शहादत दिवसः शिद्दत से याद किए जा रहे धरती आबा बिरसा, जंगलों पठारों में अब भी लौटने का इंतजार

शहादत दिवसः शिद्दत से याद किए जा रहे धरती आबा बिरसा, जंगलों पठारों में अब भी लौटने का इंतजार
पीबी ब्यूरो ,   Jun 09, 2020

अंग्रेजों के ख़िलाफ़ जोरदार क्रांति करने वाले उलगुलान के महानायक धरती आबा बिरसा मुंडा की आज पुण्य तिथि है.

जगह- जगह उन्हें याद किया जा रहा है. सिर्फ 25 साल की आयु में आज ही के दिन रांची जेल में उन्होंने अंतिम सांस ली थी. 

बिरसा का जन्म झारखंड में खूंटी जिले के अड़की प्रखंड अंतर्गत उलिहातू में 15 नवंबर 1875 को हुआ था. उलिहातू में आज बिरसा को विशेष तौर पर श्रद्धांजिल दी जा रही है. यह जगह राजधानी रांची से करीब 70 किलोमीटर दूर है. 

उलिहातू के अलावा राजधानी रांची में भी बिरसा की समाधि स्थल, रांची जेल और जगह- जगह लगी मूर्तियों पर श्रद्धा सुमन चढ़ाए जा रहे हैं. बिरसा के सपने साकार हों, यह संकल्प दोहराए जा रहे हैं. 

दरअसल बिरसा के संघर्ष और आंदोलन ने उन्हें भगवान का दर्जा दिलाया है. 

इसे भी पढ़ें: उलिहातू से भोगनाडीह तक 506 किमी की पद यात्रा पर निकले युवा, छठी जेपीएससी रिजल्ट का विरोध

धरती आबा की याद में रांची जेल परिसर में सरकार बिरसा मुंडा संग्रहालय एवं स्मृति पार्क का निर्माण कराया जा रहा है.

रांची जेल में अब भी उनकी यादें बची है. बिरसा मुंडा में नेतृत्व करने की अपार और अद्भुत क्षमता थी. रसा ने जल, जंगल, जमीन की सुरक्षा, अस्मिता की खातिर अंग्रेजों और जमींदारों, शोषकों से लड़ाई लड़ी थी.

यह संघर्ष गाथा हर झारखंडी को गौरवान्वित करता है. बिरसा लोगों को दिलों में खेतों-खलिहानों, जंगल- पठार में बसते हैं. आदिवासियों के अरमानों में रहते हैं

बिरसा की जन्म स्थली खूंटी के उलहातू में भी गांव के लोग उनकी याद में उलगुलान के गीत गा रहे हैं. 

 उलगुलान के इस नायक को धरती आबा भी कहा जाता है. और दूरदराज के गांवों में आदिवासी अब भी उनके लौटने का इंतजार करते हैं.

झारखंड के अलावा देश के दूसरे राज्यों में भी आदिवासियों के बीच क्रांतिवीर के तौर पर पूजे जाते हैं.

उलिहातू गांव के पंचायत प्रतिनिधि सामुएल पूर्ति कहते हैं कि भगवान बिरसा के जन्म दिन पंद्रह नवंबर को (साल 2000) झारखंड अलग राज्य का गठन हुआ, लेकिन 20 बरस होने को हैं आदिवासियों के बीच खुशियां गुम हैं.

धरती आबा होते, तो एक और उलगुलान होता. सामुएल कहते हैं कि उलिहातू गांव के लोगों का हाल भी नहीं बदला. हम बस बिरसा की यादों को सीने में समेटे जीए जा रहे हैं. 

बिहार के बंटवारे के बाद 15 नवंबर 2000 को जब झारखंड अलग राज्य बना था, तो यहां के लोगों की ख़ुशियां, उम्मीदें और आकांक्षाएं उछाल मार रही थीं.

लेकिन समय के साथ लोगों की ख़ुशियां ख़त्म होती गईं और निराशा और हताशा के स्वर सुनाई पड़ने लगे.

जाहिर है कई मौके पर ये सवाल उठते रहे हैं कि क्या यही है बिरसा के सपनों का झारखंड. 

इसे भी पढ़ें: पलामूः लॉकडाउन में क्रिकेट मैच, जुटी भीड़, पुलिस को देखते ही भागमभाग, पांच गिरफ्तार

दरअसल, अलग राज्य गठन के बाद से भौगोलिक, प्रशासनिक, भाषाई अधिकार तो मिला, लेकिन संतुलित, सम्यक विकास और भविष्य का तानाबाना कहीं पीछे छूटता रहा. 

लिहाजा बिरसा के सपने पूरे हों, यह संकल्प दोहराये जा रहे हैं. उम्मीद कीजिए बिरसा के संघर्ष और बलिदान का दीया युगों तक जलता रहे. 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

जेडीयू के दफ्तर में सीएम नीतीश से मिले गुप्तेश्वर पांडेय, 'सुशासन' की तारीफ की
जेडीयू के दफ्तर में सीएम नीतीश से मिले गुप्तेश्वर पांडेय, 'सुशासन' की तारीफ की
 मनमोहन सिंह की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत: राहुल
मनमोहन सिंह की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत: राहुल
पता नहीं, पीएम मोदी देश को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं, कृषि विधेयक सबसे बड़ा प्रहारः हेमंत सोरेन
पता नहीं, पीएम मोदी देश को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं, कृषि विधेयक सबसे बड़ा प्रहारः हेमंत सोरेन
गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का निधन, मखमली आवाज से प्रशंसकों के दिलों पर दशकों तक राज किए
गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का निधन, मखमली आवाज से प्रशंसकों के दिलों पर दशकों तक राज किए
बिहार विधानसभा चुनाव का बिगुल बजाः 28 अक्तूबर से तीन चरणों में मतदान, 10 नवंबर को नतीजे
बिहार विधानसभा चुनाव का बिगुल बजाः 28 अक्तूबर से तीन चरणों में मतदान, 10 नवंबर को नतीजे
कृषि बिल के विरोध में किसानों का हल्ला बोल, समर्थन में तेजस्वी यादव ट्रैक्टर लेकर उतरे सड़क पर
कृषि बिल के विरोध में किसानों का हल्ला बोल, समर्थन में तेजस्वी यादव ट्रैक्टर लेकर उतरे सड़क पर
पीएम मोदी ने फिटनेस को लेकर कोहली से यो यो टेस्ट के बारे में पूछा, विरोट बोले, बेहद अहम है यह
पीएम मोदी ने फिटनेस को लेकर कोहली से यो यो टेस्ट के बारे में पूछा, विरोट बोले, बेहद अहम है यह
रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोरोना वायरस से निधन, एम्स में ली अंतिम सांस
रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोरोना वायरस से निधन, एम्स में ली अंतिम सांस
पलामू: टीपीसी का जोनल‌ कमांडर गिरेंद्र गंझू गिरफ्तार
पलामू: टीपीसी का जोनल‌ कमांडर गिरेंद्र गंझू गिरफ्तार
टाइम की सूचीः नरेंद्र मोदी दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों में, पर तल्ख टिप्पणी भी
टाइम की सूचीः नरेंद्र मोदी दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों में, पर तल्ख टिप्पणी भी

Stay Connected

Facebook Google twitter