बीजेपी को सुदेश की रजामंदी का इंतजार, आजसू 16 से कम पर नहीं तैयार

बीजेपी को सुदेश की रजामंदी का इंतजार, आजसू 16 से कम पर नहीं तैयार
Publicbol (File Photo)
पीबी ब्यूरो ,   Nov 08, 2019

झारखंड विधानसभा चुनाव को लेकर गठबंधन और सीटों के बंटवारे के लिए भारतीय जनता पार्टी को आजसू पार्टी की रजामंदी का इंतजार है. लेकिन जो  तस्वीरें उभरती दिखाई पड़ रहे हैं उसमें आजसू पार्टी 16 सीटों से कम पर तैयार होती नहीं दिखती.

इस बीच आज रात आजसू पार्टी के प्रमुख सुदेश कुमार महतो बीजेपी के बार-बार के बुलावे के बाद दिल्ली के लिए रवाना हुए हैं. दिल्ली में उनकी बात बीजेपी के शीर्ष नेताओं से होगी. लिहाजा दोनों दलों की नजरें दिल्ली पर टिकी है. 

इससे पहले बीजेपी के झारखंड चुनाव प्रभारी ओम माथुर से सुदेश कुमार महतो की बात हुई है. आगे नए सिरे से भी बात होगी.

2014 के चुनाव में गटबंधन के तहत आजसू पार्टी को बीजेपी ने आठ सीटें दी थी. इनमें आजसू ने पांच सीटों पर जीत दर्ज की थी. आजसू इस बार आठ- दस सीटों पर चुनाव लड़ने के पक्ष में नहीं है. 

2014 के चुनाव में आजसू ने लोहरदगा की सीट भी जीती थी. 2015 में हुए उपचुनाव में कांग्रेस के सुखदेव भगत की जीत हुई.

इसे भी पढ़ें: बीजेपी छोड़ कांग्रेस में शामिल हुए बरही के पूर्व विधायक उमाशंकर अकेला

पिछले महीने 23 अक्तूबर को सुखदेव भगत बीजेपी में शामिल हुए हैं. लिहाजा लोहरदगा सीट बीजेपी नहीं छोड़ना चाहती. और आजसू लोहरदगा पर अपवा वाजिब हक बता रही है. 

कमल किशोर भगत की पत्नी नीरू शांति लोहरदगा से इस बार चुनाव लड़ने की तैयारी में है. और कमल किशोर भगत खुद मोर्चा संभाले हुए हैं. 11 नवंबर को नीरू शांति नामांकन भी दाखिल करेंगी. 

इसी तरह चंदनकियारी सीट पर भी आजसू कोई समझौता करने के मूड में नहीं है. जबकि बीजेपी अपनी सरकार के मंत्री अमर बाउरी के लिए सीट आजसू को देने के पक्ष में नहीं है. आजसू प्रमुख सुदेश कुमार महतो हाल ही में पार्टी के चूल्हा प्रमुखों के सम्मेलन में कह चुके हैं कि पहले संगठन तब गठबंधन. 

आजसू की दावेदारी चक्रधरपुर, सिमरिया, हुसैनाबाद, डुमरी और गोमिया सीट पर फिलहाल बरकरार है. खबरों के मुताबिक बीजेपी हुसैनाबाद और पाकुड़ देने के पक्ष में है. 

उधर दिल्ली में बीजेपी में उम्मीदवारों के नाम तय करने की कोशिशें अंतिम मोड़ पर है. बुधवार की रात बीजेपी कोर कमेटी के की नेता दिल्ली पहुंचे थे. जबकि रघुवर दास और ओम माथुर गुरुवार को दिल्ली पहुंचे थे. दिल्ली का काम निपटा कर रघुवर दास आज ही लौट गए हैं. 

इससे पहले भाजपा नेताओं ने विधानसभा चुनाव के लिए प्रत्याशियों के नाम पर गुरुवार को दिल्ली में दिन भर मंथन किया. विधानसभा प्रभारी ओम माथुर के घर पर हुई मैराथन बैठक में भाजपा के आला नेताओं ने प्रत्याशियों के नाम की शार्ट लिस्टिंग कर ली है.

जबकि कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष ने राज्य के सभी 11 सांसदों से बात की है. सांसद के संबंधित क्षेत्र की विधानसभा सीटों पर प्रत्याशी के नाम पर चर्चा की गई और पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष ने सासंदों को अपने क्षेत्र की जवाबदेही भी सौंपी. 

खबरों के मुताबिक शनिवार को केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक हो सकती है. इससे पहले बीजेपी के आला नेता सुदेश कुमार महतो से बातचीत कर आजसू पार्टी का रुख जानेंगे.

आजसू का रुख स्पष्ट होने के बाद बीजेपी अपने पत्ते खोलेगी. बीजेपी ने पहले ही सभी सीटों पर उम्मीदवारों की सूची तैयार की है, ताकि गठबंधन नहीं बनने की स्थिति में वह निर्णायक दम उठा सके. शनिवार की रात तक बीजेपी कुछ उम्मीदवारों की सूची जारी कर सकती है.

