नागपुरी फिल्म इंडस्ट्री की राह खोलेगी 'फुलमनिया'- लाल विजय

 नागपुरी फिल्म इंडस्ट्री की राह खोलेगी 'फुलमनिया'- लाल विजय
Sanjay Kumar
पीबी ब्यूरो ,   Aug 11, 2019

क्या नहीं है अपने झारखंड में. खूबसूरत वादियां. उभरते कलाकार. युवाओं में सीखने की ललक और समझदारी. कहीं से और किसी को शुरुआत तो करनी होगी.  फिल्म फुलमिनया के साथ यह शुरुआत हमने की है. दिली तमन्ना है कि नागपुरी फिल्म इंडस्ट्री स्थापित करने की. उम्मीदें कायम है कि फुलमनिया ही इन कोशिशों की राह खोलेगी. 

झारखंड में लोहरदगा के हेसापीढ़ी गांव के रहने वाले लाल विजय नाथ शाहदेव अपनी फिल्म फुलमनिया को लेकर काफी उत्साहित हैं.

आकृति इंटरटेनमेंट के निदेशक लाल विजय छोटे से गांव से निकल पिछले चार सालों से मुंबई में टीवी सीरियल और फिल्म निर्माण में जुटे हैं. 10 अगस्त को रांची में आयोजित एक कार्यक्रम में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने उन्हें झारखंड गौरव   का पुरस्कार दिया है. 

लाल विजय कहते हैं कि क्षेत्रीय फिल्में, भाषा, संस्कृति, परंपरा के संरक्षण और संवर्धन की महत्वपूर्ण कड़ी हो सकती हैं. महाराष्ट्र में मराठी फिल्म इंडस्ट्री ने अच्छा काम किया है.

छत्तसीगढ़ में क्षेत्रीय फिल्मों को बढ़ावा मिला है. और छत्तीसगढ़ी लोक गीत भी लोकप्रिय हो रहे हैं. नागपुरी में कला की पहचान तो बहुत पहले से रही है. इसे मांज कर दर्शकों की चाहत के अनुरूप परोसे जाने की जरूरत है. 

इसे भी पढ़ें: गढ़वाः पेड़ पर लटका था घर के मुखिया का शव, पत्नी और दो बेटियों की लाश कुएं में

वे बताते हैं, ''नागपुरी फिल्म इंडस्ट्री खड़ी होने से युवाओं में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे. हालांकि यह काम आसान नहीं है, लेकिन वे इन चुनौतियों का सामना करने के लिए बिल्कुल तैयार है. फुलमनिया और लोहरदगा इन दो फिल्मों का निर्माण करने के पीछे मेरा यही मकसद रहा है''. 

बाध्य करना होगा

झारखंड में इसकी असीम संभावनाएं हैं. लेकिन अब तक दर्शकों को बांधा नहीं जा सका. यही वजह है कि नागपुरी फिल्म इंडस्ट्री की हालत अच्छी नहीं है. वे बताते हैं कि सितंबर के अंतिम या अक्तूबर के पहले हफ्ते नागपुरी फिल्म फुलमिया रिलीज करेंगे. जबकि नवंबर में फिल्म लोहरदगा रिलीज होगी. 

फिल्म फुलमनिया के कलाकार 

दर्शकों का झुकाव इन फिल्मों की तरफ कितना रहा है, इस सवाल पर लाल विजय कहते हैं, ''फिल्म बनाने वालों को इसके लिए दर्शकों को बाध्य करना होगा. थियेटर को बाध्य करना होगा कि फिल्म एक- दो दिन में पर्दे से नहीं उतरे. और बाध्य आप तभी कर सकते हैं कि आप फिल्म का हर पक्ष मजबूत और कसा हो, जो आंखों को अच्छी लगे. दिल को अच्छा लगे. क्षेत्रीय भाषा में गीत-संगीत को नए कलात्मक ढंग से सजाया जाए.''

