झारखंडः अहम फैसला, अब गैरमजरूआ जमीन की भी कटेगी रसीद

झारखंडः अहम फैसला, अब गैरमजरूआ जमीन की भी कटेगी रसीद
पीबी ब्यूरो ,   Jul 17, 2020

झारखंड में अब गैरमजरूआ जमीन की भी रसीद कटेगी. इसे बड़ा और अहम फैसला माना जा रहा है. पूर्व की सरकार में रसीद नहीं काटे जाने पर कई जिलों में लोगों में आक्रोश था.

सरकार के आदेश से अधिकतर गैरमजरूआ मालिक जमीन को अवैध या संदेहास्पद जमाबंदी की सूची में डाल दिया गया था. सत्यापन भी धीमा था. ऐसे में लोग फंसे हुए थे. बिना रसीद के नक्शा पास कराने से लेकर लोन लेना, विक्रय करना सबकुछ बाधित था.

खबरोंके मुताबिक अब एक जनवरी 1946 के पूर्व विक्रय पत्र, पट्टा, हुकुमनामा के आधार पर निबंधित वैसी जमीन, जो पंजी टू में गैरमजरूआ भूमि दर्ज है, उसकी रसीद जारी हो सकेगी. 

वैसी जमीन, जो विगत सर्वे में किसी भी रैयत को तत्कालीन जमींदार द्वारा बंदोबस्त नहीं की जा सकी, उसे ही गैरमजरूआ मालिक जमीन कहा जाता है..

इस तरह की जमाबंदीवाली जमीन पर निर्णय लेकर रसीद जारी करने का अधिकार अंचल कार्यालयों को दे दिया गया है.

इसे भी पढ़ें: झारखंडः12 वीं का रिजल्ट जारी, साइंस में 57, कॉमर्स में 77 और आर्ट्स में 82 प्रतिशत सफल

 इसके लिए अभिलेख भूमि सुधार उपसमाहर्ता तथा अनुमंडल पदाधिकारियों के पास भेजने की जरूरत नहीं होगी, बल्कि अंचल अधिकारी अपने स्तर से अभिलेखों व स्थल के भौतिक सत्यापन से संतुष्ट होकर अंतिम आदेश पारित कर सकेंगे.

पूर्व में जारी मैनुअल लगान रसीद के आधार पर अब गैरमजरूआ मालिक जमीन की ऑनलाइन लगान रसीद जारी करने की व्यवस्था की जाएगी. 

राजस्व, निबंधन एवं भूमि सुधार विभाग के सचिव केके सोन ने इससे संबंधित संकल्प जारी किया है.उन्होंने सारे उपायुक्तों को इससे अवगत करा दिया है.

सचिव ने लिखा है कि ऐसे सारे मामले जिसमें किसी प्रकार की कार्यवाही के बिना भी लगान रसीद निर्गत करना रुका हुआ है, उन सभी मामलों में ऑनलाइन रसीद जारी करने की व्यवस्था की जाए. 

सचिव ने लिखा है कि जिन मामलों में सक्षम प्राधिकार द्वारा भूमिहीन एवं सुयोग्य व्यक्तियों को नियमतः गैरमजरूआ खास भूमि की बंदोबस्ती या गृह स्थल बंदोबस्ती की गयी है, तो उन मामलों में बंदोबस्ती, पंजी, पट्टा एवं अन्य संबंधित अभिलेखों का सत्यापन तथा भौतिक सत्यापन अंचल अधिकारी करेंगे.

अंचल अधिकारी पूर्णता संतुष्ट होकर आदेश पारित करेंगे और पंजी टू के मुताबिक ऑनलाइन इंट्री करेंगे. अगर ऐसे मामलों में जमाबंदी रद्द करने की कार्रवाई चल रही है, तो उसका निष्पादन भी उपरोक्त निर्देश के आलोक में किया जाएगा.


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

आईपीएल 2020 के रंग में धौनी, साथियों के साथ चेन्नई पहुंचे
आईपीएल 2020 के रंग में धौनी, साथियों के साथ चेन्नई पहुंचे
वैक्सीन पर उठते सवालों के बीच रूस का दावा, दो सालों तक छू नहीं सकेगा वायरस
वैक्सीन पर उठते सवालों के बीच रूस का दावा, दो सालों तक छू नहीं सकेगा वायरस
राजस्थान विधानसभा में बोले सचिन पायलट, मैं जब तक बैठा हूं, सरकार सुरक्षित है
राजस्थान विधानसभा में बोले सचिन पायलट, मैं जब तक बैठा हूं, सरकार सुरक्षित है
वकील प्रशांत भूषण अवमानना के मामले में दोषी करार, सजा पर सुनवाई 20 अगस्त को
वकील प्रशांत भूषण अवमानना के मामले में दोषी करार, सजा पर सुनवाई 20 अगस्त को
तेजस्वी ने नीतीश और उनके मंत्री को घेरा, कोरोना के आंकड़ों पर पूछा- कौन सच्चा कौन झूठा?
तेजस्वी ने नीतीश और उनके मंत्री को घेरा, कोरोना के आंकड़ों पर पूछा- कौन सच्चा कौन झूठा?
झारखंडः पीटीआई के ब्यूरो चीफ पीवी रामानुजम ने खुदकुशी कर ली
झारखंडः पीटीआई के ब्यूरो चीफ पीवी रामानुजम ने खुदकुशी कर ली
 जीडीपी में गिरावट की नारायणमूर्ति की आंशका पर राहुल का तंज: ‘मोदी है तो मुमकिन है’
जीडीपी में गिरावट की नारायणमूर्ति की आंशका पर राहुल का तंज: ‘मोदी है तो मुमकिन है’
जानिए क्यों मिला खूंटी के दारोगा पुष्पराज को केंद्रीय गृह मंत्री पदक सम्मान
जानिए क्यों मिला खूंटी के दारोगा पुष्पराज को केंद्रीय गृह मंत्री पदक सम्मान
अलीगढ़ः बीजेपी विधायक का आरोप, पुलिस ने पीटा, कार्यकर्ताओं ने थाना घेरा, तनाव
अलीगढ़ः बीजेपी विधायक का आरोप, पुलिस ने पीटा, कार्यकर्ताओं ने थाना घेरा, तनाव
रूस की कोरोना वैक्सीन के बारे जानकारों की अलग-अलग राय?
रूस की कोरोना वैक्सीन के बारे जानकारों की अलग-अलग राय?

Stay Connected

Facebook Google twitter