झारखंडः मारी गई खेती, राशन भी था बंद, किसान ने ट्रेन से कट कर दी जान, अफसर पहुंचे दरवाजे पर

झारखंडः मारी गई खेती, राशन भी था बंद, किसान ने ट्रेन से कट कर दी जान, अफसर पहुंचे दरवाजे पर
Publicbol
पीबी ब्यूरो ,   Feb 20, 2020

झारखंड में तंगहाली से गुजरते एक किसान दिग्विजय कुमार ने ट्रेन से कटकर जान दे दी है. इस घटना के बाद सरकार ने जांच के आदेश दिए हैं. गुमला जिले के कई आला अफसर किसान के दरवाजे पर पहुंचे.

अपसरों ने हाल जाना. भरोसा दिलाया कि किसान की विधवा को पेंशन दिया जाएगा. पक्का मकान भी बनाया जाएगा. 

इधर किसान की पत्नी देवंती देवी और बूढ़ी मां शारदा देवी पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है. वे समझ नहीं पातीं कि बेबसी की चादर ओढ़े या बिछाएं. बच्चों को कैसे पढ़ाएं. एक ही कमाने वाला था, जिसने जिंदगी खत्म कर ली. 

किसान दिग्विजय कुमार गुमला जिले के बसिया प्रखंड स्थित ससिया गांव के रहने वाले थे. मंगलवार को रांची-राउरकेला रेलखंड के बानो-कानारोवा रेलवे स्टेशन के बीच ट्रेन से कटकर उन्होंने जान दे दी.

मरने से पहले दिग्विजय ने एक सुसाइड नोट लिखा था. जिसमें उसने कहा है कि ''मैं एक किसान हूं. आर्थिक तंगी से तंग आकर आत्महत्या कर रहा हूं.''

इसे भी पढ़ें: फसल बीमा योजना को स्वैच्छिक बनाने पर चिदंबरम बोले, यह सबसे बड़ा किसान विरोधी कदम

किसान की खुदकुशी की खबर राज्य मुख्यालय पहुंची, तो कृषि मंत्री बादल ने गुमला जिले के उपायुक्त से घटना की जांच कर रिपोर्ट तलब की.  

किसान की मौत की सूचना पर बुधवार को डीसी शशि रंजन, एसडीओ सौरभ कुमार, एसी सुधीर गुप्ता, डीएसओ अरविंद कुमार मृतक के घर पहुंचे. मृतक की पत्नी देवंती देवी से घटना और घर की आर्थिक स्थिति की जानकारी ली

देवंती देवी ने बताया कि मामूली खेती-बारी के अलावा आय का कोई स्रोत नहीं है.

परिजनों ने बताया कि कृषि आशीर्वाद योजना का लाभ नहीं मिल रहा है. एक साल से राशन भी बंद है. इस वर्ष खेतीबारी भी ठीक से नहीं हुई. जिस कारण किसान दिग्विजय परेशान रहते थे. चिंता में घबराकर उन्होंने आत्महत्या कर ली.  

ससिया गांव के कई किसानों का कहना है कि इलाके में रोजगार का कोई साधन नहीं है. खेती से ही लोग घर- परिवार संभालते हैं. 

इससे पहले दिग्विजय ने मंगलवार को पत्नी से घड़ी की मरम्मत के लिए 50 रुपए मांगे थे. इसके बाद जिंदा नहीं लौटे. देर शाम घर वालों को खुदकुशी की जानकारी मिली.

किसान का एक पुत्र हरिओम गोप मसरिया स्थित नवोदय स्कूल का 11वीं में पढ़ता है. वहीं, पुत्री भूमिका कुमारी दलमादी में 7वीं में पढ़ती है. घटना की जानकारी मिलने के बाद बेटा भी घर आया है. 

इस बीच गुमला डीसी शशि रंजन ने पीड़ित परिवार को भरोसा दिलाया है कि हर संभव मदद की जाएगी. सरकारी सुविधा के तहत विधवा पेंशन व दीनदयाल आवास योजना के तहत पक्का घर बनवाया जाएगा.  

पंचायत के मुखिया जीवन मशीह बरला के मुताबिक गांव के अधिकांश लोगों को कृषि आशीर्वाद योजना का लाभ नहीं मिला है. जबकि पंचायत के सभी गांव में कैंप लगाकर आवेदन लिया गया था.

हालांकि दिग्विजय ने कभी आर्थिक तंगी की जानकारी नहीं दी. अगर जानकारी रहती तो मैं जरूर मदद करता. ऐसे उसके घर की स्थिति ठीक नहीं है. इधर, कांग्रेस के जिला अध्यक्ष रोशन बरवा भी गांव पहुंचकर पीड़ित परिवार से मिले.

इसे भी पढ़ें: रिक्शा चालक ने मोदी को दिया था बेटी की शादी का न्योता, पीएम ने वाराणसी में मुलाकात की


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कोरोना के बीच क्यों सुर्खियों में हैं डॉक्टर सुधीर डेहरिया
कोरोना के बीच क्यों सुर्खियों में हैं डॉक्टर सुधीर डेहरिया
उत्तर प्रदेश में 25 साल के युवक की मौत, देश भर में मरने वालों का आंकड़ा 35 तक पहुंचा
उत्तर प्रदेश में 25 साल के युवक की मौत, देश भर में मरने वालों का आंकड़ा 35 तक पहुंचा
बीजेपी बोली, झारखंड के धार्मिक स्थलों में ठहरे विदेशियों ने संक्रमण लाया और सरकार देखती रही
बीजेपी बोली, झारखंड के धार्मिक स्थलों में ठहरे विदेशियों ने संक्रमण लाया और सरकार देखती रही
निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन के बाद मेरठ और मुज्जफरनगर अलर्ट पर
निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन के बाद मेरठ और मुज्जफरनगर अलर्ट पर
कोरोना संकट के बीच तबलीगी जमात में अनुमानित 1700 लोग शामिल हुए थे,सख्त कार्रवाई होनी चाहिएः मंत्री
कोरोना संकट के बीच तबलीगी जमात में अनुमानित 1700 लोग शामिल हुए थे,सख्त कार्रवाई होनी चाहिएः मंत्री
प्रशांत किशोर ने कहा, नीतीश कुमार गद्दी छोड़ दें, जदयू का पलटवार, ट्वीट पर घटिया राजनीति मत करें
प्रशांत किशोर ने कहा, नीतीश कुमार गद्दी छोड़ दें, जदयू का पलटवार, ट्वीट पर घटिया राजनीति मत करें
सोशल मीडिया पर आपातकाल लगाने के संदेश फर्जी: सेना
सोशल मीडिया पर आपातकाल लगाने के संदेश फर्जी: सेना
 नजाकत समझें और संभलें, भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 32 हुई
नजाकत समझें और संभलें, भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 32 हुई
स्पाइसजेट का पायलट कोरोना वायरस से संक्रमित, चालक दल हुए होम क्वारंटाइन
स्पाइसजेट का पायलट कोरोना वायरस से संक्रमित, चालक दल हुए होम क्वारंटाइन
'मन की बात' में बोले पीएम मोदी, असुविधा के लिए क्षमा, पर इसके बिना कोई रास्ता नहीं था
'मन की बात' में बोले पीएम मोदी, असुविधा के लिए क्षमा, पर इसके बिना कोई रास्ता नहीं था

Stay Connected

Facebook Google twitter