सीपी सिंह का हेमंत को पत्रः 'आश्चर्य है, एक महीने बाद आपने जाना कि हिंदपीढ़ी से फैल रहा कोरोना का संक्रमण'

सीपी सिंह का हेमंत को पत्रः 'आश्चर्य है, एक महीने बाद आपने जाना कि हिंदपीढ़ी से फैल रहा कोरोना का संक्रमण'
पीबी ब्यूरो ,   Apr 29, 2020

रांची से बीजेपी के वरिष्ठ विधायक और रघुवर दास सरकार में मंत्री सीपी सिंह ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नाम एक पत्र लिखा है. इसमें सरकार पर तंज कसा है. सीपी सिंह ने कहा है, आश्चर्य है कि आपको ( मुख्यमंत्री) को पूरे एक महीने बाद पता चल सका कि हिंदपीढ़ी से कोराना का संक्रमण राज्य के कई दूसरे हिस्सों में पहुंचा और लोगों को खतरे में डाला. 

पिछले 27 अप्रैल को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने रांची में पत्रकारों से बातचीत में कहा था, ''कोरोना को लेकर राजधानी रांची का हिंदपीढ़ी इलाका पूरे राज्य में चर्चा के केंद्र में है. तमाम कोशिशों के बाद भी हमने यह पाया कि राज्य के कई हिस्सों में कोरोना संक्रमण का जुड़ाव हिंदपीढ़ी से रहा है. इसका मतलब है कि हिंदपीढ़ी वाले किसी कारण से दूसरी जगहों पर जा रहे हैं और लोगों की जान को भी खतरे में डाल रहे हैं. इसलिए लोग हिंदपीढ़ी में ही रहें. जांच में सहयोग करें. सरकार कोरोना के खतरे को टालने में जुटी है. और लगन के साथ जांच के लिए टीम उस इलाके में जा रही है.''

इसी संदर्भ में सीपी सिंह ने हेमंत सोरेन को पत्र लिखा है. इस पत्र को बीजेपी नेता ने ट्विटर पर साझा भी किया है. 

सीपी सिंह ने कहा है कि तमाम मीडिया में लगातार खबरें आती रही कि हिंदपीढ़ी में लॉक डाउन का लगातार उलंल्घन हो रहा है. बीजेपी नेता का कहना है कि भले ही हिंदपीढ़ी में पुलिस की तैनाती थी पर वे मूकदर्शक की भूमिका में ज्यादा रही. शायद उपर से पुलिस को यही आदेश मिला हो. 

उन्होंने कहा है कि लॉक डाउन का सख्ती से पालन कराया जाता, तो रांची समेत राज्य के कई इलाके को इन हालात से गुजरने की नौबत नहीं आती. 

इसे भी पढ़ें: बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूर नहीं रहे

सीपी सिंह ने कहा है, ''सच यह है कि तुष्टिकरण के फार्मूले पर सरकार की नजर थी और इस चलते प्रशासनिक ढील दी गई. जबकि वोट की कीमत जान से अधिक नहीं हो सकती. आखिर पुलिस स्थिति संभालने में विफल क्यों हुई और सीआरपीएफ की तैनाती से क्या हिंदपीढ़ी में लॉक डाउन के उल्लंघन नहीं होगा. ज्यादा जरूरी है कि हिंदपीढ़ी में सेना लगाकर कर्फ्यू लगा देना चाहिए, जिससे हिंदपीढ़ी का भी भला हो.''

सीपी सिंह ने रांची शहर में किराये पर रहने वाले हजारों लोगों की मुश्किलों की ओर भी सरकार का ध्यान दिलाया है. उन्होंने कहा है कि मामूली रोजगार और प्राइवेट नौकरियां करने वाले इन लोगों के सामने भोजन का संकट बना है.

जिनके पास राशन कार्ड नहीं हैं, उन्हें अनाज नहीं मिल रहे. विधायक ने यह भी कहा कि हम सरकारी आंकड़ों पर विश्वास नहीं करते. 

उन्होंने मुख्यमंत्री से कहा है कि संकट की इस घड़ी में राज्यवासियों की चिंता करने की ज्यादा जवाबदेही सरकार पर है. इसके साथ ही बीजेपी नेता ने लिखा है- ''दरख्त ए नीम हूं, मेरी लेखनी से घबराहट होगी. छांव ठंडी ही दूंगा, बशर्ते पत्ते में कड़वाहट होगी''. 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

मनोज तिवारी हटाए गए, आदेश गुप्ता को दिल्ली बीजेपी की कमान
मनोज तिवारी हटाए गए, आदेश गुप्ता को दिल्ली बीजेपी की कमान
भारत निश्चित ही अपनी आर्थिक वृद्धि फिर से हासिल करेगा, सुधारों से मिलेगी मदद: पीएम मोदी
भारत निश्चित ही अपनी आर्थिक वृद्धि फिर से हासिल करेगा, सुधारों से मिलेगी मदद: पीएम मोदी
सुर्ख़ियों में 12 साल की बच्ची निहारिका: बचाए पैसे से तीन मजदूरों को वापस झारखंड भेजा
सुर्ख़ियों में 12 साल की बच्ची निहारिका: बचाए पैसे से तीन मजदूरों को वापस झारखंड भेजा
झारखंड के लिए 2 समेत राज्य सभा की 18 सीटों पर 19 जून को होगा चुनाव, सरगर्मी तेज
झारखंड के लिए 2 समेत राज्य सभा की 18 सीटों पर 19 जून को होगा चुनाव, सरगर्मी तेज
जल संसाधन विभाग में पिछले तीन साल के सभी टेंडरों की जांच होगी, हेमंत ने दिए आदेश
जल संसाधन विभाग में पिछले तीन साल के सभी टेंडरों की जांच होगी, हेमंत ने दिए आदेश
मशहूर संगीतकार 42 साल के वाजिद खान नहीं रहे, साजिद-वाजिद की जोड़ी हुई अधूरी
मशहूर संगीतकार 42 साल के वाजिद खान नहीं रहे, साजिद-वाजिद की जोड़ी हुई अधूरी
मानसून ने केरल में दी दस्तक, अब मौसम बारिश वाला
मानसून ने केरल में दी दस्तक, अब मौसम बारिश वाला
क्या लॉकडाउन की परवाह नहीं करतीं कांग्रेस विधायक अंबा, केरेडारी की सभा में भीड़ से उठते सवाल
क्या लॉकडाउन की परवाह नहीं करतीं कांग्रेस विधायक अंबा, केरेडारी की सभा में भीड़ से उठते सवाल
चक्रधरपुरः सर्च ऑपरेशन के दौरान नक्सली हमले में एसडीपीओ का बॉडीगार्ड शहीद, एक एसपीओ की भी मौत
चक्रधरपुरः सर्च ऑपरेशन के दौरान नक्सली हमले में एसडीपीओ का बॉडीगार्ड शहीद, एक एसपीओ की भी मौत
राहुल गांधी की बात कांग्रेस के मुख्यमंत्री भी नहीं सुनतेः रविशंकर प्रसाद
राहुल गांधी की बात कांग्रेस के मुख्यमंत्री भी नहीं सुनतेः रविशंकर प्रसाद

Stay Connected

Facebook Google twitter