भीमा कोरेगांव केस: स्टेन स्वामी को जेल, हेमंत बोले, विरोध की हर आवाज दबाने की केंद्र सरकार की ये कैसी जिद?

भीमा कोरेगांव केस: स्टेन स्वामी को जेल, हेमंत बोले, विरोध की हर आवाज दबाने की केंद्र सरकार की ये कैसी जिद?
Publicbol File Photo (स्टेन स्वामी)
पीबी ब्यूरो ,   Oct 10, 2020

भीमा कोरेगांव मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी पर झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने केंद्र सरकार से सवाल पूछा है. 

शुक्रवार की देर रात उन्होंने ट्वीट पर लिखा, "83 वर्षीय वृद्ध 'स्टेन स्वामी' को गिरफ्तार कर केंद्र की भाजपा सरकार क्या संदेश देना चाहती है? अपने विरोध की हर आवाज़ को दबाने की ये कैसी जिद्द?"

उधर मुंबई में एनआईए कोर्ट ने स्टेन स्वामी को 22 अक्तूबर तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. 

इससे पहले गुरुवार की देर शाम एनआईए की टीम फ़ादर स्टेन स्वामी के रांची स्थित बगईचा आवास सह दफ्तर पर पहुंची थी. स्टेन स्वमी से पूछताछ के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और एनआईए की टीम उन्हें रांची से लेकर मुंबई पहुंची. 

स्टेन स्वामी पर भीमा कोरेगांव मामले में संलिप्तता का आरोप है. एनआईए ने उन पर आतंकवाद निरोधक क़ानून (यूएपीए) की धाराएं भी लगाई हैं.

इसे भी पढ़ें: दुष्कर्म के मामलों में गृह मंत्रालय ने जारी की सख्त एडवाइजरी, एफआईआर और कार्रवाई जरूर हो

इधर स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी के विरोध में शुक्रवार को झारखंड की राजधानी रांची में स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ताओं एवं बुद्धिजीवियों ने प्रदर्शन किया. प्रदर्शनकारी फादर स्टेन को रिहा करने की मांग कर रहे थे तथा उन पर लगाए गए आरोपों को फर्जी बता रहे थे.

इनमें जाने- माने अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज भी शामिल थे. विरोध प्रदर्शन कर रह लोगों ने मुख्यमंत्री से इस मामले में हस्तक्षेप करने की अपील की थी.

ज्यां द्रेज का कहना है कि आतंकवाद निरोधक कानून (यूएपीए) की आड़ में झूठी गिरफ्तारियां बंद होनी चाहिए. भीमा कोरेगांव केस में स्टेन स्वामी को झूठे आरोपों के तहत गिरफ्तार किया गया है. इसके साथ ही ज्यां द्रेज ने सवाल खड़ा किया कि जन अधिकारों के पक्ष में काम करने वाले कितने लोगों को कैद किया जाएगा. 

ज्यां द्रेज ने यह भी कहा, " 83 साल के स्टेन को बिना कोई सबूत जेल में बंद किया जा रहा है. हमें लगता है कि ये ताकत के प्रदर्शन के तौर पर देखा जाना चाहिए. हम न केवल उनकी गिरफ्तारी का विरोध करते हैं बल्कि यूएपीए कानून का भी विरोध करते हैं."

माओवादी कनेक्शन 

इस बीच भीमा कोरेगांव मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने दूसरी पूरक चार्टशीट दाखिल की है. इनमें फादर स्टेन स्वामी, प्रोफ़ेसर आनंद तेलतुंबड़े, दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर हनी बाबू, गौतम नवलखा और क्लचरल ग्रुप कबीर कला मंच के तीन सदस्य ज्योति जगतप, सागर गोरखे और रमेश गायचोर सहित आठ लोगों के नाम शामिल हैं.

खबरों के मुताबिक 10 हजार से अधिक पन्नों में इस चार्जशीट के जरिए एनआईए ने स्टेन स्वामी का भाकपा माओवादियों से रिश्ता बताया है. 

चार्जशीट के अनुसार आनंद तेलतुंबड़े, गौतम नवलखा, हनी बाबू, सागर गोरखे, रमेश गायचोर, ज्योति जगतप और स्टेन स्वामी ने प्रतिबंधित संगठन सीपीआई (माओवादी) की विचारधारा का प्रचार प्रसार करने की साज़िश रची और सरकार के ख़िलाफ़ लोगों में नफ़रत और असंतोष पैदा किया. साथ ही स्टेन स्वामी सीपीआई (माओवादी) के कैडर हैं और इसकी गतिविधियों में शामिल थे. वह पीपीएससी के संयोजक हैं जो कि सीपीआई (माओवादी) की फ्रंटल आर्गनाइजेशन है. 

