नागपुरी फिल्म इंडस्ट्री की राह खोलेगी 'फुलमनिया'- लाल विजय

 नागपुरी फिल्म इंडस्ट्री की राह खोलेगी 'फुलमनिया'- लाल विजय
Sanjay Kumar
पीबी ब्यूरो ,   Aug 11, 2019

क्या नहीं है अपने झारखंड में. खूबसूरत वादियां. उभरते कलाकार. युवाओं में सीखने की ललक और समझदारी. कहीं से और किसी को शुरुआत तो करनी होगी.  फिल्म फुलमिनया के साथ यह शुरुआत हमने की है. दिली तमन्ना है कि नागपुरी फिल्म इंडस्ट्री स्थापित करने की. उम्मीदें कायम है कि फुलमनिया ही इन कोशिशों की राह खोलेगी. 

झारखंड में लोहरदगा के हेसापीढ़ी गांव के रहने वाले लाल विजय नाथ शाहदेव अपनी फिल्म फुलमनिया को लेकर काफी उत्साहित हैं.

आकृति इंटरटेनमेंट के निदेशक लाल विजय छोटे से गांव से निकल पिछले चार सालों से मुंबई में टीवी सीरियल और फिल्म निर्माण में जुटे हैं. 10 अगस्त को रांची में आयोजित एक कार्यक्रम में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने उन्हें झारखंड गौरव   का पुरस्कार दिया है. 

लाल विजय कहते हैं कि क्षेत्रीय फिल्में, भाषा, संस्कृति, परंपरा के संरक्षण और संवर्धन की महत्वपूर्ण कड़ी हो सकती हैं. महाराष्ट्र में मराठी फिल्म इंडस्ट्री ने अच्छा काम किया है.

छत्तसीगढ़ में क्षेत्रीय फिल्मों को बढ़ावा मिला है. और छत्तीसगढ़ी लोक गीत भी लोकप्रिय हो रहे हैं. नागपुरी में कला की पहचान तो बहुत पहले से रही है. इसे मांज कर दर्शकों की चाहत के अनुरूप परोसे जाने की जरूरत है. 

इसे भी पढ़ें: गढ़वाः पेड़ पर लटका था घर के मुखिया का शव, पत्नी और दो बेटियों की लाश कुएं में

वे बताते हैं, ''नागपुरी फिल्म इंडस्ट्री खड़ी होने से युवाओं में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे. हालांकि यह काम आसान नहीं है, लेकिन वे इन चुनौतियों का सामना करने के लिए बिल्कुल तैयार है. फुलमनिया और लोहरदगा इन दो फिल्मों का निर्माण करने के पीछे मेरा यही मकसद रहा है''. 

बाध्य करना होगा

झारखंड में इसकी असीम संभावनाएं हैं. लेकिन अब तक दर्शकों को बांधा नहीं जा सका. यही वजह है कि नागपुरी फिल्म इंडस्ट्री की हालत अच्छी नहीं है. वे बताते हैं कि सितंबर के अंतिम या अक्तूबर के पहले हफ्ते नागपुरी फिल्म फुलमिया रिलीज करेंगे. जबकि नवंबर में फिल्म लोहरदगा रिलीज होगी. 

फिल्म फुलमनिया के कलाकार 

दर्शकों का झुकाव इन फिल्मों की तरफ कितना रहा है, इस सवाल पर लाल विजय कहते हैं, ''फिल्म बनाने वालों को इसके लिए दर्शकों को बाध्य करना होगा. थियेटर को बाध्य करना होगा कि फिल्म एक- दो दिन में पर्दे से नहीं उतरे. और बाध्य आप तभी कर सकते हैं कि आप फिल्म का हर पक्ष मजबूत और कसा हो, जो आंखों को अच्छी लगे. दिल को अच्छा लगे. क्षेत्रीय भाषा में गीत-संगीत को नए कलात्मक ढंग से सजाया जाए.''

