झारखंड विधानसभा का चुनाव 30 नवंबर से शुरू होगा, 81 सीटों के लिए पांच चरणों में वोट, नतीजे 23 दिसंबर को

झारखंड विधानसभा का चुनाव 30 नवंबर से शुरू होगा, 81 सीटों के लिए पांच चरणों में वोट, नतीजे 23 दिसंबर को
Publicbol
पीबी ब्यूरो ,   Nov 01, 2019

झारखंड विधानसभा का चुनाव तीस नवंबर से शुरू होगा. मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने आज प्रेस कांफ्रेस कर तारीखों का एलान किया. जबकि चुनाव पांच चरणों में कराए जाएंगे. वोटों की गिनती 23 दिसंबर को होगी. 

झारखंड में कुल 81 विधानसभा सीटें हैं और राज्‍य की विधानसभा का कार्यकाल पांच जनवरी 2020 को पूरा हो रहा है. इससे पहले नई सरकार का गठन होना है. चुनाव की तिथियों की घोषणा के साथ झारखंड में चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है. 

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा है कि निष्पक्ष और भयमुक्त चुनाव कराने के लिए आयोग ने व्यापक तैयारी की है और झारखंड में आज से आदर्श आचार संहिता भी लागू कर दी गई है. 

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि आयोग के उपायुक्तों ने 17-18 अक्टूबर को ही  झारखंड का दौरा किया था. झारखंड के 19 जिले नक्सल प्रभावित हैं.

जबकि विधानसभा की 67 सीटें इसके जद में हैं.  नक्‍सल प्रभावित इलाकों में सुरक्षा की समुचित व्यवस्था की जा रही है.

इसे भी पढ़ें: बीजेपी से सिर्फ सीएम पद को लेकर ही बात होगीः शिवसेना सांसद

जबकि झारखंड में अपडेटेड वोटर लिस्ट में कुल 2.65 करोड़ वोटर हैं. 12 अक्टूबर 2019 को फाइनल वोटर लिस्ट प्रकाशित की गई. पोलिंग स्टेशनों की संख्या में 20 प्रतिशत का इजाफा हुआ है.

शारीरिक दिव्यांग, सीनियर सिटिजन को पोस्टल बैलट से वोट देने की सुविधा की गई है. चुनाव खर्चों पर नजर रखने के लिए हर जिले में इनकम टैक्स के अफसर तैनात किए जाएंगे. 

झारखंड में पाँच चरणों में मतदान:

पहला चरण- 13 सीटें 30 नवंबर
दूसरा चरण- 20 सीटें 7 दिसंबर
तीसरा चरण- 17 सीटें 12 दिसंबर
चौथा चरण- 15 सीटें 16 दिसंबर
पाँचवा चरण- 16 सीटें 20 दिसंबर

विपक्ष को आपत्ति

हालांकि पांच चरणों में चुनाव कराए जाने पर विपक्ष को आपत्ति है. झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने इस बाबत एक ट्वीट किया है.

जबकि झारखंड कांग्रेस के प्रभारी आरपीएन सिंह ने कहा है कि राज्‍य में चुनावों की घोषणा का स्‍वागत है. लेकिन हम राज्‍य में पांच चरणों के बजाय एक चरण में चुनाव चाहते थे. 

विपक्षी दलों का तर्क है है कि जब हरियाणा और महाराष्ट्र में एक ही दिन चुनाव कराए जा सकते हैं, तो झारखंड में पाच चरणों में चुनाव कराने की क्या बाध्यता है. 

30 नवंबर को जिन 13 सीटों पर वोट

इसे भी पढ़ें: पटेल जयंती पर पीएम मोदी ने कहा, जो युद्ध नहीं जीत सकते, वो हमारी एकता को चुनौती दे रहे

चतरा, गुमला, विशुनपुर, लोहरदगा, मनिका, लातेहार, पांकी, डालटनगंज, विश्रामपुर, छतरपुर, हुसैनाबाद, गढ़वा और भवनाथपुर. 

