लेकिन उन्होंने बंगले में ही अपना दफ़्तर बना रखा है.' इस पर अदालत ने कहा कि फ़िलहाल यथास्थिति बरक़रार रहेगी. अगली सुनवाई 22  सितंबर को होगी

इस बीच, कंगना के दफ़्तर पर कार्रवाई करने के बाद मुंबई महानगरपालिका ने डिज़ाइनर मनीष मल्होत्रा को भी कारण बताओ नोटिस जारी किया है.

महानगरपालिका ने पूछा है कि घर में मनीष ये बताएं कि उनके घर में किए गए 'अनाधिकृत निर्माण' को क्यों न गिरा दिया जाए.

इस नोटिस का जवाब देने के लिए मनीष मल्होत्रा को सात दिनों की मोहलत भी दी गई है.


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
जेडीयू के दफ्तर में सीएम नीतीश से मिले गुप्तेश्वर पांडेय, 'सुशासन' की तारीफ की
जेडीयू के दफ्तर में सीएम नीतीश से मिले गुप्तेश्वर पांडेय, 'सुशासन' की तारीफ की
 मनमोहन सिंह की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत: राहुल
मनमोहन सिंह की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत: राहुल
झारखंडः सरना कोड की मांग पर गोलबंद होते आदिवासी संगठन, 15 अक्तूबर को राज्य व्यापी चक्का जाम करेंगे
झारखंडः सरना कोड की मांग पर गोलबंद होते आदिवासी संगठन, 15 अक्तूबर को राज्य व्यापी चक्का जाम करेंगे
पता नहीं, पीएम मोदी देश को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं, कृषि विधेयक सबसे बड़ा प्रहारः हेमंत सोरेन
पता नहीं, पीएम मोदी देश को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं, कृषि विधेयक सबसे बड़ा प्रहारः हेमंत सोरेन
गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का निधन, मखमली आवाज से प्रशंसकों के दिलों पर दशकों तक राज किए
गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का निधन, मखमली आवाज से प्रशंसकों के दिलों पर दशकों तक राज किए
बिहार विधानसभा चुनाव का बिगुल बजाः 28 अक्तूबर से तीन चरणों में मतदान, 10 नवंबर को नतीजे
बिहार विधानसभा चुनाव का बिगुल बजाः 28 अक्तूबर से तीन चरणों में मतदान, 10 नवंबर को नतीजे

Stay Connected

Facebook Google twitter