जानेमाने अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी बोले, आबादी के एक बड़े हिस्से के हाथों में पैसे पहुंचाने होंगे

जानेमाने अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी बोले, आबादी के एक बड़े हिस्से के हाथों में पैसे पहुंचाने होंगे
पीबी ब्यूरो ,   May 05, 2020

नोबेल पुरस्कार विजेता और जानेमाने अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी ने कोरोना संकट की मार झेल रही अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए बड़े प्रोत्साहन पैकेज की जरूरत पर जोर देते हुए मंगलवार को कहा कि देश की आबादी के एक बड़े हिस्से के हाथों में पैसे भी पहुंचाने होंगे.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद के दौरान बनर्जी ने यह भी कहा कि जरूरतमंदों के लिए तीन महीने तक अस्थायी राशन कार्ड मुहैया कराने, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) क्षेत्र की मदद करने और प्रवासी श्रमिकों की सहायता के लिए राष्ट्रीय स्तर पर कदम उठाने की जरूरत है.

इस संवाद के दौरान कांग्रेस नेता ने कहा कि राज्यों को लॉकडाउन के संदर्भ में फैसले की छूट होनी चाहिए.

गांधी ने उनसे पूछा कि क्या ‘न्याय’ योजना की तर्ज पर लोगों को पैसे दिए जा सकते हैं तो उन्होंने कहा, ‘‘निश्चित तौर पर.’’

साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अगर हम निचले तबके की 60 फीसदी आबादी के हाथों में कुछ पैसे देते हैं तो इसमें कुछ गलत नहीं होगा. यह एक तरह का प्रोत्साहन होगा.

इसे भी पढ़ें: झारखंडः मुकम्मल इलाज को तरसती महिलाएं और गर्भ में बच्चों की मौत पर हाईकोर्ट गंभीर, रिपोर्ट तलब

दरअसल, पिछले लोकसभा चुनाव के समय तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ‘न्याय’ योजना का वादा किया था. इसके तहत देश के करीब पांच करोड़ गरीब परिवारों को,प्रति परिवार सालाना 72 हजार रुपये देने का वादा किया गया था.

मनरेगा और खाद्य सुरक्षा कानून जैसी संप्रग सरकार की योजनाओं पर बनर्जी ने कहा, ‘‘समस्या यह है कि संप्रग द्वारा लागू की गई ये अच्छी नीतियां भी वर्तमान समय में अपर्याप्त साबित हो रही हैं.सरकार ने उन्हें वैसा ही लागू कर रखा है. इसमें कोई किन्तु-परन्तु नहीं था. यह बहुत स्पष्ट था कि संप्रग की नीतियों का आगे उपयोग किया जाएगा.’’ 


 बड़े प्रोत्साहन पैकेज की जरूरत पर जोर देते हुए बनर्जी ने कहा कि अमेरिका, जापान, यूरोप यही कर रहे हैं. हमने बड़े प्रोत्साहन पैकेज पर निर्णय नहीं लिया है. हम अभी भी जीडीपी का एक फीसदी पर हैं, अमेरिका 10 फीसदी तक तक चला गया है. हमें एमएसएमई क्षेत्र के लिए ज्यादा करने की आवश्यकता है.

उनके मुताबिक प्रवासी श्रमिकों के मुद्दे को राज्य सरकार द्वारा नियंत्रित नहीं किया जा सकता है. इसे द्विपक्षीय रूप से संभालना मुश्किल है। यह एक ऐसी समस्या है, जिसका आप विकेंद्रीकरण नहीं करना चाहेंगे क्योंकि आप वास्तव में जानकारी एकत्र करना चाहते हैं.

बनर्जी ने कहा, ‘‘ यदि लोग संक्रमित हैं तो आप नहीं चाहते कि वे पूरे देश में घूमें. मुझे लगता है कि ट्रेन पकड़ने या यात्रा करने से पहले, सरकार को ऐसे लोगों की जांच करानी चाहिए. यह एक मुख्य सवाल है और जिसे केवल केंद्र सरकार सुलझा सकती है.’’

इस पर अलग राय जाहिर करते हुए राहुल गांधी ने कहा, ‘‘ बड़े फैसले राष्ट्रीय स्तर पर होने चाहिए. लेकिन लॉकडाउन के मामले में राज्यों को स्वतंत्रता देनी चाहिए. वर्तमान सरकार का दृष्टिकोण थोड़ा अलग है. वह इसे अपने नियंत्रण में रखना पसंद करती है. ये दो दृष्टिकोण हैं, जरूरी नहीं कि एक गलत और एक सही हो. मैं विकेंद्रीकरण पर जोर देता हूं.’’

(भाषा से इनपुट) 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

मनोज तिवारी हटाए गए, आदेश गुप्ता को दिल्ली बीजेपी की कमान
मनोज तिवारी हटाए गए, आदेश गुप्ता को दिल्ली बीजेपी की कमान
भारत निश्चित ही अपनी आर्थिक वृद्धि फिर से हासिल करेगा, सुधारों से मिलेगी मदद: पीएम मोदी
भारत निश्चित ही अपनी आर्थिक वृद्धि फिर से हासिल करेगा, सुधारों से मिलेगी मदद: पीएम मोदी
सुर्ख़ियों में 12 साल की बच्ची निहारिका: बचाए पैसे से तीन मजदूरों को वापस झारखंड भेजा
सुर्ख़ियों में 12 साल की बच्ची निहारिका: बचाए पैसे से तीन मजदूरों को वापस झारखंड भेजा
झारखंड के लिए 2 समेत राज्य सभा की 18 सीटों पर 19 जून को होगा चुनाव, सरगर्मी तेज
झारखंड के लिए 2 समेत राज्य सभा की 18 सीटों पर 19 जून को होगा चुनाव, सरगर्मी तेज
जल संसाधन विभाग में पिछले तीन साल के सभी टेंडरों की जांच होगी, हेमंत ने दिए आदेश
जल संसाधन विभाग में पिछले तीन साल के सभी टेंडरों की जांच होगी, हेमंत ने दिए आदेश
मशहूर संगीतकार 42 साल के वाजिद खान नहीं रहे, साजिद-वाजिद की जोड़ी हुई अधूरी
मशहूर संगीतकार 42 साल के वाजिद खान नहीं रहे, साजिद-वाजिद की जोड़ी हुई अधूरी
मानसून ने केरल में दी दस्तक, अब मौसम बारिश वाला
मानसून ने केरल में दी दस्तक, अब मौसम बारिश वाला
क्या लॉकडाउन की परवाह नहीं करतीं कांग्रेस विधायक अंबा, केरेडारी की सभा में भीड़ से उठते सवाल
क्या लॉकडाउन की परवाह नहीं करतीं कांग्रेस विधायक अंबा, केरेडारी की सभा में भीड़ से उठते सवाल
चक्रधरपुरः सर्च ऑपरेशन के दौरान नक्सली हमले में एसडीपीओ का बॉडीगार्ड शहीद, एक एसपीओ की भी मौत
चक्रधरपुरः सर्च ऑपरेशन के दौरान नक्सली हमले में एसडीपीओ का बॉडीगार्ड शहीद, एक एसपीओ की भी मौत
राहुल गांधी की बात कांग्रेस के मुख्यमंत्री भी नहीं सुनतेः रविशंकर प्रसाद
राहुल गांधी की बात कांग्रेस के मुख्यमंत्री भी नहीं सुनतेः रविशंकर प्रसाद

Stay Connected

Facebook Google twitter