जब डालटनगंज से रूट बदलकर सिर्फ एक युवती को लेकर रांची आई राजधानी एक्सप्रेस

जब डालटनगंज से रूट बदलकर सिर्फ एक युवती को लेकर रांची आई राजधानी एक्सप्रेस
Photo Courtesy: Daiinik Bhaskar.Com
पीबी ब्यूरो ,   Sep 04, 2020

दिल्ली से रांची आ रही राजधानी एक्सप्रेस गुरुवार की रात सिर्फ एक युवती (यात्री) को लेकर रांची पहुंची.

राजधानी एक्सप्रेस डालटनगंज से रूट बदलकर रांची पहुंची. इससे पहले छात्रा ने डालटनगंज में ट्रेन छोड़ कर बस अथवा कार से आगे की यात्रा करने से साफ इनकार कर दिया था.

इस ट्रेन के बी-3 बोगी में रांची एचईसी कॉलोनी की युवती अनन्या सफर कर रही थीं.

खबरों के मुताबिक रांची में एचइसी की रहने वाली यह छात्रा बीएचयू में पढ़ाई करती हैं. उनके पिता एचइसी के रिटायर अधिकारी हैं.

रूट बदलकर रांची आने में ट्रेन को लगभग 535 किलोमीटर का सफर करना पड़ा.सुबह लगभग साढ़े छह बजे डालटनगंज पहुंची यह ट्रेन दिन के साढ़े तीन बजे वहां से चली.

इसे भी पढ़ें: झारखंडः सुर्खियों में वे तीन शिक्षक, जिन्हें नवाजा गया राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार से

अगर यह ट्रेन डालटनगंज से टोरी होते हुए रांची आती तो उसे 308 किलोमीटर का सफर करना पड़ता.

रूट बदले जाने के बाद राजधानी एक्सप्रेस को डालटनगंज से गया-गोमो-बोकारो होते हुए रांची भेजा गया.

बुधवार की शाम से टोरी में रेलवे ट्रैक पर टाना भगतों का धरना प्रदर्शन चल रहा है.

लिहाजा इस मार्ग पर चलने वाली सभी यात्री ट्रेन और माल गाड़ियां बाधित हुई हैं. इसी दौरान गुरुवार की सुबह दिल्ली से रांची आ रही ट्रेन डालटनगंज में सुबह ही फंस गई.

इस ट्रेन पर करीब 750 यात्री सवार थे. इस दौरान डालटनगंज से रेलवे के अधिकारियों ने जब यात्रियों को रांची भेजे जाने के लिए बसों का इंतजाम किया तो छात्रा ने बस से जाने से इंकार कर दिया.

रेलवे के अधिकारियों ने छात्रा से बातचीत की और कहा कि कार इंतजाम कर देते हैं आप चले जाएं.

लेकिन छात्रा ने कहा, रेल का टिकट कटाया है. रेलवे की जिम्मेदारी है कि हमें निर्धारित जगह तक वह पहुंचाए. अधिकारियों ने शीर्ष स्तर पर बात कर छात्रा की जिद  की जाानकारी दी. इसके बाद ट्रेन को रूट बदल कर भेजा गया. 

ट्रेन में अकेली महिला यात्री होने की वजह से बोगी में महिला सुरक्षा कर्मी भी तैनात किए गए.

रांची पहुंचने पर अनन्या ने रेलवे को धन्यवाद कहा.


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
जेडीयू के दफ्तर में सीएम नीतीश से मिले गुप्तेश्वर पांडेय, 'सुशासन' की तारीफ की
जेडीयू के दफ्तर में सीएम नीतीश से मिले गुप्तेश्वर पांडेय, 'सुशासन' की तारीफ की
 मनमोहन सिंह की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत: राहुल
मनमोहन सिंह की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत: राहुल
झारखंडः सरना कोड की मांग पर गोलबंद होते आदिवासी संगठन, 15 अक्तूबर को राज्य व्यापी चक्का जाम करेंगे
झारखंडः सरना कोड की मांग पर गोलबंद होते आदिवासी संगठन, 15 अक्तूबर को राज्य व्यापी चक्का जाम करेंगे
पता नहीं, पीएम मोदी देश को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं, कृषि विधेयक सबसे बड़ा प्रहारः हेमंत सोरेन
पता नहीं, पीएम मोदी देश को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं, कृषि विधेयक सबसे बड़ा प्रहारः हेमंत सोरेन
गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का निधन, मखमली आवाज से प्रशंसकों के दिलों पर दशकों तक राज किए
गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का निधन, मखमली आवाज से प्रशंसकों के दिलों पर दशकों तक राज किए
बिहार विधानसभा चुनाव का बिगुल बजाः 28 अक्तूबर से तीन चरणों में मतदान, 10 नवंबर को नतीजे
बिहार विधानसभा चुनाव का बिगुल बजाः 28 अक्तूबर से तीन चरणों में मतदान, 10 नवंबर को नतीजे

Stay Connected

Facebook Google twitter