बगोदरः हाथियों ने आदिवासी महिला और बच्ची को पटक कर मार डाला, अहले भोर गांव पहुंचे विनोद

बगोदरः हाथियों ने आदिवासी महिला और बच्ची को पटक कर मार डाला, अहले भोर गांव पहुंचे विनोद
Publicbol
पीबी ब्यूरो ,   Jul 16, 2019

झारखंड में छोटानागपुर से लेकर कोल्हान, कोयलांचल और संताल परगना में हाथियों का कहर जारी है. इसी सिलसिले में आज तड़के बगोदर के कोसी-कोंझिया में हाथियों ने एक आदिवासी महिला तुलिया देवी और दस साल की मल्हार बच्ची मेहथी कुमारी को पटक कर मार डाला.

इस घटना की खबर मिलते ही बगोदर से भाकपा माले के पूर्व विधायक विनोद कुमार सिंह गांव पहुंचे. उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों से बात कर गरीबों का हाल बताया. साथ ही तत्काल 50-50 हजार रुपए का मुआवजा दिलाया. अधिकारियों ने मुआवजे की बाकी राशि भी जल्दी देने का भरोसा दिलाया है. 

गौरतलब है कि हाथी के हमले में मारे जाने पर सरकार चार लाख रुपए मुआवजा देती है. घरों और फसलों के नुकसान पर मुआवजा की अलग- अलग राशि तय है. 

विनोद कुमार सिंह के साथ माले के प्रखंड सचिव पवन महतो और इंकलाबी नौजवान सभा के पूरन महतो भी गांव पहुंचे थे. ग्रामीणों ने बताया है कि अहले भोर तीन बजे ही हाथियों का झुंड पहुंचा था.

कोसी-कंझिया के टोलों में कई घरों में तोड़फोड़ करने के दौरान महिला और बच्ची को पटककर मार डाला. पूरा गांव काफी देर तक दहशत में रहा. कई लोग घरों मे दुबके रहे. खबर है कि सरिया इलाके में भी हाथियों ने की घरों में तोड़पोड़ की. 

इसे भी पढ़ें: दुमका- हंसडीहा मार्ग पर कंटेनर से टकराया ऑटो, दो की मौत

इस बीच घटना की जानकारी पूर्व विधायक को मिली. वे तड़के साढ़े चार बजे कंझिया गांव पहुंचे. उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों से फोन पर बात कर उन्हें गांव बुलाया. 

वन विभाग के अधिकारियों ने मुआवजे की बाकी राशि भी शीघ्र भुगतान करने का आश्वासन दिया है. पूर्व विधायक विनोद सिंह ने अधिकारियों को बताया कि साल में तीन से चार बार इस इलाके में हाथी उत्पात मचाते रहे हैं. जान- माल के नुकसान से गांवों को बचाने के लिए ठोस कदम उठाए जाएं. 

अधिकारियों के मुताबिक दुमका से हजारीबाग के जंगलों में आवाजाही के दौरान इस इलाके में हाथी उत्पात मचाते रहे हैं.  

गौरतलब है कि झारखंड के अलग- अलग इलाको में पिछले दो महीने के दौरान हाथियों ने कम से कम 23 लोगों को मार डाला है. इनमें अधिकतर मौतें आदिवासियों की हपई है. जबकि हाथियों ने सैकड़ों घरों में तोड़फोड़ की है. तमाम कागजी प्रयासों के बाद भी मुक्कमल तौर पर हाथी कोरीडोर नहीं होने से हमले की घटनाएं बढ़ी है. 

पिछले एक जून को रांची के कर्रा और लापुंग में एक ही दिन एक हाथी ने चार लोगों को कुचलकर मार डाला था. जबकि 22 जून को पोड़ैयाहाट में एक हाथी ने तीन लोगों को मार डाला था. 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कोरोना तेरे कारणः 124 वर्षों में पहली बार रद्द की गई बोस्टन मैराथन
कोरोना तेरे कारणः 124 वर्षों में पहली बार रद्द की गई बोस्टन मैराथन
ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में दी मंदिर-मस्जिद खोलने की इजाजत
ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में दी मंदिर-मस्जिद खोलने की इजाजत
छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन
छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन
चीन के साथ ताजा सीमा विवाद को लेकर नरेंद्र मोदी का मूड अच्छा नहीं है : डोनाल्ड ट्रंप
चीन के साथ ताजा सीमा विवाद को लेकर नरेंद्र मोदी का मूड अच्छा नहीं है : डोनाल्ड ट्रंप
लॉकडाउन के बाद गेंदबाजों के लिए लय हासिल करना मुश्किल होगा : ब्रेट ली
लॉकडाउन के बाद गेंदबाजों के लिए लय हासिल करना मुश्किल होगा : ब्रेट ली
रांचीः क्वारंटाइन में रहने के बाद गांधीनगर अस्पताल के डॉक्टर, नर्स ने फिर संभाला मोर्चा
रांचीः क्वारंटाइन में रहने के बाद गांधीनगर अस्पताल के डॉक्टर, नर्स ने फिर संभाला मोर्चा
प्रवासी मज़दूरों से किराया नहीं लिया जाए और खाना भी मुहैया कराएं- सुप्रीम कोर्ट
प्रवासी मज़दूरों से किराया नहीं लिया जाए और खाना भी मुहैया कराएं- सुप्रीम कोर्ट
चाईबासाः मुठभेड़ में पीएलएफआई की एक महिला समेत तीन उग्रवादी मारे गए, एके 47 बरामद
चाईबासाः मुठभेड़ में पीएलएफआई की एक महिला समेत तीन उग्रवादी मारे गए, एके 47 बरामद
अब लॉकडाउन खत्म करना ही होगा, इसे बढ़ाने का मतलब नहींः किरण मजूमदार शॉ
अब लॉकडाउन खत्म करना ही होगा, इसे बढ़ाने का मतलब नहींः किरण मजूमदार शॉ
फीस माफी पर निजी स्कूल राजी नहीं, जगरनाथ बोले, 'शिक्षा मंत्री की बात भी आपने नहीं मानी'
फीस माफी पर निजी स्कूल राजी नहीं, जगरनाथ बोले, 'शिक्षा मंत्री की बात भी आपने नहीं मानी'

Stay Connected

Facebook Google twitter