सुर्खियों में डालटनगंज की बेटी दीप ज्योति, कौन बनेगा करोड़पति में जीते 25 लाख रुपए

सुर्खियों में डालटनगंज की बेटी दीप ज्योति, कौन बनेगा करोड़पति में जीते 25 लाख रुपए
Facebook
पीबी ब्यूरो ,   Oct 09, 2019

झारखंड में डालटनगंज की रहने वाली दीप ज्योति ने कौन बनेगा करोड़पति (केबीसी 11) में 25 लाख रुपए जीत लिए हैं. दीप ज्योति ने आज 25 लाख रुपए के लिए प्रश्न का सही जवाब दिया.

मंगलवार की रात वो 12 लाख रुपए 50 हजार रुपए जीत चुकी थीं. जबकि यहां तक पहुंचने में उनकी चारों लाइफ लाइन खत्म हो गई थी. हालांकि 50 लाख रुपए के लिए पूछे गए 14वें प्रश्न के जवाब को लेकर वो संशय में थीं, लिहाजा उन्होंने यहीं पर खेल को छोड़ा. और वे क्विट कर गईं. 

संघर्ष और जुनून के बीच जिंदगी में आगे बढ़ती दीप ज्योति की अमिताभ बच्चन ने खूब तारीफ की. साथ ही मनोबल बढ़ाया. जबकि घर-घर में शो देख रहे लोगों के दिल में भी दीप ज्योति अपनी जगह बनाने में सफल रही हैं. 

पूरे खेल में दीप के चेहरे पर आत्मविश्वास झलकता रहा. और उन्होंने कभी तनाव नहीं लिया. वो समझदारी से प्रश्नों का जवाब देती नजर आईं.

इस सफलता के बाद उनके लिए बधाईयों का तांता लगा है. मां गदगद हैं, और बड़ी बहन भी नाज कर रही हैं. इस बीच पहली प्रतिक्रिया में दीप ज्योति ने कहा है- हौसले हों, तो सपने साकार किए जा सकते हैं. 

इसे भी पढ़ें: पलामू के पांकी रोड में ट्रक ने बाइक को रौंदा, दो युवकों की मौत

मेदिनीनगर, डालटनगंज शहर के कन्नी राम चौक के निकट सब्जी बाजार क्षेत्र निवासी दीप ज्योति निहायत साधारण घर की लड़की हैं.

घर चलाने के लिए वे डालटनगंज स्थित ब्राइट लैंड पब्लिक स्कूल में बच्चों को अबेकस पढ़ाती हैं. इसके साथ वे खुद भी बीएससी की पढ़ाई कर रही हैं. यूपीएससी की परीक्षा पास करना उनका लक्ष्य है.

फास्टेस्ट फिंगर फर्स्ट की रेस में अव्वल आकर दीप ज्योति हॉट सीट तक पहुंचीं. इस पर बैठकर उन्होंने अपने जीवन में देखे संघर्षों के बारे में अमिताभ बच्चन को बताया. दीप ज्योति के साथ उनकी मां गीता देवी भी शो में पहुंची थीं.  

हालांकि पहली बार में फास्टेस्ट फिगर फ‌र्स्ट में उनका चयन नहीं हो सकी. इसके बाद 28 को फिर फास्टेस्ट फिगर हुआ जिसमें वह सेलेक्ट हो गईं. 

हिम्मत के साथ आगे बढ़ने और इस मुकाम तक पहुंचने का श्रेय उन्होंने अपनी मां को दिया है. केबीसी पर सवालों के जवाब देने के साथ ही उन्होंने अमिताभ बच्चन को बताया कि वो मां के लिए एक अच्छा सा घर बनाना चाहती हैं. साथ ही बहन की शादी में भी पैसे की मदद करेंगी.  

19 साल की दीप ज्योति खुद और परिवार पर पड़ी तकलीफों को भूलना भी चाहती हैं. हालांकि शो के दौरान उन्होंने उन पुरानी बातों को भी साझा किया. उन्होंने बताया कि पिता डालटनगंज शहर में ही व्यवसाय करते थे.