सात दिसंबर को 20 सीटों पर होगा चुनाव 

घाटशिला, पोटका, जुगसलाई, जमशेदपूर पूर्वी, जमशेदपुर पश्चिमी, सरायकेला, चाईबासा, मझगांव, जगन्नाथपुर, मनोहरपुर, चक्रधरपुर, खरसावां, तमाड़, तोरपा, खूंटी, मांडर, सिसई, सिमडेगा औ कोलेबिरा. 

12 दिसंबर को 17 सीटों पर होगा मतदान

कोडरमा, बरकट्ठा, बरही, बड़कागांव, रामगढ़, मांडू, हजारीबाग, सिमरिया, राजधनबार, गोमिया, बेरमो, इचागढ़, सिल्ली, खिजरी, रांची, हटिया और कांके

16 दिसंबर को 15 सीटों पर डाले जाएंगे वोट 

देवघर, मधुपुर, बगोदर, जमुआ, गाडेय, गिरिडीह, डुमरी, बोकारो, चंदनकियारी, सिंदरी, निरसा, धनबाद, झरिया, टुंडी, बाघमारा

20 दिसंबर को 16 सीटों पर डाले जाएंगे वोट

रामहल, बोरियो, बरहेट, लिट्टीपाड़ा, पाकुड़, महेशपुर, शिकारीपाड़ा, नाला. जामताड़ा, दुमका, जामा, जरमुंडी, सारठ, पोड़ेयाहाट, गोड्डा और महागामा

2014 के नतीजे

2014 के चुनाव में बीजेपी ने 35.16 फीसदी वोट के साथ 37 सीटों पर जीत हासिल की थी. बीजेपी की सहयोगी आजसू ने पांच सीटों पर जीत दर्ज की थी.

जबकि झारखंड मुक्ति मोर्चा 20.93 फीसदी वोट के साथ 19 सीटों पर जीतने में सफल रहा.

13.98 फीसदी वोट के साथ कांग्रेस ने छह सीटों पर जीत दर्ज की. बाद में लोहरदगा और कोलेबिरा उपचुनाव में जीत के बाद कांग्रेस के विधायकों की संख्या 8 हो गई. 

जबकि 11.06 फीसदी वोट के साथ झारखंड विकास मोर्चा ने आठ सीटों पर जीत दर्ज की थी. लेकिन अभी उसके पास सिर्फ एक विधायक प्रदीप यादव हैं. 

चुनाव जीतने के बाद जेवीएम के छह विधायक बीजेपी में शामिल हो गए. हाल ही में जेवीएम के एक और विधायक प्रकाश राम भी बीजेपी में शामिल हो गए हैं. 

इसके अलावा कांग्रेस के दो और जेएमएम के भी दो विधायक हाल ही में बीजेपी में शामिल हुए हैं. 

इससे पहले कोलेबिरा सीट से झापा उम्मीदवार एनोस एक्का की 2014 मे जीत हुई थी. बाद में हत्या के एक मामले में सजायाफ्ता होने के बाद उनकी विधायकी चली गई. कोलेबिरा में हुए उपचुनाव में कांग्रेस की जीत हो गई. 

इससे पहले 2014 के चुनाव में बसपा, मासस, माले ने भी एक- एक सीट पर जीत दर्ज की है. 

28 सीटें आदिवासियों के लिए 

राज्य में विधानसभा की 28 सीटें अनुसूचित जनजाति के लिए सुरक्षित हैं. जबकि अनुसचूित जाति की 9 सीटें सुरक्षित हैं. अभी एसटी की 28 सीटों में 11 जेएमएम के कब्जे में है.

बीजेपी के कब्जे में भी 11 सीटें हैं. कोल्हान और संताल परगना में आदिवासी सीटों पर कब्जा जमाने को लेकर इस बार भी बीजेपी और जेएमएम के बीच आर-पार की लड़ाई होने की संभावना प्रबल है. 