क्या है फुलमनिया में 

विजय कहते हैं कि फुलमनिया नागपुरी फिल्म है, जिसे कोई भी देखकर निराश नहीं होगा. यह फिल्म सीख ही देगी. हम बड़े पैमाने पर उसका प्रमोशन करने जा रहे हैं. साथ ही यह फिल्म देखने के लिए ज़्यादा दर्शकों को प्रेरित किया जाएगा हमें प्रतिक्रियाओं और सुझावों का इंतजार रहेगा. फुलमनिया में झारखंड की डायन बिसाही प्रथा को दिखाया गया है. साथ ही महिलाओं के शोषण और बांझपन के दर्द की भी झलक है.

फिल्म के निर्माता निर्देशक का दावा है कि  मुख्य नायिका के तौर पर रांची की कोमल सिंह बेहतरीन अभिनय किया है. बीते मई महीने में कान फिल्म फेस्टिवल में इस फिल्म की सफल स्क्रीनिंग रही है. 

लाल विजय बताते हैं कि कान फिल्म फेस्टिवल में जिन लोगों ने फिल्म देखी, उन्होंने तारीफ की. झारखंड के ज्वलंत मुद्दे पर बनी दोनों फिल्में- फुलमिया और लोहरदगा बॉलीवुड इंडस्ट्री को रास्ता दिखायेंगी कि कम बजट और सीमित संसाधन में भी बेहतरीन फिल्में बनायी जा सकती हैं.

इससे पहले लाल विजय की पहली शॉर्ट फिल्म "द साइलेंट स्टेचू' 2016 में कान फिल्म फेस्टिवल में शामिल की गई थी. 

 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कोरोना, नोटबंदी और जीसटी को हार्वर्ड में असफलता पर केस स्टडीज की तरह पढ़ाया जाएगा : राहुल गांधी
कोरोना, नोटबंदी और जीसटी को हार्वर्ड में असफलता पर केस स्टडीज की तरह पढ़ाया जाएगा : राहुल गांधी
दिल्ली के 106 वर्षीय बुजुर्ग कोविड-19 संक्रमण से ठीक हुए, 102 साल पहले स्पेनिश फ्लू को भी दी थी मात
दिल्ली के 106 वर्षीय बुजुर्ग कोविड-19 संक्रमण से ठीक हुए, 102 साल पहले स्पेनिश फ्लू को भी दी थी मात
दुनिया में कोरोना से तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना भारत, रूस को पीछे छोड़ा
दुनिया में कोरोना से तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना भारत, रूस को पीछे छोड़ा
अब जेएमएम ने दिखाया कच्चा-चिट्ठाः रघुवर राज में 1450 एकड़ जमीन गलत तरीके से बेची गई
अब जेएमएम ने दिखाया कच्चा-चिट्ठाः रघुवर राज में 1450 एकड़ जमीन गलत तरीके से बेची गई
चुनौतियों का स्थायी समाधान भगवान बुद्ध के आदर्शों से मिल सकता है : पीएम मोदी
चुनौतियों का स्थायी समाधान भगवान बुद्ध के आदर्शों से मिल सकता है : पीएम मोदी
चीनी घुसपैठ पर लद्दाखवासियों की बात नजरअंदाज नहीं करे सरकार: राहुल गांधी
चीनी घुसपैठ पर लद्दाखवासियों की बात नजरअंदाज नहीं करे सरकार: राहुल गांधी
जब कोरोना से बचने के लिए बनवा लिए सोने का मास्क, पैसे लगे तीन लाख
जब कोरोना से बचने के लिए बनवा लिए सोने का मास्क, पैसे लगे तीन लाख
नीट और जेईई मेन परीक्षाएं स्थगित, मिली सितंबर में नई तारीख
नीट और जेईई मेन परीक्षाएं स्थगित, मिली सितंबर में नई तारीख
'15 साल में हमसे कोई भूल हुई थी तो उसके लिए माफी मांगते हैं'
'15 साल में हमसे कोई भूल हुई थी तो उसके लिए माफी मांगते हैं'
कानपुरः छापा मारने गई पुलिस पर अपराधियों की फायरिंग, डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों की मौत
कानपुरः छापा मारने गई पुलिस पर अपराधियों की फायरिंग, डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों की मौत

Stay Connected

Facebook Google twitter