बाबा बैद्यनाथ मंदिर में एक दिन में 200 और बासुकीनाथ मंदिर में 160 लोग कर सकेंगे दर्शन

 बाबा बैद्यनाथ मंदिर में एक दिन में 200 और बासुकीनाथ मंदिर में 160 लोग कर सकेंगे दर्शन
Publicbol File Photo
पीबी ब्यूरो ,   Aug 26, 2020

झारखंड सरकार के गृह, कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग ने दुमका और देवघर के उपायुक्त को पत्र लिखा है. इसमें बाबा बैद्यनाथ मंदिर और बासुकीनाथ मंदिर में शर्तों के साथ आम लोगों के दर्शन की  अनुमति दी गई है.

विभाग ने उपायुक्तों से कहा गया है कि देवघर स्थित बाबा बैद्यनाथ मंदिर में एक घंटे में 50 जबकि बासुकीनाथ मंदिर में एक घंटे में 40 लोग दर्शन कर सकेंगे. दोनो मंदिर चार घंटे के लिए खुलेंगे. 

अहम बात यह होगी कि झारखंड के लोगों को ही दोनों ही मंदिरों में दर्शन की अनुमति होगी. साथ ही लोगों को दर्शन के लिए ऑनलाइन पास लेना अनिवार्य होगा.

झारखंड सरकार के गृह, कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा कोविड-19 को लेकर जो नियम और निर्देश जारी किए गए हैं, उनका भी पालन करना अनिवार्य होगा. नमें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन, मास्क पहनना और सैनिटाइजेशन शामिल है.

गौरतलब है कि कोरोना के खतरे को देखते हुए झारखंड सरकार ने राज्य में धार्मिक स्थलों को खोलने की इजाजत नहीं दी है. 

इसे भी पढ़ें: बीजेपी विधायक राज सिन्हा के बाद आजसू प्रमुख सुदेश महतो को जान मारने की धमकी


गोड्डा के बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने सावन के महीने मे पर बाबा मंदिर को भक्तों के दर्शन के लिए खोलने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी.

इस याचिका की सुनवाई करते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने 31 जुलाई को राज्य सरकार को भक्तों के लिए मंदिर खोलने का सुझाव दिया था.

कोर्ट ने देश के कई मंदिरों का हवाला देते हुए कोविड-19 के संक्रमण को ध्यान में रखकर सभी आवश्यक सावधानियों के साथ भक्तों को मंदिर परिसर में बाबा के दर्शन के लिए जाने की बात कही थी.

इसके बाद गृह, कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग की अनुमति से श्रावण मास की अंतिम सोमवारी, 3 अगस्त को बाबा वैद्यनाथ मंदिर को सीमित संख्या में भक्तों को दर्शन के लिए खोला गया था. देवघर में 30 भक्तों ने बाबा की पूजा अर्चना की थी. 

सावन के बाद सरकार के निर्देश के इंतजार में मंदिर नहीं खोले जा रहे थे. लेकिन अब फिर से सीमित संख्या में श्रद्धालु मंदिरों में पूजा अर्चना कर सकेंगे. 


(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोकप्रिय

कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
कृषि विधेयक किसानों के लिए मौत की सजा हैं: राहुल गांधी
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
पप्पू यादव ने बनाया प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन, कहा, 30 साल के महापाप को खत्म करना है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
लवली आनंद ने राजद का दामन थामा, बोलीं, नीतीश सरकार ने धोखा दिया है
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
मत विभाजन की मांग के वक्त सांसद शिवा सीट पर थे, पर सदन का ऑर्डर में होना महत्वपूर्णः हरिवंश
जेडीयू के दफ्तर में सीएम नीतीश से मिले गुप्तेश्वर पांडेय, 'सुशासन' की तारीफ की
जेडीयू के दफ्तर में सीएम नीतीश से मिले गुप्तेश्वर पांडेय, 'सुशासन' की तारीफ की
 मनमोहन सिंह की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत: राहुल
मनमोहन सिंह की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत: राहुल
झारखंडः सरना कोड की मांग पर गोलबंद होते आदिवासी संगठन, 15 अक्तूबर को राज्य व्यापी चक्का जाम करेंगे
झारखंडः सरना कोड की मांग पर गोलबंद होते आदिवासी संगठन, 15 अक्तूबर को राज्य व्यापी चक्का जाम करेंगे
पता नहीं, पीएम मोदी देश को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं, कृषि विधेयक सबसे बड़ा प्रहारः हेमंत सोरेन
पता नहीं, पीएम मोदी देश को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं, कृषि विधेयक सबसे बड़ा प्रहारः हेमंत सोरेन
गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का निधन, मखमली आवाज से प्रशंसकों के दिलों पर दशकों तक राज किए
गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का निधन, मखमली आवाज से प्रशंसकों के दिलों पर दशकों तक राज किए
बिहार विधानसभा चुनाव का बिगुल बजाः 28 अक्तूबर से तीन चरणों में मतदान, 10 नवंबर को नतीजे
बिहार विधानसभा चुनाव का बिगुल बजाः 28 अक्तूबर से तीन चरणों में मतदान, 10 नवंबर को नतीजे

Stay Connected

Facebook Google twitter