नहीं रहे जॉर्ज फर्नांडिस, छोड़ गए लंबी लकीर

नहीं रहे जॉर्ज फर्नांडिस, छोड़ गए लंबी लकीर
Facebook- George Fernandes
पीबी ब्यूरो ,   Jan 29, 2019

नई दिल्ली: भारत के पूर्व रक्षामंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का निधन हो गया है. वे 89 साल के थे. जॉर्ज फर्नांडिस काफी लंबे समय से अल्जाइमर रोग से पीड़ित थे. और वे अभी बिस्तर पर ही रहते थे. उन्होंने दिल्ली के एक अस्पताल में आखिरी सांस ली.

जॉर्ज का जन्म 3 जून 1930 को मैंगलोर में हुआ था. वे अटल सरकार में अक्टूबर 2001 से मई 2004 तक रक्षामंत्री रहे. आखिरी बार वह अगस्त 2009 से जुलाई 2010 तक राज्यसभा के सांसद रहे थे.

फर्नांडिस सबसे पहले साल 1967 में लोकसभा सांसद चुने गए थे. उन्होंने बंबई दक्षिण लोकसभा सीट से कांग्रेस के कद्दावर नेता एसके पाटिल को हराया था. तभी से उनका नाम 'जॉर्ज द जायंट किलर' पड़ा. उस जमाने में जॉर्ज बंबई म्यूनिसिपिल काउंसिल में काउंसलर हुआ करते थे.

Facebook- George Fernandes

जॉर्ज फर्नाडिंस को दूसरी बार राष्ट्रीय स्तर पर सुर्ख़ी तब मिली जब उन्होंने अपने बूते पर पूरे भारत में रेल हड़ताल करवाR. /ये जॉर्ज का प्रभाव था कि टैक्सी ड्राइवर, इलैक्ट्रिसिटी यूनियन और ट्रांसपोर्ट की यूनियनें भी इसमें शामिल हो गईं. रेल कर्मचारियों ने जगह- जगह पटरियां जाम कर दी. मानो पूरा देश ठहर सा गया. कई जगह रेलवे ट्रैक खुलवाने के लिए सेना को तैनात किया गया.

एमनेस्टी इंटरनेशनल की रिपोर्ट के मुताबिक हड़ताल तोड़ने के लिए 30 हजार से ज्यादा मजदूर नेताओं को जेल में डाल दिया गया. इंदिरा गाँधी की सरकार ने बहुत क्रूरता से इस हड़ताल को कुचल दिया. 

इसे भी पढ़ें: क्या विपक्ष के एजेंडा में शामिल होगा ‘भुखमरी का दाग और रोजगार, कुपोषण का दर्द’?

रक्षामंत्री के अलावा उन्होंने कम्यूनिकेशंस, इंडस्ट्री और रेलवे मंत्रालयों की भी जिम्मेदारी संभाली है.

बीमारी की वजह से जॉर्ज फर्नांडिस बहुत समय पहले ही सार्वजनिक जीवन से दूर हो गए थे. वे समाजवाद विचार और राजनीति के मजबूत स्तंभ माने जाते थे.

Facebook- George Fernandes

एक दौर था, जब उन्हें उन्हें गरीबों का मसीहा कहा जाता था. उन्होंने शुरू से छोटे पैमाने के उद्योगों में काम करने वाले श्रमिकों के लिए संघर्ष किया.1994 में उन्होंने समता पार्टी की स्थापना की. बिहार की राजनीति को भी उन्होंने एक दिशा दी थी.  

जॉर्ज ने रोमन कैथोलिक पादरी की ट्रेनिंग ली थी. इसी दौरान वे यूनियन पॉलिटिक्स की तरफ मुड़ गए. 1967 में वे मुंबई से कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता एसके पाटिल को हराकर संसद पहुंचे थे

1970 में समाजवादी आंदोलन के बड़े नेता थे. समता पार्टी बनाने से पहले जनता दल के वरिष्ठ नेताओं में उनकी गिनती होती थी. 1930 में जन्में जॉर्ज ने रोमन कैथोलिक पादरी की ट्रेनिंग ली थी, तभी वे यूनियन पॉलिटिक्स की तरफ मुड़ गए.

वे अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में अक्टूबर 2001 से मई 2004 तक रक्षामंत्री रहे. आखिरी बार वह अगस्त 2009 से जुलाई 2010 तक राज्यसभा के सांसद रहे थे. चंद्रशेखर, जसवंत सिंह, लालकृष्ण आडवाणी अटल बिहारी वाजपेयी, यशवंत सिन्हा, मुरली मनोहर जोशी, शरद यादव, कड़िया मुंडा, शरद पवार, एम करूणानिधि मोरारजी देसाई सरीखे नेताओं के बीच वे काफी लोकप्रिय थे. 