दरअसल बीजेपी आजसू की दावेदारी पर सीधे तौर पर हां करने की स्थिति में नहीं है. बीजेपी यह महसूस कर रही है कि अधिक सीटें जीतने के लिए उसे अधिक सीटों पर लड़ना जरूरी है.  

जबकि आजसू कई सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारियों में महीनों से जुटी है. आजसू पार्टी के केंद्रीय उपाध्यक्ष हसन अंसारी कहते हैं कि पार्टी सम्मानजनक समझौते के पक्ष में है. पार्टी प्रमुख पिछले कई महीनों से अलग- अलग विधानसभा क्षेत्र में कार्यकर्ताओं और समर्थकों को लामबंद करते रहे हैं. 

इसे भी पढ़ें: झारखंडः सूची लेकर बीजेपी नेता दिल्ली शिफ्ट, उम्मीदवारों की बेचैनी बढ़ी, अगले तीन दिन बेहद अहम

हसन आगे कहते हैं कि 2014 की बात कुछ और थी. अब परिस्थितियां बदली है और हम सीटों पर मजबूती के हिसाब से ही दावेदारी कर रहे हैं. बड़े दल होने के नाते सब कुछ बीजेपी पर निर्भर करता है कि वह कैसे हमें साथ लेकर चलती है. पार्टी तर्क और तथ्यों के साथ वाजिब दावेदारी कर रही है. हम कभी अनर्गल बयानबाजी भी नहीं करते. क्योंकि हम अपना दायरा समझते हैं.  साथ ही आजसू ने हमेशा त्याग किया है. और स्थायी तथा काम करने वाली सरकार की पक्षधर रही है. आगे बीजेपी को तय करना है कि वह कैसे अपने लक्ष्य को हासिल कर सकती है. 8 से 12 सीटें पार्टी के हित और हक में नहीं है. 

इधर शुक्रवार की शाम दिल्ली से लौटे बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ ने जमशेदपुर में पत्रकारों से कहा है कि शनिवार को आजसू से गठबंधन पर बातचीत होगी. आजसू को आठ से 12 सीटें दी जा सकती हैं. शनिवार को संसदीय बोर्ड इस पर निर्णय लेगा. आजसू हमारा छोटा भाई है. बीजेपी गठबंधन धर्म का पालन करेगी.  


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

बीजेपी पीडीपी से हाथ मिला सकती है तो शिवसेना, एनसीपी-कांग्रेस के साथ क्यों नहीं : संजय राउत
बीजेपी पीडीपी से हाथ मिला सकती है तो शिवसेना, एनसीपी-कांग्रेस के साथ क्यों नहीं : संजय राउत
सोनिया गांधी, राहुल और प्रियंका की एसपीजी सुरक्षा वापस
सोनिया गांधी, राहुल और प्रियंका की एसपीजी सुरक्षा वापस
बीजेपी को सुदेश की रजामंदी का इंतजार, आजसू 16 से कम पर नहीं तैयार
बीजेपी को सुदेश की रजामंदी का इंतजार, आजसू 16 से कम पर नहीं तैयार
जनता के सामने बीजेपी का विकल्प है कांग्रेस-जेएमएम गठबंधनः आरपीएन सिंह
जनता के सामने बीजेपी का विकल्प है कांग्रेस-जेएमएम गठबंधनः आरपीएन सिंह
झारखंड़ में विपक्ष ने खोला मोर्चा, 43 सीटों पर लड़ेगा जेेएमएम, कांग्रेस के हिस्से 31 और राजद को 7 सीटें
झारखंड़ में विपक्ष ने खोला मोर्चा, 43 सीटों पर लड़ेगा जेेएमएम, कांग्रेस के हिस्से 31 और राजद को 7 सीटें
झारखंडः ये विधानसभा चुनाव है और नतीजे बताते हैं बीजेपी में शामिल होने से पसीने गुलाब नहीं होते
झारखंडः ये विधानसभा चुनाव है और नतीजे बताते हैं बीजेपी में शामिल होने से पसीने गुलाब नहीं होते
अयोध्या विवादः फैसले से पहले अलर्ट, 80 प्रमुख स्टेशनों पर सुरक्षा बढ़ाई गई
अयोध्या विवादः फैसले से पहले अलर्ट, 80 प्रमुख स्टेशनों पर सुरक्षा बढ़ाई गई
बेहतरीन अभिनेता संजीव कुमार पर लिखी जा रही जीवनी अगले साल प्रकाशित होगी
बेहतरीन अभिनेता संजीव कुमार पर लिखी जा रही जीवनी अगले साल प्रकाशित होगी
बीजेपी छोड़ जेएमएम में शामिल हुए समीर मोहंती, क्या बहरागोड़ा में कुणाल षाड़ंगी की नींद उड़ाएंगे
बीजेपी छोड़ जेएमएम में शामिल हुए समीर मोहंती, क्या बहरागोड़ा में कुणाल षाड़ंगी की नींद उड़ाएंगे
तमाम गतिरोध और अटकलों के बीच शिवसेना सांसद संजय राउत ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार से की मुलाकात
तमाम गतिरोध और अटकलों के बीच शिवसेना सांसद संजय राउत ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार से की मुलाकात

Stay Connected

Facebook Google twitter