क्या है फुलमनिया में 

विजय कहते हैं कि फुलमनिया नागपुरी फिल्म है, जिसे कोई भी देखकर निराश नहीं होगा. यह फिल्म सीख ही देगी. हम बड़े पैमाने पर उसका प्रमोशन करने जा रहे हैं. साथ ही यह फिल्म देखने के लिए ज़्यादा दर्शकों को प्रेरित किया जाएगा हमें प्रतिक्रियाओं और सुझावों का इंतजार रहेगा. फुलमनिया में झारखंड की डायन बिसाही प्रथा को दिखाया गया है. साथ ही महिलाओं के शोषण और बांझपन के दर्द की भी झलक है.

फिल्म के निर्माता निर्देशक का दावा है कि  मुख्य नायिका के तौर पर रांची की कोमल सिंह बेहतरीन अभिनय किया है. बीते मई महीने में कान फिल्म फेस्टिवल में इस फिल्म की सफल स्क्रीनिंग रही है. 

लाल विजय बताते हैं कि कान फिल्म फेस्टिवल में जिन लोगों ने फिल्म देखी, उन्होंने तारीफ की. झारखंड के ज्वलंत मुद्दे पर बनी दोनों फिल्में- फुलमिया और लोहरदगा बॉलीवुड इंडस्ट्री को रास्ता दिखायेंगी कि कम बजट और सीमित संसाधन में भी बेहतरीन फिल्में बनायी जा सकती हैं.

इससे पहले लाल विजय की पहली शॉर्ट फिल्म "द साइलेंट स्टेचू' 2016 में कान फिल्म फेस्टिवल में शामिल की गई थी. 

 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

 पलामूः तिलक चढ़ाकर लौट रहे थे, सड़क किनारे खड़े ट्रक में कार ने मारी टक्कर, 4 लोगों की मौत
पलामूः तिलक चढ़ाकर लौट रहे थे, सड़क किनारे खड़े ट्रक में कार ने मारी टक्कर, 4 लोगों की मौत
बीजेपी विधायक विजय सिन्हा बिहार विधानसभा के स्पीकर चुने गए, गठबंधन का जोर काम नहीं आया
बीजेपी विधायक विजय सिन्हा बिहार विधानसभा के स्पीकर चुने गए, गठबंधन का जोर काम नहीं आया
कांग्रेस के कद्दावर नेता अहमद पटेल का निधन
कांग्रेस के कद्दावर नेता अहमद पटेल का निधन
 ट्वीट कर सुशील मोदी ने बताया, किस नंबर से लालू जेल से फोन पर एनडीए विधायकों को प्रलोभन दे रहे
ट्वीट कर सुशील मोदी ने बताया, किस नंबर से लालू जेल से फोन पर एनडीए विधायकों को प्रलोभन दे रहे
बिहार में स्पीकर का चुनाव: भाजपा के विजय सिन्हा के मुकाबले राजद ने अवध बिहारी चौधरी को उतारा
बिहार में स्पीकर का चुनाव: भाजपा के विजय सिन्हा के मुकाबले राजद ने अवध बिहारी चौधरी को उतारा
कंगना की गिरफ्तारी पर मुंबई हाईकोर्ट ने लगाई रोक
कंगना की गिरफ्तारी पर मुंबई हाईकोर्ट ने लगाई रोक
विधानसभा के नोटिस को बाबूलाल ने दी है हाईकोर्ट में चुनौती, दलबदल पर अब 19 दिसंबर को सुनवाई
विधानसभा के नोटिस को बाबूलाल ने दी है हाईकोर्ट में चुनौती, दलबदल पर अब 19 दिसंबर को सुनवाई
बिहार: एआईएमआईएम के विधायक ने शपथ में हिन्दुस्तान शब्द नहीं पढ़ा, बीजेपी बोली, पाकिस्तान चले  जाएं
बिहार: एआईएमआईएम के विधायक ने शपथ में हिन्दुस्तान शब्द नहीं पढ़ा, बीजेपी बोली, पाकिस्तान चले जाएं
जमीन का काम अंचल से जिलाधिकारी ऑफिस तक बिना पैसे का नहीं होता, कर्मचारी-दलाल हावीः बंधु तिर्की
जमीन का काम अंचल से जिलाधिकारी ऑफिस तक बिना पैसे का नहीं होता, कर्मचारी-दलाल हावीः बंधु तिर्की
असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरूण गोगोई का निधन
असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरूण गोगोई का निधन

Stay Connected

Facebook Google twitter