फीस माफी पर निजी स्कूल राजी नहीं, जगरनाथ बोले, 'शिक्षा मंत्री की बात भी आपने नहीं मानी'

फीस माफी पर निजी स्कूल राजी नहीं, जगरनाथ बोले, 'शिक्षा मंत्री की बात भी आपने नहीं मानी'
पीबी ब्यूरो ,   May 27, 2020

झारखंड के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो के साथ निजी स्कूल प्रबंधन की हुई बैठक में फीस लेने के मामले में सहमति नहीं बन पाई. निजी स्कूलों ने मंत्री के सामने दो टूक कहा, स्कूलों में कई तरह के खर्चे हैं, फीस तो देना पड़ेगा. 

राजधानी रांची स्थित उत्पाद भवन सभागार में मंत्री ने निजी स्कूल के प्राचार्यों और प्रंबधन से जुड़े लोगों के साथ आज फीस माफी को लेकर बैठक कर उनकी बातें सुनी और अपनी कही. 

आज की बैठक में मंत्री ने निजी स्कूल वालों से कहा- ''हम भी स्कूल चलाते हैं, लेकिन किसी से फीस नहीं लिए. मेरे बार- बार अनुरोध के बाद भी निजी स्कूलों ने अभिभावकों से फीस वसूले. निजी स्कूलों के इस रवैये से लगा कि मेरा शिक्षा मंत्री होना बेकार है. जगरनाथ महतो ने यह भी कहा कि मैंने आदेश नहीं दिया था अनुरोध किया था. ''

दरअसल लॉकडाउन को लेकर निजी स्कूल बंद हैं. इससे पहले मंत्री ने कई दफा सार्वजनिक तौर पर कहा है कि लॉकडाउन अवधि में निजी स्कूल फीस नहीं लेंगे. मंत्री यह भी कह चुके हैं कि एनुअल और डेवलपमेंट फीस के नाम पर मोटी राशि लेने का कथित धंधा भी बंद ककराएंगे. 

मंत्री की तमाम हिदायत के बाद भी झारखंड के कई इलाकों में निजी स्कूल बच्चों के अभिभावकों को फीस जमा करने के लिए नोटिस भेजते रहे हैं. कई स्कूलों में फीस जमा करा लिए गए हैं. 

इसे भी पढ़ें: चाईबासाः मुठभेड़ में पीएलएफआई की एक महिला समेत तीन उग्रवादी मारे गए, एके 47 बरामद

बैठक में सीबीएसई सहोदया रांची चैप्टर के अध्यक्ष डॉ राम सिंह ने निजी स्कूलों का पक्ष रखा. उन्होंने शिक्षा मंत्री को बताया कि स्कूलों में तरह के खर्च हैं. डॉ राम सिंह ने कहा कि अब निजी स्कूल हर माह लेंगे फीस.

पहले अधिकांश स्कूल तीन-तीन महीने पर फीस लेते थे. इसके साथ निजी स्कूलों ने कई निर्णय लिया है. स्कूल दो महीने तक बस फीस नहीं लेंगे.

वहीं स्कूल ड्रेस भी नहीं बदला जायेगा. रि-एडमिशन के नाम पर पैसे नहीं लिए जाएंगे. निजी स्कूलों के प्रतिनिधियों ने शिक्षा मंत्री को बताया कि लॉक डाउन होने के बाद भी स्कूलों ने सभी कर्मचारियों को सैलरी दी है.

एक स्कूल के प्रतिनिधि ने तो यहां तक कह दिया कि शिक्षा मंत्री जी को मीडिया में बयान देने से पहले स्कूल प्रबंधकों से बात करनी चाहिए थी. 

निजी स्कूल प्रबंधकों का यह भी कहना था जब हम सारे स्टाफ को पूरा पैसा दे रहे हैं, जब हमारे खर्च पहले की तरह ही हैं तो फिर फीस माफी क्यों चाहिए । कोरोना संकट के कारण अगर स्कूल बंद हैं तो इसमें स्कूल चलाने वालों का क्या दोष ?

बैठक में केराली, डीपीएस, संत थॉमस सहित अन्य निजी स्कूलों के प्रतिनिधि शामिल थे .


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कोरोना, नोटबंदी और जीसटी को हार्वर्ड में असफलता पर केस स्टडीज की तरह पढ़ाया जाएगा : राहुल गांधी
कोरोना, नोटबंदी और जीसटी को हार्वर्ड में असफलता पर केस स्टडीज की तरह पढ़ाया जाएगा : राहुल गांधी
दिल्ली के 106 वर्षीय बुजुर्ग कोविड-19 संक्रमण से ठीक हुए, 102 साल पहले स्पेनिश फ्लू को भी दी थी मात
दिल्ली के 106 वर्षीय बुजुर्ग कोविड-19 संक्रमण से ठीक हुए, 102 साल पहले स्पेनिश फ्लू को भी दी थी मात
दुनिया में कोरोना से तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना भारत, रूस को पीछे छोड़ा
दुनिया में कोरोना से तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना भारत, रूस को पीछे छोड़ा
अब जेएमएम ने दिखाया कच्चा-चिट्ठाः रघुवर राज में 1450 एकड़ जमीन गलत तरीके से बेची गई
अब जेएमएम ने दिखाया कच्चा-चिट्ठाः रघुवर राज में 1450 एकड़ जमीन गलत तरीके से बेची गई
चुनौतियों का स्थायी समाधान भगवान बुद्ध के आदर्शों से मिल सकता है : पीएम मोदी
चुनौतियों का स्थायी समाधान भगवान बुद्ध के आदर्शों से मिल सकता है : पीएम मोदी
चीनी घुसपैठ पर लद्दाखवासियों की बात नजरअंदाज नहीं करे सरकार: राहुल गांधी
चीनी घुसपैठ पर लद्दाखवासियों की बात नजरअंदाज नहीं करे सरकार: राहुल गांधी
जब कोरोना से बचने के लिए बनवा लिए सोने का मास्क, पैसे लगे तीन लाख
जब कोरोना से बचने के लिए बनवा लिए सोने का मास्क, पैसे लगे तीन लाख
नीट और जेईई मेन परीक्षाएं स्थगित, मिली सितंबर में नई तारीख
नीट और जेईई मेन परीक्षाएं स्थगित, मिली सितंबर में नई तारीख
'15 साल में हमसे कोई भूल हुई थी तो उसके लिए माफी मांगते हैं'
'15 साल में हमसे कोई भूल हुई थी तो उसके लिए माफी मांगते हैं'
कानपुरः छापा मारने गई पुलिस पर अपराधियों की फायरिंग, डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों की मौत
कानपुरः छापा मारने गई पुलिस पर अपराधियों की फायरिंग, डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों की मौत

Stay Connected

Facebook Google twitter