जदयू का चुनावी शंखनाद, नीतीश कुमार बोले, बिहार में 200 से ज्यादा सीटें जीतेगा एनडीए

जदयू का चुनावी शंखनाद, नीतीश कुमार बोले, बिहार में 200 से ज्यादा सीटें जीतेगा एनडीए
पीबी ब्यूरो ,   Mar 01, 2020

बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड के प्रमुख नीतीश कुमार ने कहा है कि लोकसभा में एनडीए ने 40 में से 39 सीटों पर जीत दर्ज की थी. विधानसभा चुनाव में भी एवडीए 200 से अधिक सीटों पर जीत हासिल करेगा.

पटना के गांधी मैदान से जदयू ने आज चुनावी शंखनाद की. आज नीतीश कुमार का जन्म दिन भी है. बीजेपी और जदयू के तमाम शीर्ष नेताओं ने उन्हें जन्म दिन की बधाई भी दी है. 

गांधी मैदान में जदयू के कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने यह भी जाहिर कर दिया कि एनडीए इंटैक्ट है. और इसी फोल्डर में चुनाव लड़ने की तैयारी है. 

नीतीश कुमार ने कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि 200 से अधिक सीटें जीतने के संकल्प के साथ रहिए. उन्होंने कहा, ''हम बात नहीं बनाते हैं. काम पर विश्वास करते हैं. हमने न्याय के साथ विकास किया है. कोई ऐसा तबका नहीं, जिसके लिए हमलोगों ने काम नहीं किया है. रोजगार के अवसर सबसे ज्यादा हमलोगों ने पैदा किया. युवाओं को प्रशिक्षण दे रहे हैं, जिससे वे देश के कोने-कोने में जाकर अच्छी नौकरी कर रहे हैं''. 

उन्होंने कहा कि एनडीए के शासन में राज्य कानून व्यवस्था बेहतर हुई है और देश में आबादी के हिसाब से अपराध का अनुपात बिहार में कम हुआ है.

इसे भी पढ़ें: सवाल बाबूलाल के नेता प्रतिपक्ष काः विधानसभा में बीजेपी का दूसरे दिन भी हंगामा, कार्यवाही स्थगित

जुबान चलाता है विपक्ष

उन्होंने विपक्ष पर भी हमला बोला. उन्होंने कहा, ‘आरजेडी और कांग्रेस ने अल्पसंख्यकों के वोट मांगे, लेकिन हमने उनके लिए काम किया. हमने भागलपुर दंगे के दोषियों को न्याय के कटघरे में लाकर पीड़ितों के लिए न्याय सुनिश्चित किया.’

नीतीश कुमार ने बिना नाम लिए हुए कहा कि 15 सालों तक एक परिवार का शासन रहा. तब क्या किया, उस परिवार ने अपने शासन में. तब सड़कों की क्या हालत थी? शिक्षा और स्वास्थ्य सविधाएं नदारद थी. 

अल्पसंख्यक याद करे लें

अल्पसंख्यकों के संबंध में बात करते हुए कहा मुख्यमंत्री ने कहा कि जिसको मर्जी करे, आपलोग वोट दें. पर, अल्पसंख्याक याद कर लें कि राजद ने 15 सालों में उन्हें क्या दिया. उससे पहले कांग्रेस की सरकार में उन्हें क्या मिला था.

वर्ष 2005 के बाद हमारी सरकार ने अल्पसंख्यकों के लिए हर काम किया. 

एनपीआर और एनआरसी पर 

मुख्यमंत्री ने कहा कि नेशनल पॉपूलर रजिस्टर (एनपीआर) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजनशीप (एनआरसी) को लेकर कोई भ्रम में कोई नहीं आए. हमनें 25 फरवरी को ही भारत सरकार को खिला है कि एनपीआर 2010 के पैटर्न पर होना चाहिए.

एनआरसी पर तो प्रधानमंत्री ने खुद कहा कि इसे लागू नहीं किया जाना है. विधानसभा से हमलोगों ने इन दोनों मामलों पर प्रस्ताव भी पारित कर दिया है. सीएए पर धैर्य रखा जाना चाहिए और जब तक मामला अदालत में है, विवादों से बचा जाना चाहिए.


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

लाल किले से पीएम मोदी के भाषण की ये 10 बड़ी और अहम बातें जानिए
लाल किले से पीएम मोदी के भाषण की ये 10 बड़ी और अहम बातें जानिए
आईपीएल 2020 के रंग में धौनी, साथियों के साथ चेन्नई पहुंचे
आईपीएल 2020 के रंग में धौनी, साथियों के साथ चेन्नई पहुंचे
शहरी क्षेत्रो में 'सीएम श्रमिक योजना', हेमंत बोले, निबंधन के 15 दिनों में रोजगार अन्यथा बेरोजगारी भत्ता
शहरी क्षेत्रो में 'सीएम श्रमिक योजना', हेमंत बोले, निबंधन के 15 दिनों में रोजगार अन्यथा बेरोजगारी भत्ता
वैक्सीन पर उठते सवालों के बीच रूस का दावा, दो सालों तक छू नहीं सकेगा वायरस
वैक्सीन पर उठते सवालों के बीच रूस का दावा, दो सालों तक छू नहीं सकेगा वायरस
राजस्थान विधानसभा में बोले सचिन पायलट, मैं जब तक बैठा हूं, सरकार सुरक्षित है
राजस्थान विधानसभा में बोले सचिन पायलट, मैं जब तक बैठा हूं, सरकार सुरक्षित है
वकील प्रशांत भूषण अवमानना के मामले में दोषी करार, सजा पर सुनवाई 20 अगस्त को
वकील प्रशांत भूषण अवमानना के मामले में दोषी करार, सजा पर सुनवाई 20 अगस्त को
हेमंत बोले, झारखंड की स्थानीय नीति सवालों के घेरे में, हम देख रहे हैं कि क्या बदलाव किया जाए
हेमंत बोले, झारखंड की स्थानीय नीति सवालों के घेरे में, हम देख रहे हैं कि क्या बदलाव किया जाए
तेजस्वी ने नीतीश और उनके मंत्री को घेरा, कोरोना के आंकड़ों पर पूछा- कौन सच्चा कौन झूठा?
तेजस्वी ने नीतीश और उनके मंत्री को घेरा, कोरोना के आंकड़ों पर पूछा- कौन सच्चा कौन झूठा?
झारखंडः पीटीआई के ब्यूरो चीफ पीवी रामानुजम ने खुदकुशी कर ली
झारखंडः पीटीआई के ब्यूरो चीफ पीवी रामानुजम ने खुदकुशी कर ली
 जीडीपी में गिरावट की नारायणमूर्ति की आंशका पर राहुल का तंज: ‘मोदी है तो मुमकिन है’
जीडीपी में गिरावट की नारायणमूर्ति की आंशका पर राहुल का तंज: ‘मोदी है तो मुमकिन है’

Stay Connected

Facebook Google twitter