झारखंडः 3 लाख 58 हजार लोग अब तक वापस लौटे, प्रवासी मजदूरों का डेटाबेस तैयार करा रही सरकार

झारखंडः 3 लाख 58 हजार लोग अब तक वापस लौटे, प्रवासी मजदूरों का डेटाबेस तैयार करा रही सरकार
Publicbol (File Photo)
पीबी ब्यूरो ,   May 29, 2020

लॉकडाउन के चलते दूसरे राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूर और अन्य नागरिकों को वापस लाने की कोशिशें तेज की गई है. अब तक 3 लाख 58 हजार प्रवासी मजदूर और अन्य नागिक वापस आ चुके हैं. प्रवासी मजदूरों का राज्य सरकार डेटा बेस भी तैयार करा रही है. 

झारखंड के कोरोना संबंधित मामलों के मुख्य नोडल पदाधिकारी अमरेंद्र प्रताप सिंह ने कहा है कि राज्य में जो भी प्रवासी मजदूर वापस आए हैं उनका जिला स्तर पर डाटाबेस तैयार 8-10 दिनों में तैयार हो जाएगा. 

उन्होंने कहा कि पूरे राज्य में करीब एक लाख प्रवासी मजदूर निजी सुविधाओं और अन्य माध्यमों से राज्य में पहुंचे हैं. इसके अतिरिक्त श्रमिक स्पेशल ट्रेन एवं बसों के माध्यम से प्रवासी मजदूरों को झारखंड लाया गया है. 

झारखंड राज्य में कोरोना से बचाव और लॉकडाउन के दौरान राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे कार्यों की उन्होंने मीडिया को जानकारी दी है. 

193 श्रमिक ट्रेनें 

इसे भी पढ़ें: मोदी सरकार 2.0 के एक साल पूरे: देश के नाम चिट्ठी में पीएम बोले- हमें अपने पैरों पर खड़ा होना होगा

आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव अमिताभ कौशल ने बताया है कि अभी तक बसों से 1 लाख 1 हजार 852  लोग झारखंड राज्य में वापस आ चुके हैं.

वहीं 193 श्रमिक ट्रेनें विभिन्न राज्यों से झारखंड आई है और 12 ट्रेन आगे  के लिए शेड्यूल्ड हैं. अभी तक 2 लाख 57 हजार 411 प्रवासी मजदूर श्रमिक एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन के माध्यम से राज्य में वापस आ चुके हैं. 

बांग्लादेश से आएंगे 170 प्रवासी मजदूर

राज्य में निजी वाहनों से भी आवागमन के लिए पास निर्गत किया जा रहा है. अभी तक कुल 3 लाख 58 हजार 263 लोगों को झारखंड लाया जा चुका है.  

अमरेंद्र प्रताप सिंह ने यह भी बताया है कि वंदे भारत मिशन के तहत अब तक 66 लोगों को विदेश से वापस लाया जा चुका है  जबकि एक जून तक 12 लोगों को और झारखंड लाया जाएगा.

उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से बांग्लादेश में काम करने वाली भेल कंपनी के 170 कर्मचारियों को वापस लाने के लिये अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) दे दी गयी है.  


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कोरोना, नोटबंदी और जीसटी को हार्वर्ड में असफलता पर केस स्टडीज की तरह पढ़ाया जाएगा : राहुल गांधी
कोरोना, नोटबंदी और जीसटी को हार्वर्ड में असफलता पर केस स्टडीज की तरह पढ़ाया जाएगा : राहुल गांधी
दिल्ली के 106 वर्षीय बुजुर्ग कोविड-19 संक्रमण से ठीक हुए, 102 साल पहले स्पेनिश फ्लू को भी दी थी मात
दिल्ली के 106 वर्षीय बुजुर्ग कोविड-19 संक्रमण से ठीक हुए, 102 साल पहले स्पेनिश फ्लू को भी दी थी मात
दुनिया में कोरोना से तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना भारत, रूस को पीछे छोड़ा
दुनिया में कोरोना से तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना भारत, रूस को पीछे छोड़ा
अब जेएमएम ने दिखाया कच्चा-चिट्ठाः रघुवर राज में 1450 एकड़ जमीन गलत तरीके से बेची गई
अब जेएमएम ने दिखाया कच्चा-चिट्ठाः रघुवर राज में 1450 एकड़ जमीन गलत तरीके से बेची गई
चुनौतियों का स्थायी समाधान भगवान बुद्ध के आदर्शों से मिल सकता है : पीएम मोदी
चुनौतियों का स्थायी समाधान भगवान बुद्ध के आदर्शों से मिल सकता है : पीएम मोदी
चीनी घुसपैठ पर लद्दाखवासियों की बात नजरअंदाज नहीं करे सरकार: राहुल गांधी
चीनी घुसपैठ पर लद्दाखवासियों की बात नजरअंदाज नहीं करे सरकार: राहुल गांधी
जब कोरोना से बचने के लिए बनवा लिए सोने का मास्क, पैसे लगे तीन लाख
जब कोरोना से बचने के लिए बनवा लिए सोने का मास्क, पैसे लगे तीन लाख
नीट और जेईई मेन परीक्षाएं स्थगित, मिली सितंबर में नई तारीख
नीट और जेईई मेन परीक्षाएं स्थगित, मिली सितंबर में नई तारीख
'15 साल में हमसे कोई भूल हुई थी तो उसके लिए माफी मांगते हैं'
'15 साल में हमसे कोई भूल हुई थी तो उसके लिए माफी मांगते हैं'
कानपुरः छापा मारने गई पुलिस पर अपराधियों की फायरिंग, डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों की मौत
कानपुरः छापा मारने गई पुलिस पर अपराधियों की फायरिंग, डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों की मौत

Stay Connected

Facebook Google twitter