लुइस, नीरा समेत पांच पूर्व मंत्रियों पर आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का आरोप, पीआइएल दायर

लुइस, नीरा समेत पांच पूर्व मंत्रियों पर आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का आरोप, पीआइएल दायर
File Photo (बाएं लुइस मरांडी और दाहिने में हैं नीरा यादव)
पीबी ब्यूरो ,   Jan 29, 2020

झारखंड में रघुवर दास सरकार के पूर्व पांच मंत्रियों पर आय से अधिक संपत्ति हासिल करने का आरोप लगाते हुए हाईकोर्ट में पीआईएल दायर किया गया है.

जिन पूर्व मंत्रियों पर आय से अधिक संपत्ति हासिल करने का आरोप है, उनमें डॉ नीरा यादव, डॉ लुइस मरांडी, नीलकंठ सिंह मुंडा, अमर बाउरी और रणधीर सिंह शामिल हैं. 

पूर्व की सरकार (2014-2019) में नीरा यादव शिक्षा, लुइस मरांडी आदिवासी कल्याण, नीलकंठ सिंह मुंडा ग्रामीण विकास विभाग, अमर बाउरी भूमि सुधार राजस्व और रणधीर सिंह कृषि मंत्री की जिम्मेदारी संभाल रहे थे.

2019 के विधानसभा चुनाव में लुइस मरांडी को छोड़ कर सभी चार फिर से जीते हैं.

यह याचिका प्रार्थी पंकज यादव ने दायर की है. साथ ही अर्जित संपत्ति की जांच भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) से जांच कराने की मांग की है. प्रार्थी की ओर से अधिवक्ता राजीव कुमार ने याचिका दायर की है. 

इसे भी पढ़ें: चाईबासा नरसंहारः बीजेपी ने नेतृत्व को सौंपी रिपोर्ट, कल गृह मंत्री से मिलकर हालात बताएंगे

याचिका में कहा गया है कि पूर्व मंत्रियों ने पांच वर्षों के कार्यकाल के दौरान 200 प्रतिशत से लेकर एक हजार प्रतिशत तक अपनी आय में वृद्धि की है. वर्ष 2014 से 2019 तक की अवधि में अर्जित की गयी संपत्ति की जांच की जाए. 

राजीव कुमार कहते हैं कि 2014 से 2019 के दौरान इन नेताओं की संपत्ति में जिस तरह से बढ़ोत्तरी हुई है, उससे संदेह पैदा होता है. इसलिए पीआइएल दायर कर जांच की मांग की गई है. 
 
इसके अलावा  प्रार्थी श्री यादव ने शिक्षा सचिव, कृषि सचिव, पर्यटन सचिव, खेल सचिव, कल्याण सचिव व ग्रामीण विकास विभाग के सचिव समेत अन्य को प्रतिवादी बनाया है.

गौरतलब है कि प्रार्थी पंकज यादव ने इसके पूर्व मोमेंटम झारखंड के आयोजन में हुई गड़बड़ियों को लेकर पूर्व सीएम रघुवर दास सहित कई वरीय अधिकारियों के खिलाफ एसीबी में आवेदन देकर प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की है.
 
पूर्व मंत्री नीरा यादव, लुइस मरांडी, नीलकंठ सिंह मुंडा, अमर कुमार बाउरी, रणधीर सिंह ने साल 2014 और 2019 में विधानसभा चुनाव के दौरान दिए गये शपथ पत्र में संपत्ति को आधार बनाते हुए प्रार्थी पंकज कुमार यादव ने अपनी याचिका में आरोप लगाया है कि एक अनुमान के अनुसार, लगभग 200 प्रतिशत से लेकर एक हजार प्रतिशत तक की बढ़ोतरी संपत्ति अर्जित करने में हुई है. 

प्रार्थी ने आधार बनाया है

नीलकंठ सिंह मुंडाः 2014 में 1.46 करोड़ रुपए जो 2019 में बढ़कर 4.35 करोड़ हुआ

डॉ नीरा यादवः 2014 में 80.59 लाख रुपए था, जो 2019 में 3.65 करोड़ हुआ

रणधीर सिंहः 2014 में 78.92 लाख रुपए था, जो साल 2019 में 5.06 करोड़ हुआ

डॉ लुईस मरांडीः साल 2014 में 2.25 करोड़ की संपत्ति साल 2019 में 9.06 करोड़ 

अमर कुमार बाउरीः साल 2014 में 89.41 लाख, जो साल 2019 में 7.33 करोड़ 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कोरोना के बीच क्यों सुर्खियों में हैं डॉक्टर सुधीर डेहरिया
कोरोना के बीच क्यों सुर्खियों में हैं डॉक्टर सुधीर डेहरिया
उत्तर प्रदेश में 25 साल के युवक की मौत, देश भर में मरने वालों का आंकड़ा 35 तक पहुंचा
उत्तर प्रदेश में 25 साल के युवक की मौत, देश भर में मरने वालों का आंकड़ा 35 तक पहुंचा
बीजेपी बोली, झारखंड के धार्मिक स्थलों में ठहरे विदेशियों ने संक्रमण लाया और सरकार देखती रही
बीजेपी बोली, झारखंड के धार्मिक स्थलों में ठहरे विदेशियों ने संक्रमण लाया और सरकार देखती रही
निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन के बाद मेरठ और मुज्जफरनगर अलर्ट पर
निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन के बाद मेरठ और मुज्जफरनगर अलर्ट पर
कोरोना संकट के बीच तबलीगी जमात में अनुमानित 1700 लोग शामिल हुए थे,सख्त कार्रवाई होनी चाहिएः मंत्री
कोरोना संकट के बीच तबलीगी जमात में अनुमानित 1700 लोग शामिल हुए थे,सख्त कार्रवाई होनी चाहिएः मंत्री
प्रशांत किशोर ने कहा, नीतीश कुमार गद्दी छोड़ दें, जदयू का पलटवार, ट्वीट पर घटिया राजनीति मत करें
प्रशांत किशोर ने कहा, नीतीश कुमार गद्दी छोड़ दें, जदयू का पलटवार, ट्वीट पर घटिया राजनीति मत करें
सोशल मीडिया पर आपातकाल लगाने के संदेश फर्जी: सेना
सोशल मीडिया पर आपातकाल लगाने के संदेश फर्जी: सेना
 नजाकत समझें और संभलें, भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 32 हुई
नजाकत समझें और संभलें, भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 32 हुई
स्पाइसजेट का पायलट कोरोना वायरस से संक्रमित, चालक दल हुए होम क्वारंटाइन
स्पाइसजेट का पायलट कोरोना वायरस से संक्रमित, चालक दल हुए होम क्वारंटाइन
'मन की बात' में बोले पीएम मोदी, असुविधा के लिए क्षमा, पर इसके बिना कोई रास्ता नहीं था
'मन की बात' में बोले पीएम मोदी, असुविधा के लिए क्षमा, पर इसके बिना कोई रास्ता नहीं था

Stay Connected

Facebook Google twitter