कांग्रेस सबसे खराब दौर से गुजर रही,24x7 काम करने वाले नेतृत्व की जरूरत: कपिल सिब्बल

कांग्रेस सबसे खराब दौर से गुजर रही,24x7 काम करने वाले नेतृत्व की जरूरत: कपिल सिब्बल
पीबी ब्यूरो ,   Aug 28, 2020

कांग्रेस पार्टी के अंदरखाने जो कुछ चल रहा है वह अब सतह पर भी दिखने लगा है. इन सबके बीच पार्टी के वरिष्ठ नेता कांग्रेस अपने ऐतिहासिक रूप से सबसे खराब दौर से गुजर रही है.

उन्होंने कहा कि 2014 और 2019 के चुनाव परिणाम यह दर्शाते हैं. पार्टी को ऐसे नेतृत्व की आवश्यकता है तो 24 घंटे काम करने को तत्पर रहे. 

हिन्दुस्तान टाइम्सको दिए इंटरव्यू में कपिल सिब्बल ने कहा, 'हमारा इरादा पार्टी को पुनर्जीवित करना है. हम इसके पुनरुद्धार में भागीदार बनना चाहते हैं. यह पार्टी संविधान और कांग्रेस की विरासत के प्रति हमारी प्रतिबद्धता है और पूर्ण विश्वास है कि कांग्रेस को एक ऐसी सरकार का विरोध करने के लिए एक-दूसरों का सहयोग करने आवश्यकता है, जिसने उस बुनियाद को बर्बाद किया है, जिस पर भारतीय गणतंत्र बना है.'

कपिल सिब्बल उन 23 नेताओं में शामिल हैं, जिन्होंने कांग्रेस पार्टी में नेतृत्व बदलने समेत व्यापक सुधार की मांग को लेकर चिट्ठी लिखी थी. इस चिट्ठी को लेकर विवाद भी हुआ.  यह चिट्ठी कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को 7 अगस्त चिट्ठी लिखी गई थी.  

इंटरव्यू में कपिल सिब्बल ने कहा, 'अगर लोगों तक यह चिट्ठी पहुंची है तो उन्हें पता चल जाएगा कि यह गांधी परिवार सहित किसी का भी अपमान करने का प्रयास नहीं है. वास्तव में हमने अब तक नेतृत्व द्वारा प्रदान की गई सेवाओं की सराहना की है.'

इसे भी पढ़ें: लालू यादव के पुत्र तेजप्रताप के खिलाफ रांची में मुकदमा दर्ज, लॉकडाउन उल्लंघन का आरोप

वो चिट्टी सर्कुलेट हो

सिब्बल ने कहा 'मुझे लगता है कि इस चिट्ठी को सबके पास सर्कुलेट किया जाता तब वे सभी जो सीडब्ल्यूसी की बैठक में मौजूद थे, महसूस कर पाते कि यह (पत्र) कांग्रेस को मजबूत करने और पुनर्जीवित करने के बारे में है. उन लोगों में से एक ने भी 'देशद्रोही' शब्द का इस्तेमाल किया। काश उस बैठक में उपस्थित लोगों ने उसे फटकार लगाई होती.'

सिब्बल ने कहा, पार्टी संविधान के मद्देनजर संगठन की कुछ चीजों को फिर से स्थापित करने की जरूरत है. मुझे पार्टी और इसके संविधान का थोड़ा ज्ञान है. पार्टी के संविधान के हिसाब से कई ऐसी चीजें लाए जाने की जरूरत है जो कि अभी तक यहां नहीं है. पत्र का इरादा और भाषा का संर्दभ पार्टी संरचना से था न कि जगह से.

हम दिल से कांग्रेसी हैं

यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें भी निशाना बनाए जाने की आशंका है, सिब्बल ने कहा कि  हमें कोई डर नहीं है. हम दिल से कांग्रेसी हैं और हम बिना किसी डर के कांग्रेसी बने रहेंगे.

सिब्बल ने कहा मैं और बीजेपी उत्तरी ध्रुव और दक्षिणी ध्रुव हैं। हम कांग्रेस की विचारधारा के पक्षधर हैं और मौजूदा व्यवस्था (केंद्र में) का डटकर विरोध करते हैं. 

बता दें कि कांग्रेस पार्टी जनवरी में होने वाली अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की बैठक में अपने नए अध्यक्ष का चुनाव करेगी. वहीं, गुरुवार को एएनआई को दिए एक साक्षात्कार में गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस के अगले अध्यक्ष नियुक्त करने के बजाय चुनाव कराने पर जोर दिया.


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
जेडीयू के दफ्तर में सीएम नीतीश से मिले गुप्तेश्वर पांडेय, 'सुशासन' की तारीफ की
जेडीयू के दफ्तर में सीएम नीतीश से मिले गुप्तेश्वर पांडेय, 'सुशासन' की तारीफ की
 मनमोहन सिंह की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत: राहुल
मनमोहन सिंह की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत: राहुल
झारखंडः सरना कोड की मांग पर गोलबंद होते आदिवासी संगठन, 15 अक्तूबर को राज्य व्यापी चक्का जाम करेंगे
झारखंडः सरना कोड की मांग पर गोलबंद होते आदिवासी संगठन, 15 अक्तूबर को राज्य व्यापी चक्का जाम करेंगे
पता नहीं, पीएम मोदी देश को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं, कृषि विधेयक सबसे बड़ा प्रहारः हेमंत सोरेन
पता नहीं, पीएम मोदी देश को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं, कृषि विधेयक सबसे बड़ा प्रहारः हेमंत सोरेन
गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का निधन, मखमली आवाज से प्रशंसकों के दिलों पर दशकों तक राज किए
गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का निधन, मखमली आवाज से प्रशंसकों के दिलों पर दशकों तक राज किए
बिहार विधानसभा चुनाव का बिगुल बजाः 28 अक्तूबर से तीन चरणों में मतदान, 10 नवंबर को नतीजे
बिहार विधानसभा चुनाव का बिगुल बजाः 28 अक्तूबर से तीन चरणों में मतदान, 10 नवंबर को नतीजे

Stay Connected

Facebook Google twitter