अपने बूते बसों- ट्रकों से लौट रहे प्रवासी मजदूरों के किराये के पैसे लौटाए झारखंड सरकारः सुदेश

अपने बूते बसों- ट्रकों से लौट रहे प्रवासी मजदूरों के किराये के पैसे लौटाए झारखंड सरकारः सुदेश
Publicbol (File Photo)
पीबी ब्यूरो ,   May 19, 2020

आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष और विधायक दल के नेता सुदेश कुमार महतो ने दूसरे राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों की हालत पर चिंता जताई है. इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि अपने बूते ट्रकों, बसों और अन्य गाड़ियों से घर लौट रहे मजदूरों को सरकार उनके पैसे लौटाए. 

उन्होंने कहा है कि देश के कई कई जगहों से लाख- डेढ़ लाख रुपए किराये देकर झारखंड के मजदूर जत्थे में वापस हो रहे हैं. इसमें एक- एक मजदूर भाई को दो से पांच हजार रुपए वहन करना पड़ रहा है. ब

हुत मजदूर घर से पैसे मंगाकर लौट रहे हैं. घर के लोग कर्ज लेकर पैसे भेज रहे हैं. इसलिए सरकार को इस मामले में संवेदनशील तरीके से आगे बढ़कर खर्च उठाना चाहिए. 

इसके साथ ही सरकार ये सूचनाएं सार्वजनिक करे कि कहां से और किन तारीखों को प्रवासी मजदूर लौट सकेंगे. कब- कब किन स्टेशनों से रेलगाड़ियां चलने की अनुमति दी गई है. 

सूचनाएं सार्वजनिक करें

इसे भी पढ़ें: झारखंड में शुरू हुई शराब की बिक्री, सहुलियत से मिले इसके लिए तीन तरीके निकाले हैं सरकार ने

देश कुमार महतो ने कहा है कि खुद सरकार ने इसकी जानकारी दी है कि लगभग 7 लाख प्रवासी मजदूरों ने घर लौटने के लिए निबंधन कराया है. 

विभिन्न समाचार माध्यमों जो जानकारी मिल रही है उस मुताबिक अब तक डेढ़ लाख ही लोग घट लौट सके हैं. 

जाहिर है अब भी साढ़े पांच लाख लोग देश के दूसरे हिस्सों में फंसे हैं. लॉकडाउन के 50 दिन से ज्यादा होने की वजह से उनके सामने रहने- खाने की दिक्कतें ज्यादा हो गई है. 

उन्होंने कहा है कि अगले कुछ दिनों तक देश के अलग- अलग हिस्सों से श्रमिक स्पेशल ट्रेनें झारखंड आने वाली हैं. सरकार को इसकी सूचना जारी करनी चाहिए, ताकि मजदूर घबराहट और बेचेनी के बीच जैसे- तैसे नहीं निकलें. 

उन्होंने कहा है कि सरकार यह भी बताए कि आने वाले किस दिन ट्रेन किस स्टेशन से चलेगी, ताकि बाहर फंसे मजदूर आश्वस्त हो सकें कि उनकी वासपी की बारी भी सुनिश्चित है.

जबकि यह सुनिश्चित नहीं होने से प्रवासी मजदूर और अन्य नागरिक सड़कों पर निकल जा रहे हैं. 

जान गंवाने वालों को मुआवजा दें

आजसू अध्यक्ष ने कहा है कि झारखंड के कम से कम दो दर्जन मजदूर अब तक अलग- अलग जगहों पर अलग- अलग हादसों की वजह से जान गंवा बैठे हैं. 

सरकार ने ओरैया सड़क हादसे में मरने वाले झारखंडी मजदूरों के परिजनों को 4-4 लाख देने की घोषणा की है. इसके अलावा दूसरी घटनाओं में भी जांन गंवाने वाले मजदूरों के परिवारों की भी सरकार अनिवार्य तौर पर मदद करे.


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

मशहूर संगीतकार 42 साल के वाजिद खान नहीं रहे, साजिद-वाजिद की जोड़ी हुई अधूरी
मशहूर संगीतकार 42 साल के वाजिद खान नहीं रहे, साजिद-वाजिद की जोड़ी हुई अधूरी
मानसून ने केरल में दी दस्तक, अब मौसम बारिश वाला
मानसून ने केरल में दी दस्तक, अब मौसम बारिश वाला
राहुल गांधी की बात कांग्रेस के मुख्यमंत्री भी नहीं सुनतेः रविशंकर प्रसाद
राहुल गांधी की बात कांग्रेस के मुख्यमंत्री भी नहीं सुनतेः रविशंकर प्रसाद
कोरोना तेरे कारणः 124 वर्षों में पहली बार रद्द की गई बोस्टन मैराथन
कोरोना तेरे कारणः 124 वर्षों में पहली बार रद्द की गई बोस्टन मैराथन
मोदी सरकार 2.0 के एक साल पूरे: देश के नाम चिट्ठी में पीएम बोले- हमें अपने पैरों पर खड़ा होना होगा
मोदी सरकार 2.0 के एक साल पूरे: देश के नाम चिट्ठी में पीएम बोले- हमें अपने पैरों पर खड़ा होना होगा
झारखंडः 3 लाख 58 हजार लोग अब तक वापस लौटे, प्रवासी मजदूरों का डेटाबेस तैयार करा रही सरकार
झारखंडः 3 लाख 58 हजार लोग अब तक वापस लौटे, प्रवासी मजदूरों का डेटाबेस तैयार करा रही सरकार
ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में दी मंदिर-मस्जिद खोलने की इजाजत
ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में दी मंदिर-मस्जिद खोलने की इजाजत
छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन
छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन
बेबसी की इंतिहाः वृद्धा पेंशन को तरसता लातेहार का आदिवासी दंपती, बोले, 'जीते जी नसीब नहीं होगा'
बेबसी की इंतिहाः वृद्धा पेंशन को तरसता लातेहार का आदिवासी दंपती, बोले, 'जीते जी नसीब नहीं होगा'
चीन के साथ ताजा सीमा विवाद को लेकर नरेंद्र मोदी का मूड अच्छा नहीं है : डोनाल्ड ट्रंप
चीन के साथ ताजा सीमा विवाद को लेकर नरेंद्र मोदी का मूड अच्छा नहीं है : डोनाल्ड ट्रंप

Stay Connected

Facebook Google twitter