कठिन दौर से गुजर रही है पत्रकारिता और नए खतरे के तौर पर सामने आई हैं फर्जी खबरें : राष्ट्रपति

कठिन दौर से गुजर रही है पत्रकारिता और नए खतरे के तौर पर सामने आई हैं फर्जी खबरें : राष्ट्रपति
Twitter- President Of India
पीबी ब्यूरो ,   Jan 21, 2020

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को कहा कि पत्रकारिता एक ‘‘कठिन दौर’’ से गुजर रही है. उन्होंने कहा कि फर्जी खबरें नये खतरे के रूप में सामने आई हैं, जिसका प्रसार करने वाले खुद को पत्रकार के रूप में पेश करते हैं और इस महान पेशे को कलंकित करते हैं.

कोविंद ने कहा कि सामाजिक और आर्थिक असमानताओं को उजागर करने वाली खबरों की अनदेखी की जाती है और उनका स्थान तुच्छ बातों ने ले लिया है.

उन्होंने कहा, ‘‘वैज्ञानिक सोच को प्रोत्साहित करने में मदद के बजाय कुछ पत्रकार रेटिंग पाने और ध्यान खींचने के लिए अतार्किक तरीके से काम करते हैं.’’ ‘रामनाथ गोयनका एक्सलेंस इन जर्नलिज्म’ पुरस्कार समारोह को यहां संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि ‘‘ब्रेकिंग न्यूज सिंड्रोम’’ के शोरशराबे में संयम और जिम्मेदारी के मूलभूत सिद्धांत की अनदेखी की जा रही है.

कोविंद ने कहा कि पुराने लोग ‘फाइव डब्ल्यू एंड एच’ (व्हाट (क्या), व्हेन (कब), व्हाई (क्यों), व्हेयर(कहां), हू (कौन) और हाउ (कैसे) के मूलभूत सिद्धांतों को याद रखते थे, जिनका जवाब देना किसी सूचना के खबर की परिभाषा में आने के लिये अनिवार्य था.

उन्होंने कहा, ‘‘फर्जी खबरें नए खतरे के रूप में उभरी हैं, जिनका प्रसार करने वाले खुद को पत्रकार के तौर पर पेश करते हैं और इस महान पेशे को कलंकित करते हैं.’’

इसे भी पढ़ें: बंधु तिर्की को पार्टी से निकालने की इतनी जल्दीबाजी क्यों थीः प्रदीप यादव

राष्ट्रपति ने कहा कि पत्रकारों को अपने कर्तव्य के निर्वहन के दौरान कई भूमिकाएं निभानी पड़ती हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘इन दिनों वे अक्सर जांचकर्ता, अभियोजक और न्यायाधीश की भूमिका निभाने लगते हैं.’’

राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘इसमें कोई शक नहीं है कि पत्रकारिता एक कठिन दौर से गुजर रही है.’’

कोविंद ने कहा कि सच तक पहुंचने के लिए एक समय में कई भूमिका निभाने की खातिर पत्रकारों को काफी आंतरिक शक्ति और अविश्वसनीय जुनून की आवश्यकता होती है.

उन्होंने कहा, ‘‘उनकी बहुमुखी प्रतिभा प्रशंसनीय है। लेकिन वह मुझे यह पूछने के लिए प्रेरित करता है कि क्या इस तरह की व्यापक शक्ति के इस्तेमाल के साथ वास्तविक जवाबदेही होती है?’’

राष्ट्रपति ने कहा कि हमारे जैसा लोकतंत्र, तथ्यों के उजागर होने और उन पर बहस करने की इच्छा पर निर्भर करता है.

उन्होंने कहा, ‘‘लोकतंत्र तभी सार्थक है, जब नागरिक अच्छी तरह से जानकार हो.’’

(भाषा से इनपुट) 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

पीएम मोदी से मुलाकात के बाद महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा, सीएए से डरने की जरूरत नहीं
पीएम मोदी से मुलाकात के बाद महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा, सीएए से डरने की जरूरत नहीं
ओवैसी की सभा में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वाली युवती भेजी गई न्यायिक हिरासत में
ओवैसी की सभा में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वाली युवती भेजी गई न्यायिक हिरासत में
शिव के बारे में शंकर से अधिक कौन जानता है
शिव के बारे में शंकर से अधिक कौन जानता है
राम मंदिर ट्रस्ट ने पीएम मोदी को अयोध्या आने का दिया निमंत्रण, अप्रैल में रामोत्सव
राम मंदिर ट्रस्ट ने पीएम मोदी को अयोध्या आने का दिया निमंत्रण, अप्रैल में रामोत्सव
फसल बीमा योजना को स्वैच्छिक बनाने पर चिदंबरम बोले, यह सबसे बड़ा किसान विरोधी कदम
फसल बीमा योजना को स्वैच्छिक बनाने पर चिदंबरम बोले, यह सबसे बड़ा किसान विरोधी कदम
 राम मंदिर ट्रस्ट की पहली बैठकः नृत्य गोपालदास अध्यक्ष, चंपत राय बने महासचिव, नृपेन्द्र मिश्रा भी शामिल
राम मंदिर ट्रस्ट की पहली बैठकः नृत्य गोपालदास अध्यक्ष, चंपत राय बने महासचिव, नृपेन्द्र मिश्रा भी शामिल
झारखंडः मारी गई खेती, राशन भी था बंद, किसान ने ट्रेन से कट कर दी जान, अफसर पहुंचे दरवाजे पर
झारखंडः मारी गई खेती, राशन भी था बंद, किसान ने ट्रेन से कट कर दी जान, अफसर पहुंचे दरवाजे पर
शुरु हुआ ईटखोरी महोत्सव, हेमंत ने कहा, सिर्फ खनिज नहीं धर्म स्थल भी हैं झारखंड की पहचान
शुरु हुआ ईटखोरी महोत्सव, हेमंत ने कहा, सिर्फ खनिज नहीं धर्म स्थल भी हैं झारखंड की पहचान
खूंटी से 27 किलो अफीम लेकर बंगाल जा रहा था तस्कर, पाकुड़ में धराया
खूंटी से 27 किलो अफीम लेकर बंगाल जा रहा था तस्कर, पाकुड़ में धराया
शाहीन बाग़: हल निकालने पहुंचे वार्ताकार, कहा, प्रदर्शन से किसी को परेशानी नहीं हो
शाहीन बाग़: हल निकालने पहुंचे वार्ताकार, कहा, प्रदर्शन से किसी को परेशानी नहीं हो

Stay Connected

Facebook Google twitter