जदयू का चुनावी शंखनाद, नीतीश कुमार बोले, बिहार में 200 से ज्यादा सीटें जीतेगा एनडीए

जदयू का चुनावी शंखनाद, नीतीश कुमार बोले, बिहार में 200 से ज्यादा सीटें जीतेगा एनडीए
पीबी ब्यूरो ,   Mar 01, 2020

बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड के प्रमुख नीतीश कुमार ने कहा है कि लोकसभा में एनडीए ने 40 में से 39 सीटों पर जीत दर्ज की थी. विधानसभा चुनाव में भी एवडीए 200 से अधिक सीटों पर जीत हासिल करेगा.

पटना के गांधी मैदान से जदयू ने आज चुनावी शंखनाद की. आज नीतीश कुमार का जन्म दिन भी है. बीजेपी और जदयू के तमाम शीर्ष नेताओं ने उन्हें जन्म दिन की बधाई भी दी है. 

गांधी मैदान में जदयू के कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने यह भी जाहिर कर दिया कि एनडीए इंटैक्ट है. और इसी फोल्डर में चुनाव लड़ने की तैयारी है. 

नीतीश कुमार ने कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि 200 से अधिक सीटें जीतने के संकल्प के साथ रहिए. उन्होंने कहा, ''हम बात नहीं बनाते हैं. काम पर विश्वास करते हैं. हमने न्याय के साथ विकास किया है. कोई ऐसा तबका नहीं, जिसके लिए हमलोगों ने काम नहीं किया है. रोजगार के अवसर सबसे ज्यादा हमलोगों ने पैदा किया. युवाओं को प्रशिक्षण दे रहे हैं, जिससे वे देश के कोने-कोने में जाकर अच्छी नौकरी कर रहे हैं''. 

उन्होंने कहा कि एनडीए के शासन में राज्य कानून व्यवस्था बेहतर हुई है और देश में आबादी के हिसाब से अपराध का अनुपात बिहार में कम हुआ है.

इसे भी पढ़ें: सवाल बाबूलाल के नेता प्रतिपक्ष काः विधानसभा में बीजेपी का दूसरे दिन भी हंगामा, कार्यवाही स्थगित

जुबान चलाता है विपक्ष

उन्होंने विपक्ष पर भी हमला बोला. उन्होंने कहा, ‘आरजेडी और कांग्रेस ने अल्पसंख्यकों के वोट मांगे, लेकिन हमने उनके लिए काम किया. हमने भागलपुर दंगे के दोषियों को न्याय के कटघरे में लाकर पीड़ितों के लिए न्याय सुनिश्चित किया.’

नीतीश कुमार ने बिना नाम लिए हुए कहा कि 15 सालों तक एक परिवार का शासन रहा. तब क्या किया, उस परिवार ने अपने शासन में. तब सड़कों की क्या हालत थी? शिक्षा और स्वास्थ्य सविधाएं नदारद थी. 

अल्पसंख्यक याद करे लें

अल्पसंख्यकों के संबंध में बात करते हुए कहा मुख्यमंत्री ने कहा कि जिसको मर्जी करे, आपलोग वोट दें. पर, अल्पसंख्याक याद कर लें कि राजद ने 15 सालों में उन्हें क्या दिया. उससे पहले कांग्रेस की सरकार में उन्हें क्या मिला था.

वर्ष 2005 के बाद हमारी सरकार ने अल्पसंख्यकों के लिए हर काम किया. 

एनपीआर और एनआरसी पर 

मुख्यमंत्री ने कहा कि नेशनल पॉपूलर रजिस्टर (एनपीआर) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजनशीप (एनआरसी) को लेकर कोई भ्रम में कोई नहीं आए. हमनें 25 फरवरी को ही भारत सरकार को खिला है कि एनपीआर 2010 के पैटर्न पर होना चाहिए.

एनआरसी पर तो प्रधानमंत्री ने खुद कहा कि इसे लागू नहीं किया जाना है. विधानसभा से हमलोगों ने इन दोनों मामलों पर प्रस्ताव भी पारित कर दिया है. सीएए पर धैर्य रखा जाना चाहिए और जब तक मामला अदालत में है, विवादों से बचा जाना चाहिए.


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कोरोना के बीच क्यों सुर्खियों में हैं डॉक्टर सुधीर डेहरिया
कोरोना के बीच क्यों सुर्खियों में हैं डॉक्टर सुधीर डेहरिया
उत्तर प्रदेश में 25 साल के युवक की मौत, देश भर में मरने वालों का आंकड़ा 35 तक पहुंचा
उत्तर प्रदेश में 25 साल के युवक की मौत, देश भर में मरने वालों का आंकड़ा 35 तक पहुंचा
बीजेपी बोली, झारखंड के धार्मिक स्थलों में ठहरे विदेशियों ने संक्रमण लाया और सरकार देखती रही
बीजेपी बोली, झारखंड के धार्मिक स्थलों में ठहरे विदेशियों ने संक्रमण लाया और सरकार देखती रही
निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन के बाद मेरठ और मुज्जफरनगर अलर्ट पर
निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन के बाद मेरठ और मुज्जफरनगर अलर्ट पर
कोरोना संकट के बीच तबलीगी जमात में अनुमानित 1700 लोग शामिल हुए थे,सख्त कार्रवाई होनी चाहिएः मंत्री
कोरोना संकट के बीच तबलीगी जमात में अनुमानित 1700 लोग शामिल हुए थे,सख्त कार्रवाई होनी चाहिएः मंत्री
प्रशांत किशोर ने कहा, नीतीश कुमार गद्दी छोड़ दें, जदयू का पलटवार, ट्वीट पर घटिया राजनीति मत करें
प्रशांत किशोर ने कहा, नीतीश कुमार गद्दी छोड़ दें, जदयू का पलटवार, ट्वीट पर घटिया राजनीति मत करें
सोशल मीडिया पर आपातकाल लगाने के संदेश फर्जी: सेना
सोशल मीडिया पर आपातकाल लगाने के संदेश फर्जी: सेना
 नजाकत समझें और संभलें, भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 32 हुई
नजाकत समझें और संभलें, भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 32 हुई
स्पाइसजेट का पायलट कोरोना वायरस से संक्रमित, चालक दल हुए होम क्वारंटाइन
स्पाइसजेट का पायलट कोरोना वायरस से संक्रमित, चालक दल हुए होम क्वारंटाइन
'मन की बात' में बोले पीएम मोदी, असुविधा के लिए क्षमा, पर इसके बिना कोई रास्ता नहीं था
'मन की बात' में बोले पीएम मोदी, असुविधा के लिए क्षमा, पर इसके बिना कोई रास्ता नहीं था

Stay Connected

Facebook Google twitter