छह अक्तूबर को क्या कहा था स्टेन  ने 

स्टेन स्वामी ने गिरफ्तारी से पहले छह अक्टूबर को कहा था कि एनआईए ने 27-30 जुलाई और 6 अगस्त को उनसे करीब 15 घंटे तक पूछताछ की थी. इसके बाद भी वे मुझे मुंबई बुलाना चाहते थे.

इसे भी पढ़ें: झारखंडः 24 जिलों में खेल पदाधिकारियों की नियुक्ति, लॉटरी से हुई पोस्टिंग, खेल पोर्टल लांच करेगी सरकार

यूट्यूब पर झारखंड जनाधिकार महासभा द्वारा जारी किए गए इस वीडियो में स्टेन स्वामी ने कहा था, "एनआईए के अधिकारियों ने पूछताछ के दौरान मेरे सामने कई वैसे दस्तावेज रखे, जो कथित तौर पर मेरे संबंध माओवादियों से होने का खुलासा करते हैं."

उन्होंने कहा, "उन लोगों ने दावा किया कि ये दस्तावेज और जानकारियां एनआईए को मेरे कंप्यूटर से मिली हैं. तब मैंने उन्हें कहा कि यह साजिश है और ऐसे दस्तावेज चोरी से मेरे कंप्यूटर में डाले गए हैं. इसलिए मैं इन्हें खारिज करता हूं."

स्वामी का कहना था, ''भीमा कोरेगांव मामले से उनका कोई संबंध नहीं है, जिसमें मुझे आरोपी माना गया है. एनआईए मेरा संबंध माओवादियों से होने का झूठा आरोप साबित करना चाहती है. मैंने इसका खंडन भी किया है."


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

 राबड़ी देवी का नीतीश पर पलटवार, 'लालू जी ने राजनीतिक जीवनदान दिया, उनका शुक्रगुजार रहें'
राबड़ी देवी का नीतीश पर पलटवार, 'लालू जी ने राजनीतिक जीवनदान दिया, उनका शुक्रगुजार रहें'
बिहार विधानसभा में तेजस्वी के आरोपों पर बिफर पड़े सीएम नीतीश कुमार
बिहार विधानसभा में तेजस्वी के आरोपों पर बिफर पड़े सीएम नीतीश कुमार
गढ़वाः रिश्वतखोरी में मुखिया गिरफ्तार, बिना पैसा लिए योजना देने को तैयार नहीं थे
गढ़वाः रिश्वतखोरी में मुखिया गिरफ्तार, बिना पैसा लिए योजना देने को तैयार नहीं थे
 कंगना की जीत, बंगला ढहाने के मामले में हाई कोर्ट ने रद्द किया बीएमसी का आदेश
कंगना की जीत, बंगला ढहाने के मामले में हाई कोर्ट ने रद्द किया बीएमसी का आदेश
महबूबा मुफ्ती और उनकी बेटी कथित तौर पर नजरबंद
महबूबा मुफ्ती और उनकी बेटी कथित तौर पर नजरबंद
लालू के खिलाफ झारखंड हाईकोर्ट में याचिका दायर, जेल में रहकर फोन इस्तेमाल का आरोप
लालू के खिलाफ झारखंड हाईकोर्ट में याचिका दायर, जेल में रहकर फोन इस्तेमाल का आरोप
सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव पर हेमंत सरकार इतनी मेहरबान क्यों, कोर्ट संज्ञान लेः बाबूलाल मरांडी
सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव पर हेमंत सरकार इतनी मेहरबान क्यों, कोर्ट संज्ञान लेः बाबूलाल मरांडी
बीजेपी विधायक विजय सिन्हा बिहार विधानसभा के स्पीकर चुने गए, गठबंधन का जोर काम नहीं आया
बीजेपी विधायक विजय सिन्हा बिहार विधानसभा के स्पीकर चुने गए, गठबंधन का जोर काम नहीं आया
कांग्रेस के कद्दावर नेता अहमद पटेल का निधन
कांग्रेस के कद्दावर नेता अहमद पटेल का निधन
 ट्वीट कर सुशील मोदी ने बताया, किस नंबर से लालू जेल से फोन पर एनडीए विधायकों को प्रलोभन दे रहे
ट्वीट कर सुशील मोदी ने बताया, किस नंबर से लालू जेल से फोन पर एनडीए विधायकों को प्रलोभन दे रहे

Stay Connected

Facebook Google twitter