झारखंडः करवट लेती राजनीति, आज बाबूलाल जा रहे बीजेपी में, प्रदीप और बंधु थामेंगे कांग्रेस का हाथ

झारखंडः करवट लेती राजनीति, आज बाबूलाल जा रहे बीजेपी में, प्रदीप और बंधु थामेंगे कांग्रेस का हाथ
पीबी ब्यूरो ,   Feb 17, 2020

झारखंड की राजनीति आज से कवट लेगी. बाबूलाल मरांडी की घर वापसी हो रही है. साथ ही उनकी पार्टी झारखंड विकास मोर्चा का बीजेपी में विलय हो जाएगा.

रांची स्थित प्रभात तारा मैदान में मिलन समारोह का कार्यक्रम कुछ ही देर में होगा. इसमें बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह, झारखंड के प्रभारी ओम प्रकाश माथुर समेत बीजेपी के कई बड़े नेता शामिल होंगे. 

इस कार्यक्रम के जरिए बीजेपी सत्तारढ़ जेएमएम और कांग्रेस को अहसास कराना चाहती है कि वह मजबूत विपक्ष की भूमिका निभाएगी और उसकी ताकत कमतर नहीं आंकी जा सकती है. 

बीजेपी में जाने से पहले ही बाबूलाल ने सरकार पर हमला बोलना शुरू कर दिया है. 

उधर झारखंड विकास मोर्चा के दो अन्य विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की आज ही कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं. कांग्रेस झारखंड में सरकार में शामिल है. पहली दफा झारखंड में कांग्रेस के 16 विधायक चुनाव जीते हैं. जाहिर है जवीएम के दोनों विधायकों के शामिल होने से कांग्रेस का कुनबा बड़ा हो जाएगा. 

इसे भी पढ़ें: बाबूलाल की नई पारी, 14 साल बाद बीजेपी में हुए वापस, स्वागत से अभिभूत दिखे

इन सबके बीच 14 सालों से झारखंड में क्षेत्रीय राजनीति की धुरी बनी बाबूलाल मरांडी की पार्टी पर आज से पर्दा पड़ जाएगा. यानि जेवीएम का नाम पन्नो में रह जाएगा. 

कांग्रेस में प्रदीप यादव और बंधु तिर्की की हैसियत क्या होगी, इस पर सबकी नजर है. उधर बीजेपी में बाबूलाल मरांडी को नेता प्रतिपक्ष या प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा सकता है. 

दरअसल विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के डेढ़ महीने से अधिक वक्त हो गए हैं, बीजेपी में नेता प्रतिपक्ष के लिए चेहरा तय नहीं किया गया है. बीजेपी में नया प्रदेश अध्यक्ष कौन होगा, इसका फैसला भी बहुत जल्दी में लिया जाना है. समझा जा रहा है कि बाबूलाल मरांडी की रायशुमारी के बाद पार्टी इन दोनों पदों के लिए नाम तय करेगी.    

बाबूलाल मरांडी के बीजेपी में जाने के बाद उनकी हैसियत तो पार्टी तय करेगी ही, साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास की भूमिका क्या होगी, यह तस्वीर भी साफ होती रहेगी. 

नेतृत्व ने नेता प्रतिपक्ष और प्रदेश अध्यक्ष पद को लेकर झारखंड के सभी जिम्मेदार नेताओं से फीडबैक ले लिया है. अध्यक्ष पद के लिेए दीपक प्रकाश, सांसद सुनील सिंह, राकेश प्रसाद का नाम भी नेतृत्व के सामने हैं. 

2006 में बाबूलाल मरांडी ने बीजेपी छोड़ दी थी. इसके बाद अपनी पार्टी बनाकर राजनीति करते रहे. इस दौरान उनकी पार्टी लोकसभा का चुनाव तीन बारर और विधानसभा का चुनाव तीन बार लड़ी.

बाबूलाल ने काफी उतार- चढ़ाव का सामना किया. लेकिन वे सत्ता में नहीं आ सके. 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कोरोना तेरे कारणः 124 वर्षों में पहली बार रद्द की गई बोस्टन मैराथन
कोरोना तेरे कारणः 124 वर्षों में पहली बार रद्द की गई बोस्टन मैराथन
ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में दी मंदिर-मस्जिद खोलने की इजाजत
ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में दी मंदिर-मस्जिद खोलने की इजाजत
छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन
छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन
चीन के साथ ताजा सीमा विवाद को लेकर नरेंद्र मोदी का मूड अच्छा नहीं है : डोनाल्ड ट्रंप
चीन के साथ ताजा सीमा विवाद को लेकर नरेंद्र मोदी का मूड अच्छा नहीं है : डोनाल्ड ट्रंप
लॉकडाउन के बाद गेंदबाजों के लिए लय हासिल करना मुश्किल होगा : ब्रेट ली
लॉकडाउन के बाद गेंदबाजों के लिए लय हासिल करना मुश्किल होगा : ब्रेट ली
रांचीः क्वारंटाइन में रहने के बाद गांधीनगर अस्पताल के डॉक्टर, नर्स ने फिर संभाला मोर्चा
रांचीः क्वारंटाइन में रहने के बाद गांधीनगर अस्पताल के डॉक्टर, नर्स ने फिर संभाला मोर्चा
प्रवासी मज़दूरों से किराया नहीं लिया जाए और खाना भी मुहैया कराएं- सुप्रीम कोर्ट
प्रवासी मज़दूरों से किराया नहीं लिया जाए और खाना भी मुहैया कराएं- सुप्रीम कोर्ट
चाईबासाः मुठभेड़ में पीएलएफआई की एक महिला समेत तीन उग्रवादी मारे गए, एके 47 बरामद
चाईबासाः मुठभेड़ में पीएलएफआई की एक महिला समेत तीन उग्रवादी मारे गए, एके 47 बरामद
अब लॉकडाउन खत्म करना ही होगा, इसे बढ़ाने का मतलब नहींः किरण मजूमदार शॉ
अब लॉकडाउन खत्म करना ही होगा, इसे बढ़ाने का मतलब नहींः किरण मजूमदार शॉ
फीस माफी पर निजी स्कूल राजी नहीं, जगरनाथ बोले, 'शिक्षा मंत्री की बात भी आपने नहीं मानी'
फीस माफी पर निजी स्कूल राजी नहीं, जगरनाथ बोले, 'शिक्षा मंत्री की बात भी आपने नहीं मानी'

Stay Connected

Facebook Google twitter