पंचतत्व में विलीन हुए बेरमो विधायक और मजदूरों के नेता राजेंद्र बाबू

पंचतत्व में विलीन हुए बेरमो विधायक और मजदूरों के नेता राजेंद्र बाबू
Publicbol (श्रद्धांजिल देते जेएमएम प्रमुख शिबू सोरेन)
पीबी ब्यूरो ,   May 26, 2020

झारखंड में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बेरमो से छह बार विधायक रहे और मजदूरों के नेता राजेंद्र प्रसाद सिंह पंचतत्व में विलीन हो गए. आज रामबिलास स्कूल के समीप दामोदर नदी  घाट पर उनका अंतिम दाह संस्कार किया गया. बड़े बेटे जयमंगल सिंह उर्फ अनूप सिंह ने मुखाग्नि दी. 

इससे पहले ढोरी स्थित आवा पर पार्थिव शरीर को दर्शनार्थ रखा गया था. राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, जाएमएम के प्रमुख शिबू सोरेन ने उन्हें श्रद्धांजलि दी तथा शोक संतप्त परिजनों से मिलकर ढांढस बंधाया.

घर की महिलाओं को रोते देख हेमंत सोरेन की आंखों में भी आंसू छलक पड़े. 

हेमंत सोरेन के साथ उनकी पत्नी कल्पना सोरेन भी श्रद्धांजलि देने पहुंची थीं. 

हेमंत सोरेन ने शोक संदेश में कहा है कि उन्होंने अपना एक सच्चा अभिभावक खोया है. इधर श्रद्धांजलि देते हुए शिबू सोरेन की भी आंखे नम हो गई. 

इसे भी पढ़ें: हिंदपीढ़ी से बैरिकेडिंग हटाने के लिए धरना प्रदर्शन पर उतरे लोग, भाषण का दौर जारी

सरकार के मंत्री बादल, जगरनाथ महतो, आलमगीर आलम, रामेश्वर उरांव, बन्ना गुप्ता, गिरिडीह सांसद चंद्रप्रकाश चौधरी, पूर्व सांसद रवींद्र नाथ पांडेय, कांग्रेस विधायक अंबा प्रसाद, ममता देवी, गोमिया के आजसू विधायक डॉ लंबोदर महतो, प्रसाद, जेएमएम विधायक मथुरा प्रसाद महतो, बेजीपे के पूर्व विधायक योगेश्वर महतो बाटुल समेत विभिन्न दलों तथा मजदूर संगठनों के प्रतिनिधि भी अंतिम दर्शन के लिए ढोरी पहुंचे थे. 

इनके अलावा बेरमो कोयलाचंल से भी बड़ी तादाद मे लोग अपने प्रिय नेता का अंतिम दर्शन करने पहुंचे थे. शव यात्रा में भी काफी लोग शामिल हुए. 

दोपहर बाद शव यात्रा निकाली गई, जो जो स्थानीय यूनियन कार्यालय होते हुए फुसरो ओवर ब्रिज और मुख्य बाजार होता हुआ श्मशान घाट पहुचा इस बीच पूरे रास्ते में लोगो ने अपने नेता के समर्थन में नारे लगाए. 

पिछले 24 मई को राजेंद्र प्रसाद सिंह का दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल में निधन हो गया था. वे कई दिनों से बीमार थे. स्थिति बिगड़ने के बाद उन्हें दिल्ली स्थित फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वे अपने पीछे भरा-पूरा परिवार छोड़ गए हैं. 

राजेंद्र सिंह एकीकृत बिहार और झारखंड सरकार में वे मंत्री भी रहे. एकीकृत बिहार में वे दो बार मंत्री रहे. 1989 में वे  एचईडी मंत्री बने जबकि 2000 में उन्हें ऊर्जा मंत्री की जिम्मेदारी दी गई थी.  

इधर झारखंड में साल 2013 में हेमंत सोरेन की सरकार में वे स्वास्थ्य मंत्री थे. इसके अलावा झारखंड में वे नेता प्रतिपक्ष भी रहे हैं.

वेविधायी कार्यों के अच्छे जानकार थे. साथ ही सरज, सरल, और सृहदय व्यक्तित्व के चलते सत्ता- विपक्ष के बीच वे हमेशा लोकप्रिय रहे. 

कांग्रेस पार्टी में भी वे लंबे समय तक कई अहम पदों को संभालते रहे. झारखंड में वे कांग्रेस विधायक दल के नेता भी रहे. वर्ष 2005 में उन्हें उत्कृष्ट विधायक का सम्मान भी मिला. 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कोरोना, नोटबंदी और जीसटी को हार्वर्ड में असफलता पर केस स्टडीज की तरह पढ़ाया जाएगा : राहुल गांधी
कोरोना, नोटबंदी और जीसटी को हार्वर्ड में असफलता पर केस स्टडीज की तरह पढ़ाया जाएगा : राहुल गांधी
दिल्ली के 106 वर्षीय बुजुर्ग कोविड-19 संक्रमण से ठीक हुए, 102 साल पहले स्पेनिश फ्लू को भी दी थी मात
दिल्ली के 106 वर्षीय बुजुर्ग कोविड-19 संक्रमण से ठीक हुए, 102 साल पहले स्पेनिश फ्लू को भी दी थी मात
दुनिया में कोरोना से तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना भारत, रूस को पीछे छोड़ा
दुनिया में कोरोना से तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना भारत, रूस को पीछे छोड़ा
अब जेएमएम ने दिखाया कच्चा-चिट्ठाः रघुवर राज में 1450 एकड़ जमीन गलत तरीके से बेची गई
अब जेएमएम ने दिखाया कच्चा-चिट्ठाः रघुवर राज में 1450 एकड़ जमीन गलत तरीके से बेची गई
चुनौतियों का स्थायी समाधान भगवान बुद्ध के आदर्शों से मिल सकता है : पीएम मोदी
चुनौतियों का स्थायी समाधान भगवान बुद्ध के आदर्शों से मिल सकता है : पीएम मोदी
चीनी घुसपैठ पर लद्दाखवासियों की बात नजरअंदाज नहीं करे सरकार: राहुल गांधी
चीनी घुसपैठ पर लद्दाखवासियों की बात नजरअंदाज नहीं करे सरकार: राहुल गांधी
जब कोरोना से बचने के लिए बनवा लिए सोने का मास्क, पैसे लगे तीन लाख
जब कोरोना से बचने के लिए बनवा लिए सोने का मास्क, पैसे लगे तीन लाख
नीट और जेईई मेन परीक्षाएं स्थगित, मिली सितंबर में नई तारीख
नीट और जेईई मेन परीक्षाएं स्थगित, मिली सितंबर में नई तारीख
'15 साल में हमसे कोई भूल हुई थी तो उसके लिए माफी मांगते हैं'
'15 साल में हमसे कोई भूल हुई थी तो उसके लिए माफी मांगते हैं'
कानपुरः छापा मारने गई पुलिस पर अपराधियों की फायरिंग, डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों की मौत
कानपुरः छापा मारने गई पुलिस पर अपराधियों की फायरिंग, डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों की मौत

Stay Connected

Facebook Google twitter