Ms. Deepjyoti from Daltonganj, Jharkhand, will fill your heart with pride as she bravely talks about the struggles her family faced during her growing up years! Watch this courageous girl on the hotseat tonight at 9 PM only on #KaunBanegaCrorepati with @SrBachchan pic.twitter.com/ySwKptXacm

— Sony TV (@SonyTV) October 8, 2019

Deepjyoti decides to quit the game! We congratulate her on winning Rs. 25,00,000. #KBC11@SrBachchan

— Sony TV (@SonyTV) October 9, 2019

व्यवसाय में घाटा हुआ, तो वे साल 2005 में एक दिन घर छोड़कर चले गए. और फिर कभी नहीं लौटे. इसके बाद साल 2013 में दीप के भाई की कथित तौर पर हत्या कर दी गई. पैसे के अभाव में वेलोग केस मुकदमा नहीं लड़ सकी. हालांकि ये दास्तां बताते वक्त दीप खुद को संभाल कर रखा था.  

विपरीत परिस्थितियों में दीप ज्योति की मां ने सिलाई कर दो बेटियों को संभाला. इसके बाद दीप ज्योति ने बच्चों को ट्यूशन पढ़ाना शुरू किया और फिर निजी स्कूल में नौकरी पकड़ी. दोनों बहनों की पढ़ाई में मामा बैजनाथ प्रसाद गुप्ता भी मदद करते रहे. 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

पीएम मोदी ने अभिजीत बनर्जी से मुलाकात की, बोले, भारत को उनकी उपलब्धियों पर गर्व है
पीएम मोदी ने अभिजीत बनर्जी से मुलाकात की, बोले, भारत को उनकी उपलब्धियों पर गर्व है
आईएनएक्स मीडिया मामले में पी चिदंबरम को मिली जमानत
आईएनएक्स मीडिया मामले में पी चिदंबरम को मिली जमानत
राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवादः कोर्ट ने मुस्लिम पक्षकारों को लिखित नोट दाखिल करने की अनुमति दी
राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवादः कोर्ट ने मुस्लिम पक्षकारों को लिखित नोट दाखिल करने की अनुमति दी
महाराष्ट्र और हरियाणा में डाले जा रहे वोट, जानें दस अहम बातें
महाराष्ट्र और हरियाणा में डाले जा रहे वोट, जानें दस अहम बातें
कुंडली देख लें, टाटा हॉस्पिटल में मेरा जन्म हुआ है, हेमंत से ज्यादा झारखंडी हूं- रघुवर दास
कुंडली देख लें, टाटा हॉस्पिटल में मेरा जन्म हुआ है, हेमंत से ज्यादा झारखंडी हूं- रघुवर दास
जेएमएम की बदलाव रैली मे गरजे हेमंत, घमंड में चूर रघुवर दास का खेल अब खत्म होगा
जेएमएम की बदलाव रैली मे गरजे हेमंत, घमंड में चूर रघुवर दास का खेल अब खत्म होगा
'करतारपुर साहिब' को 70 साल तक दूरबीन से देखना पड़ा, अब दूरी खत्म होने वाली हैः नरेंद्र मोदी
'करतारपुर साहिब' को 70 साल तक दूरबीन से देखना पड़ा, अब दूरी खत्म होने वाली हैः नरेंद्र मोदी
जेएमएम का आरोप, पुलिस ने दागी जन प्रतिनिधियों के ब्योरे में सीएम और मंत्रियों के नाम छिपाए
जेएमएम का आरोप, पुलिस ने दागी जन प्रतिनिधियों के ब्योरे में सीएम और मंत्रियों के नाम छिपाए
आर्थिक मंदी से निपटने के लिए सरकार को कांग्रेस के घोषणापत्र से विचार चुराना चाहिए : राहुल गांधी
आर्थिक मंदी से निपटने के लिए सरकार को कांग्रेस के घोषणापत्र से विचार चुराना चाहिए : राहुल गांधी
नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी की सोच वामपंथ से प्रेरित है : पीयूष गोयल
नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी की सोच वामपंथ से प्रेरित है : पीयूष गोयल

Stay Connected

Facebook Google twitter