जॉर्ज ने जब पहली दफा 1967 में मुंबई से कद्दावर नेता एसके पाटिल को हराया तभी से उनका नाम 'जॉर्ज द जायंट किलर' पड़ा. उस जमाने में जॉर्ज बंबई म्यूनिसिपिल काउंसिल में काउंसलर हुआ करते थे.

1975 में इंदिरा गांधी की ओर से लगाए गए आपातकाल के दौरान उन्हें जेल में डाल दिया गया था. उन पर सरकारी प्रतिष्ठानों और रेलवे पटरियों को उड़ाने के लिए 'बड़ौदा डायनामाइट षड्यंत्र' रचने का आरोप लगाया गया था. 

1977 में उन्होंने जेल से ही चुनाव लड़ा था और बिहार के मुजफ्फरपुर से भारी मतों से जीत हासिल की. बिहार में भी वे काफी लोकप्रिय नेता के तौर पर उभरे. इनके अलावा देश के कई राज्यों में उन्होंने समाजवाद की अलख जगाई. 

Facebook- George Fernandes

जॉर्ज फर्नांडीज आपातकाल के हीरो बन कर उभरे. 1977 में मोरारजी देसाई के नेतृत्व में जनता पार्टी की सरकार बनी तो उन्हें मंत्री बनाया गया. इस दौरान उन्होंने कोका कोला और आईबीएम को झुकने पर मजबूर कर दिया था. 

जॉर्ज फ़र्नांडिस एक विद्रोही राजनेता थे जिनका परंपराओं को मानने में यकीन नहीं था. हैरी पॉटर की किताबों से लेकर महात्मा गाँधी और विंस्टन चर्चिल की जीवनी तक- उन्हें किताबें पढ़ने का बहुत शौक था. उनकी एक ज़बरदस्त लाइब्रेरी हुआ करती थी, जिसकी कोई भी किताब ऐसी नहीं थी, जिसे उन्होंने पढ़ा न हो. 

इसे भी पढ़ें: जेपीएससी विवाद नए मोड़ परः छात्रों के विरोध के बीच मुख्य परीक्षा


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी का निधन, पार्टी स्तब्ध
कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी का निधन, पार्टी स्तब्ध
अलीगढ़ः बीजेपी विधायक का आरोप, पुलिस ने पीटा, कार्यकर्ताओं ने थाना घेरा, तनाव
अलीगढ़ः बीजेपी विधायक का आरोप, पुलिस ने पीटा, कार्यकर्ताओं ने थाना घेरा, तनाव
रूस की कोरोना वैक्सीन के बारे जानकारों की अलग-अलग राय?
रूस की कोरोना वैक्सीन के बारे जानकारों की अलग-अलग राय?
फेसबुक पोस्ट को लेकर बेंगलुरु में भड़की हिंसा, पुलिस फायरिंग में तीन की मौत
फेसबुक पोस्ट को लेकर बेंगलुरु में भड़की हिंसा, पुलिस फायरिंग में तीन की मौत
मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन, कोरोना वायरस से संक्रमित थे
मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन, कोरोना वायरस से संक्रमित थे
कितना भी मैं किसी का विरोध करूं, भाषा की मर्यादा कभी नहीं तोड़ताः सचिन
कितना भी मैं किसी का विरोध करूं, भाषा की मर्यादा कभी नहीं तोड़ताः सचिन
रांची के निकट ओरमांझी में ट्रक पर जा रहे 35 लाख रुपए की अफीम और डोडा बरामद
रांची के निकट ओरमांझी में ट्रक पर जा रहे 35 लाख रुपए की अफीम और डोडा बरामद
दस राज्यों में कोरोना को हरा देते हैं, तो देश भी जीत जाएगाः पीएम मोदी
दस राज्यों में कोरोना को हरा देते हैं, तो देश भी जीत जाएगाः पीएम मोदी
राजस्थानः कांग्रेस में बंवडर थमने की उम्मीद, सचिन की बात सुनने के लिए तीन सदस्यीय कमेटी
राजस्थानः कांग्रेस में बंवडर थमने की उम्मीद, सचिन की बात सुनने के लिए तीन सदस्यीय कमेटी
झारखंड में बेरोजगारी बड़ी चुनौती, हम इससे निपटेंगेः हेमंत सोरेन
झारखंड में बेरोजगारी बड़ी चुनौती, हम इससे निपटेंगेः हेमंत सोरेन

Stay Connected

Facebook Google twitter