बजट से पहले कांग्रेस-जेएमएम ने अपना चुनावी घोषणा पत्र पढ़ना जरूरी नहीं समझाः रघुवर दास

बजट से पहले कांग्रेस-जेएमएम ने अपना चुनावी घोषणा पत्र पढ़ना जरूरी नहीं समझाः रघुवर दास
Publicbol (File Photo)
पीबी ब्यूरो ,   Mar 03, 2020

पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि कई बड़े वादे करके सत्ता में आई सरकार ने लोगों को छला है. हेमंत सरकार ने किसानों को सबल बनाने की योजना को बंद कर अपना किसान विरोधी चेहरा ही स्पष्ट किया है. बजट बनाने और पेश करने से पहले झामुमो-कांग्रेस को ख़ुद के चुनावी घोषणा पत्र को ध्यान से पढ़ना चाहिए था.

रघुवर दास ने कहा है कि हेमंत सोरेन सरकार ने जो बजट पेश किया है वह युवा, किसान, महिला, गरीबों के साथ धोखा है. 

किसानों को ऋण माफी के नाम पर भी धोखा दिया जा रहा है. युवाओं को जो सपने दिखाए गए थे उन्हें पूरा करने का कोई रोड़ मैप नहीं है. बजट में 5-7 हजार रुपये मात्र सालाना बेरोजगारी भत्ता देने की घोषणा की गई है. बजट बनाने से पहले झामुमो को ख़ुद के घोषणा पत्र को ध्यान से पढ़ना चाहिए था.

उन्होंने कहा कि झामुमो ने गरीब परिवारों को सालाना 72 हजार रुपये का देने का वादा किया था, लेकिन इस पर बजट में कोई चर्चा नहीं है. गरीब बेटियों की शादी में सोने का सिक्का और गृहस्थी के लिए जरूरी सामानों देने का वादा भी झामुमो ने किया था, लेकिन उस पर भी इस बजट में कुछ नहीं है. यहां भी गरीबों के साथ मजाक किया गया है.

सरकार बनने के दो महीने के भीतर ही राज्य सरकार को यह बात समझ में आ गई है कि झूठे वादे करना और सरकार चलाना दोनों अलग-अलग चीजें हैं. बड़े वादे करना आसान है, उन्हें पूरा करना नहीं.

इसे भी पढ़ें: दिल्ली हिंसा : भारत ने ईरान के राजदूत को क्यों किया तलब

वहीं दूसरी ओर हमारी सरकार की योजनाओं को नया नाम देकर चलाया जा रहा है. कल पेश श्वेत पत्र में भी हमारी जनहित योजनाओं को फिजूलखर्ची बताया गया, लेकिन आज बजट में हमारी अधिकतर योजनाओं को सही मानते हुए जारी रखा है.

रघुवर दास ने कहा, ''अगर योजना गलत थी तो एक रुपए में रजिस्ट्री, पेट्रोलियम पदार्थों में दी गयी छूट जैसी योजनाओं को वापस लेने की हिम्मत दिखती सरकार. कुल मिलाकर यह जनादेश के अनुरूप यह बजट नहीं है. गरीब महिलाओं को प्रतिमाह 2000 रुपये चूल्हा खर्च के रूप में देने की भी घोषणा की गई थी. पता नहीं उसका क्या हुआ.''


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कोरोना के बीच क्यों सुर्खियों में हैं डॉक्टर सुधीर डेहरिया
कोरोना के बीच क्यों सुर्खियों में हैं डॉक्टर सुधीर डेहरिया
उत्तर प्रदेश में 25 साल के युवक की मौत, देश भर में मरने वालों का आंकड़ा 35 तक पहुंचा
उत्तर प्रदेश में 25 साल के युवक की मौत, देश भर में मरने वालों का आंकड़ा 35 तक पहुंचा
बीजेपी बोली, झारखंड के धार्मिक स्थलों में ठहरे विदेशियों ने संक्रमण लाया और सरकार देखती रही
बीजेपी बोली, झारखंड के धार्मिक स्थलों में ठहरे विदेशियों ने संक्रमण लाया और सरकार देखती रही
निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन के बाद मेरठ और मुज्जफरनगर अलर्ट पर
निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन के बाद मेरठ और मुज्जफरनगर अलर्ट पर
कोरोना संकट के बीच तबलीगी जमात में अनुमानित 1700 लोग शामिल हुए थे,सख्त कार्रवाई होनी चाहिएः मंत्री
कोरोना संकट के बीच तबलीगी जमात में अनुमानित 1700 लोग शामिल हुए थे,सख्त कार्रवाई होनी चाहिएः मंत्री
प्रशांत किशोर ने कहा, नीतीश कुमार गद्दी छोड़ दें, जदयू का पलटवार, ट्वीट पर घटिया राजनीति मत करें
प्रशांत किशोर ने कहा, नीतीश कुमार गद्दी छोड़ दें, जदयू का पलटवार, ट्वीट पर घटिया राजनीति मत करें
सोशल मीडिया पर आपातकाल लगाने के संदेश फर्जी: सेना
सोशल मीडिया पर आपातकाल लगाने के संदेश फर्जी: सेना
 नजाकत समझें और संभलें, भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 32 हुई
नजाकत समझें और संभलें, भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 32 हुई
स्पाइसजेट का पायलट कोरोना वायरस से संक्रमित, चालक दल हुए होम क्वारंटाइन
स्पाइसजेट का पायलट कोरोना वायरस से संक्रमित, चालक दल हुए होम क्वारंटाइन
'मन की बात' में बोले पीएम मोदी, असुविधा के लिए क्षमा, पर इसके बिना कोई रास्ता नहीं था
'मन की बात' में बोले पीएम मोदी, असुविधा के लिए क्षमा, पर इसके बिना कोई रास्ता नहीं था

Stay Connected

Facebook Google twitter