2019 के लोकसभा चुनाव में 

इसी साल लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने राज्य की 14 सीटों में से 11 और उसकी सहयोगी आजसू को एक सीट पर जीत मिली है. जबकि गठबंधन और तमाम कवायद के बाद भी विपक्ष दो सीट पर ही सिमट गया.

चाईबासा में कांग्रेस और राजमहल में जेएमएम की जीत हुई है. बाकी 12 सीटें एनडीए की झोली में गई. 

नरेंद्र मोदी की प्रचंड लहर पर सवार बीजेपी ने भी विधानसभा में भी जीत के लिए तैयारियां तेज की है. जबकि विपक्ष को भरोसा है कि लोकसभा चुनाव की तरह बीजेपी की लहर विधानसभा चुनाव में नहीं चलेगी. 

रही बात गठबंधन की, तो अभी बीजेपी- आजसू के बीच तस्वीर साफ नहीं हो सकी है. विपक्ष का भी यही हाल है. हालांकि दोनों तरफ बातचीत जारी है. 

 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

योगी सरकार की उल्टी गिनती शुरूः अखिलेश यादव
योगी सरकार की उल्टी गिनती शुरूः अखिलेश यादव
नरेंद्र मोदी ने खुद को बनाया है और उनके आगे राहुल गांधी कहीं नहीं ठहरते : रामचंद्र गुहा
नरेंद्र मोदी ने खुद को बनाया है और उनके आगे राहुल गांधी कहीं नहीं ठहरते : रामचंद्र गुहा
डीएसपी देविंदर सिंह को चुप कराने के लिए एनआईए के हवाले किए गया केसः राहुल गांधी
डीएसपी देविंदर सिंह को चुप कराने के लिए एनआईए के हवाले किए गया केसः राहुल गांधी
इसरो की एक और उपलब्धि, जीसैट 30 उपग्रह का सफल प्रक्षेपण
इसरो की एक और उपलब्धि, जीसैट 30 उपग्रह का सफल प्रक्षेपण
13 साल का सिलसिला, सिमडेगा के एक गांव में श्रमदान कर सड़क बना रहे ग्रामीण
13 साल का सिलसिला, सिमडेगा के एक गांव में श्रमदान कर सड़क बना रहे ग्रामीण
बीसीसीआई की केंद्रीय अनुबंध सूची से बाहर हुए धोनी, भविष्य को लेकर अटकलें तेज
बीसीसीआई की केंद्रीय अनुबंध सूची से बाहर हुए धोनी, भविष्य को लेकर अटकलें तेज
विवाद के बाद शिवसेना नेता संजय राउत ने इंदिरा गांधी की गैंगस्टर से मुलाकात वाली टिप्पणी वापस ली
विवाद के बाद शिवसेना नेता संजय राउत ने इंदिरा गांधी की गैंगस्टर से मुलाकात वाली टिप्पणी वापस ली
चंदे में चुनावी बॉन्ड से सबसे अधिक बीजेपी को मिले 1450 करोड़ रुपएः एडीआर रिपोर्ट
चंदे में चुनावी बॉन्ड से सबसे अधिक बीजेपी को मिले 1450 करोड़ रुपएः एडीआर रिपोर्ट
यादेंः खेत-खलिहान, संघर्ष के मैदान, जनता के अरमान में जिंदा हैं कॉमरेड महेंद्र
यादेंः खेत-खलिहान, संघर्ष के मैदान, जनता के अरमान में जिंदा हैं कॉमरेड महेंद्र
उत्कृष्ट प्रेम दर्शन, विनयशीलता, निश्छलता का प्रतीक 'टुसू' के रंगों में रचा-बसा मन
उत्कृष्ट प्रेम दर्शन, विनयशीलता, निश्छलता का प्रतीक 'टुसू' के रंगों में रचा-बसा मन

Stay Connected

Facebook Google twitter